मोहनलालगंज में भटक रहा था लोकतंत्र सेनानी:पुलिस ने परिजनों से मिलाया, भाई से नाराजगी के चलते बुजुर्ग ने छोड़ा था घर

मोहनलालगंज4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

लखनऊ के मोहनलालगंज क्षेत्र में अपनों से नाराज होकर घर छोड़ने के बाद दर-दर की ठोकरे खा रहे बुजुर्ग लोकतंत्र सेनानी को कस्बे में भटकता देखा गश्त पर निकले हल्का इंचार्ज ने अपनों से मिलाने की ठानी। फिर क्या धूप में हाइवे किनारे बैठे बुजुर्ग को सहारा देकर हल्का इंचार्ज अपने साथ चौकी पर लेकर गये। खाना खिलाने के बाद बुजुर्ग लोकतंत्र सेनानी द्वारा छोटे भाई के बताये गये पते पर सम्पर्क कर सूचना दी। तब जाकर मोहनलालगंज पहुंचा छोटा भाई उन्हें अपने साथ खुशी-खुशी घर लेकर गया।

मोहनलालगंज कस्बा इंचार्ज राजेन्द्र प्रसाद यादव ने बताया बुधवार को वह कस्बे में पुलिस संग गश्त कर रहे थे, तभी बाला जी मंदिर के पास एक 70 साल के असहाय बुजुर्ग को सड़क किनारे बैठा देख उसके पास पहुंचे तो वो भीषण गर्मी में हांफ रहा था और चलने में भी असमर्थ था। जिसके बाद चौकी लाकर बुजुर्ग को पानी पिलाने के साथ खिलाया।

पूछताछ में बुजुर्ग ने अपना नाम सुमेर चन्द्र निवासी बसंतपुर थाना रामनगर,जनपद बाराबंकी बताया। बुजुर्ग ने बताया वो लोकतंत्र सेनानी है ओर काफी समय से लखनऊ के थाना नाका के हरिनगर में अपने छोटे भाई लल्लू मिश्रा के साथ बीते बीस वर्षो से रह रहा था।

बीते मगंलवार को किसी बात को लेकर नाराजगी के बाद घर छोड़ने की बात बताई। हल्का इंचार्ज के काफी समझाने बुझाने के बाद बुजुर्ग सुमेर, छोटे भाई के घर जाने को तैयार हुआ। जिसके बाद दारोगा ने उसके भाई लल्लू से मोबाइल फोन पर सम्पर्क कर बुजुर्ग लोकतंत्र सेनानी सुमेर के मोहनलालगंज में होने की बात कही।

जिसके बाद छोटा लल्लू परिजनों संग मोहनलालगंज कस्बे में स्थित चौकी पहुंचा ओर बड़े भाई को सकुशल देख रो पड़ा। दारोगा सहित पुलिसकर्मियों को धन्यवाद कहकर छोटा भाई लल्लू अपने बड़े भाई सुमेर चन्द्र को खुशी-खुशी साथ लेकर घर को रवाना हुआ।

खबरें और भी हैं...