निघासन के बाढ़ग्रस्त इलाकों में पहुंचीं नोडल अफसर:बाढ़ पीड़ितों से मिलीं, मदद का दिया भरोसा, गुरुद्वारे पर मत्था टेका

लखीमपुर-खीरी3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कलेक्ट्रेट स्थित पीडब्ल्यूडी गेस्ट हाउस में अफसरों की बैठक के बाद नोडल अधिकारी मिनिस्ती एस ने निघासन तहसील के बाढ़ग्रस्त इलाकों का दौरा कर प्रभावितों से संवाद किया। नोडल अधिकारी ने सीडीओ अनिल कुमार सिंह व एडीएम संजय कुमार सिंह के साथ निघासन के बाढ़ग्रस्त इलाके देखे।

उन्होंने तिकुनिया से कौड़ियाला गुरुद्वारे जाने वाले पीएमजेएसवाई मार्ग को देखा। ये मार्ग बाढ़ के कारण छतिग्रस्त हो गया है। अफसरों को निर्देश दिए कि शुक्रवार को पीएमजीएसवाई, पीडब्ल्यूडी निर्माण खंड तृतीय एवं आरईडी के अधिशासी अभियंता संयुक्त रूप से भ्रमण कर क्षतिग्रस्त मार्ग को तत्काल दुरुस्त कराएं।

गुरुद्वारे में टेका मत्था

नोडल अफसर ने निर्देश दिए कि क्षतिग्रस्त मार्ग पर चेतावनी बोर्ड लगाते हुए रेडियम पट्टी लगवाएं ताकि दुर्घटना से बचा जा सके। इसके बाद नोडल अफसर ने कौड़ियाला गुरुद्वारा पहुंचकर सिख समुदाय के लोगों से बातचीत करके बाढ़ की वस्तुस्थिति जानी। राहत बचाव कार्यों के संबंध में जानकारी ली। इसके बाद उन्होंने गुरुद्वारे में माथा टेका, जनपद की खुशहाली, समृद्धि की कामना की।

नोडल अफसर ने नक्शा देखकर बाढ़ में डूबे मार्गों को चिन्हित किया।
नोडल अफसर ने नक्शा देखकर बाढ़ में डूबे मार्गों को चिन्हित किया।

कौड़ियाला जनकपुर भी पहुंचीं

नोडल अधिकारी बाढ़ग्रस्त ग्राम कौड़ियाला जनकपुर पहुंचीं, जहां उन्होंने ग्रामीणों से बातचीत कर प्रशासन की ओर से उपलब्ध कराई गई राहत अन्य सहायता के संबंध में जानकारी ली।नोडल अधिकारी ने भरोसा दिया कि इस संकट में शासन-प्रशासन उनके साथ खड़ा है।

उन्होंने मोहाना-कर्णाली नदी के किनारे बड़े गुरुद्वारे की सुरक्षा के लिए कटाव निरोधक कार्य की परियोजना देखी। ग्रामीणों ने बताया कि इस परियोजना के बनने से गांव सुरक्षित है। बंधे पर एक्सईएन (बाढ़ खंड) राजीव कुमार ने नक़्शे के जरिए कटावरोधी परियोजना के तकनीकी पहलू बताए।

नयापिंड में बाढ़ प्रभावितों का जाना दुख

देखा स्वच्छता, छिड़काव अभियान*इसके बाद अफसरों का काफिला बाढ़ग्रस्त गांव नयापिंड पहुंचा, जहां नोडल अफसर सड़क से पैदल गांव तक पहुंचकर प्रभावितों से मुलाकात कर संवाद किया, उन्हें प्रशासन की ओर से मिलने वाली राहत सामाग्री, भोजन पैकेट वितरण की पुष्टि की। उन्होंने बाढ़ पीड़ितों से बेहद आत्मीयता से बातचीत की, उनका दुख-दर्द साझा किया। प्रशासन को ग्रामीणों की हर संभव मदद करने के निर्देश दिए। बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में संक्रामक बीमारियों से बचाने के लिए स्वच्छता, सैनेटाइजेशन और छिड़काव का अभियान युद्धस्तर पर चल रहे अभियान की जमीनी हकीकत जानी। उन्होंने निर्देश दिए कि यह कार्य तब तक जारी रह। जबतक जमीन पूरी तरह सूख न जाए। गांव में किसी तरह की गंदगी न रहे। इस दौरान सीडीओ अनिल कुमार सिंह, एडीएम संजय कुमार सिंह, एक्सईएन (बाढ़खंड) राजीव कुमार, एसडीएम राजेश कुमार, बीडीओ राकेश कुमार, प्रीति तिवारी सहित संबंधित अधिकारी-कर्मचारी मौजूद रहे।

गुरुद्वारे के पास बनाए बंधे को देखतीं नोडल अधिकारी।
गुरुद्वारे के पास बनाए बंधे को देखतीं नोडल अधिकारी।

नयापिंड में बाढ़ प्रभावितों का जाना दुख

अफसरों का काफिला बाढ़ग्रस्त गांव नयापिंड पहुंचा, जहां नोडल अफसर सड़क से पैदल गांव तक पहुंचकर प्रभावितों से मुलाकात कर संवाद किया, उन्हें प्रशासन की ओर से मिलने वाली राहत सामाग्री, भोजन पैकेट वितरण की पुष्टि की। उन्होंने बाढ़ पीड़ितों से बेहद आत्मीयता से बातचीत की, उनका दुख-दर्द साझा किया।

सभी प्रकार कर मदद का आश्वासन

प्रशासन को ग्रामीणों की हर संभव मदद करने के निर्देश दिए। बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में संक्रामक बीमारियों से बचाने के लिए स्वच्छता, सैनेटाइजेशन और छिड़काव का अभियान युद्धस्तर पर चल रहे अभियान की जमीनी हकीकत जानी। उन्होंने निर्देश दिए कि यह कार्य तब तक जारी रह। जबतक जमीन पूरी तरह सूख न जाए। गांव में किसी तरह की गंदगी न रहे। इस दौरान सीडीओ अनिल कुमार सिंह, एडीएम संजय कुमार सिंह, एक्सईएन (बाढ़खंड) राजीव कुमार, एसडीएम राजेश कुमार, बीडीओ राकेश कुमार, प्रीति तिवारी सहित संबंधित अधिकारी-कर्मचारी मौजूद रहे।