पाली में रामलीला का मंचन:हनुमान ने कराई श्रीराम-सुग्रीव में मित्रता, जली रावण की सोने की लंका

पाली3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पाली में नीलकंठेश्वर आदर्श रामलीला मंडल के तत्वाधान में मुख्य बाजार में रामलीला चल रही है। गुरुवार की रात बालि वध और लंका दहन लीला का मंचन किया गया।

शुभारंभ देवेंद्र चौरसिया, श्रीकांत चौरसिया, मोहित चौरसिया व विमल कुशवाहा ने भगवान राम की आरती उतार कर किया।

माता सीता की तलाश में निकले श्रीराम

कलाकारों ने मंचन से दिखाया कि भटकते राम और लक्ष्मण सीता की खोज कर रहे थे। तभी हनुमान ने उनकी भेंट हुई। हनुमान जी ने सुग्रीव से उनकी मित्रता कराई। सुग्रीव के कहने पर राम ने बाली का वध किया। इसके बाद सुग्रीव को किसकंधा पर्वत का राजा बना दिया। वानर सेना सीता की खोज में निकल पड़ी। हनुमान जी लंका जाते हैं जहां उन्हें अशोक वाटिका में सीता माता मिल जाती हैं।

पाली में रामलीला का मंचन करते कलाकार।
पाली में रामलीला का मंचन करते कलाकार।
पाली में रामलीला का मंचन करते कलाकार।
पाली में रामलीला का मंचन करते कलाकार।

हनुमान जी ने लंका में लगाई आग

अशोक वाटिका उजाड़ने पर मेघनाथ हनुमान को पकड़कर के दरबार ले जाते हैं। रावण के कहने पर हनुमान की पूंछ में आग लगा दी जाती है। हनुमान लंका जला देते हैं। सुमित वैद्य, अभय नायक, कृष्ण कांत, रामकुमार कांकड़, मुरारी चौरसिया, गणेश चौरसिया, मोहनलाल चौरसिया, अभिषेक चौरसिया, भरत कुशवाहा, प्रशांत दुबे, पुष्पेंद्र चौरसिया, विमल कुशवाहा, रोहित चौरसिया, रोहित कुशवाहा, रजनीकांत, अमित साहू, पुनीत चौरसिया, अमित पांडेय, आजाद खां मंसूरी आदि मौजूद रहे। व्यास पीठ पर अब्बू चौरसिया रहे। संचालन नीरज राही, गोविंद नामदेव ने किया।

खबरें और भी हैं...