पाली में नाबालिग के साथ दुष्कर्म का मामला:SIT टीम ने कस्टडी रिमांड पर लेकर आरोपियों से की पूछताछ, मुख्य आरोपी ने दी कई महत्वपूर्ण जानकारियां

पाली3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

ललितपुर के पाली में नाबालिग के साथ दुष्कर्म के मामले में एसआईटी टीम ने आरोपियों को कस्टडी रिमांड में लेकर पूछताछ की। इस दौरान मुख्य आरोपी ने कई महत्वपूर्ण जानकारियां टीम को दी है। कई घंटे चली पूछताछ में टीम ने अपनी जांच आगे की पूरी की। चर्चित आरोपी चंदन समेत छह आरोपी जेल में है।

अधिक साक्ष्य जुटाने में लगी टीम
पुलिस विवेचना के दौरान टीम अधिक से अधिक साक्ष्य जुटाने में लगी हुई है। एसआईटी टीम द्वारा दुष्कर्म मामले के मुख्य आरोपी चंदन एवं हरिशंकर को पाली थाने ले गई, जहां पर पीड़िता की मौसी के घर लेकर पहुंचे। जहां पर जांच-पड़ताल कर साक्ष्य जुटाए।

सभी आरोपी जेल में
सामूहिक दुष्कर्म का शिकार 13 साल की युवती के साथ 27 अप्रैल को पाली थाने के इंस्पेक्टर तिलकधारी सरोज ने थाना परिसर में अपने आवास में दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया था। इस मामले में पाली थाने के इंस्पेक्टर तिलकधारी समेत राजभान, महेंद्र, हरिशंकर, चंदन और सडयंत्र में शामिल पीड़िता की मौसी के खिलाफ कई धाराओं में मामला दर्ज किया गया था। पुलिस ने सभी आरोपियों को पकड़ कर जेल भेज चुकी है।

तेजी से चल रही एसआईटी जांच
इस प्रकरण में पुलिस की भी काफी किरकिरी हो चुकी है। शासन स्तर से हर जानकारी के बाद जांच रिपोर्ट भी तलब की गई है। अब इस प्रकरण की एसआईटी जांच तेजी के साथ चल रही है। सोमवार को एसआईटी कस्टडी रिमांड मिलने के साथ आरोपी चंदन एवं हरिशंकर अहिरवार को पाली थाने ले जाया गया। जहां पर पूछताछ का सिलसिला चलता रहा।

एडीजी और डीआईजी मामले पर बनाए हुए हैं नजर
घटनाक्रम से लेकर हर पहलू को खंगाला जा रहा है। कस्टडी रिमांड मिलने के बाद पुलिस ने काफी जानकारियां हासिल की। इस प्रकरण में सीधी नजर एडीजी भानु भास्कर व डीआईजी जोगेंद्र कुमार नजर रखे हुए हैं। विवेचना से लेकर प्रत्येक जांच की निगरानी की जा रही है। अधिकारियों को भी निर्देश दिए गए हैं कि इसको लेकर अधिकारी भी अपने स्तर से जांच कर रहे हैं।

इस मामले में इंस्पेक्टर को निलंबित करने के साथ ही थाने के पुलिसकर्मियों को लाइन हाजिर किया जा चुका है। अधिकारी किसी भी स्तर पर लापरवाही बरतने के मूड में नहीं है। आरोपियों पर सख्त से सख्त कार्रवाई की जा चुकी है।

ये था मामला
बता दें कि ललितपुर के पाली थाने में गैंगरेप की शिकायत करने पहुंची 13 साल की किशोरी से एसएचओ पर रेप का आरोप लगा था। पीड़िता को बयान दर्ज करने के बाद एसएचओ बहाने से थाने के कमरे में ले गया था। वहां उसके साथ दुष्कर्म किया। इस बात का खुलासा चाइल्ड लाइन NGO की काउंसलिंग में पीड़िता ने किया था। इसके बाद पीड़िता की मां ने इंस्पेक्टर समेत 6 के खिलाफ रेप, बहला-फुसलाकर भगाने समेत पॉक्सो एक्ट में सोमवार को केस दर्ज कराया है। एसपी निखिल पाठक ने SHO को सस्पेंड कर दिया गया था।

खबरें और भी हैं...