ललितपुर में कमिश्नर ने जिला अस्पताल का किया निरीक्षण:12 दिनों में मिले कुल 154 मरीज, एक दिन में सामने आए 45 संक्रमित

ललितपुर9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
ललितपुर में कमीश्नर ने जिला अस्पताल का किया निरीक्षण - Dainik Bhaskar
ललितपुर में कमीश्नर ने जिला अस्पताल का किया निरीक्षण

ललितपुर में कोरोना की तीसरी लहर ने रफ्तार पकड़ ली और शुक्रवार को 6 बच्चों सहित 45 लोग कोरोना पॉजिटिव पाये गये, जिसके बाद 12 दिनों में एक्टिव मरीजों की संख्या 154 पहुंच गई है। वहीं ग्रामीण क्षेत्रों में बढते कोरोना मरीजों संख्या को देखते हुए मण्डलायुक्त ने जिला अस्पताल में की गई तैयारियों का निरीक्षण कर अधिकारियों को दिशा निर्देश दिये।

6 बच्चों की रिपोर्ट भी आई संक्रमित

शुक्रवार की शाम स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी किये गये कोरोना बुलेटिन की रिपोर्ट में बताया गया है कि 24 घंटे में कोविड जांच के लिए सैम्पल लिये गये थे। जिनमें 6 बच्चों सहित 45 लोगों की कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट आई है। जिसमें मोहल्ला आजादपुरा में एक वर्ष के बच्चे की कोरोना पॉजीटिव जांच पाई गई है। वहीं कस्बा तालबेहट में 12 वर्षीय बालक, इसके अलावा विकासखण्ड जखौरा के ग्राम हर्षपुर के मजरा श्यामगुल्ला में एक ही परिवार के आधा दर्जन लोग कोरोना पॉजीटिव पाये गये है। जिनमें 8 व 12 वर्ष के एक-एक एवं 10 वर्ष का एक कुल चार बच्चे कोरोना पॉजीटिव पाये गये है। इसके अलावा कस्बा महरौनी, ग्राम अगौरा महरौनी सहित शहर के नईबस्ती व कस्बा तालबेहट में कोरोना पॉजीटिव मरीज पाये गये है। जिले में 45 मरीज कोरोना पॉजीटिव पाये गये। ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना पॉजीटिव मरीज पाये जाने से चिन्ताएं बढने लगी है। क्योंकि ग्रामीण क्षेत्रों में अधिकतर लोग सोशल डिस्टेंसिंग व मास्क लगाने का पालन नहीं कर रहे है।

200 बेड व 20 वेंटिलेटर है उपलब्ध

झांसी मण्डल के मण्डलायुक्त व जिले के नोडल अधिकारी डा. अजयशंकर पाण्डेय ने कोविड-19 एवं संचारी रोगों पर नियंत्रण एवं बचाव आदि व्यवस्थाओं का जायजा लेने के लिए शुक्रवार की दोपहर जिला चिकित्सालय का निरीक्षण किया। यहां पर उन्होंने ऑक्सीजन प्लाण्ट का निरीक्षण किया, जहां पर सीएमओ ने बताया कि ऑक्सीजन प्लांट की स्थापना 10 अगस्त को हुई थी, मौके पर आयुक्त ने प्लाण्ट की क्रियाशीलता एवं संचालन के बारे में जानकारी प्राप्त की। इसके बाद उन्होंने कोविड आई.सी.यू. वार्ड में पहुंचे जहां पर सी.एम.एस. ने बताया कि आई.सी.यू. वार्ड-2 में 8 वैन्टिलेटर एवं 30 कन्सन्ट्रेटर हैं। उन्होंने यह भी बताया अस्पताल में कुल 200 बैड एवं 20 वैन्टिलेटर उपलब्ध हैं। मौके पर सभी मशीनें क्रियाशील पायी गईं। मण्डलायुक्त ने निर्देश दिये कि सभी 200 बैडों तक ऑक्सीजन सप्लाई की निगरानी रखें। साथ ही अपर निदेशक स्वास्थ्य समय-समय पर जिला चिकित्सालय का निरीक्षण कर रिपोर्ट उपलब्ध करायें। इसके बाद मण्डलायुक्त ने पीकू वार्ड का निरीक्षण किया, यहां पर बताया गया कि पीकू वार्ड में वर्तमान में 20 बैड बच्चों के लिए उपलब्ध हैं। अभी पीकू वार्ड में कोई भी बच्चा भर्ती नहीं है। बच्चों के भोजन सम्बंधी खाद्य पदार्थों की जांच हेतु दो न्यूट्रीशियन्स इस वार्ड में तैनात किये गए हैं। आपातकालीन परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए इस वार्ड में मॉकड्रिल कराया जा चुका है।

खबरें और भी हैं...