• Hindi News
  • National
  • 6 Months Left In UP Elections; Parties Are Busy In Cultivating Castes And Persuading Their Sects, Preparations For Assembly Elections Intensified

यूपी का रण:विधानसभा चुनाव की तैयारी तेज, यूपी चुनाव में 6 माह बाकी; जातियों को साधने व रूठों को मनाने में जुटी हैं पार्टियां

लखनऊ3 महीने पहलेलेखक: विजय उपाध्याय
  • कॉपी लिंक
यूपी में विभिन्न दलों ने चुनाव के लिए तैयार रणनीति पर काम शुरू कर दिया है। - Dainik Bhaskar
यूपी में विभिन्न दलों ने चुनाव के लिए तैयार रणनीति पर काम शुरू कर दिया है।

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में महज 6 महीने बाकी रह गए हैं। पूरे देश की नजर यूपी चुनाव पर रहती है। इसके लिए विभिन्न दलों ने चुनाव के लिए तैयार रणनीति पर काम शुरू कर दिया है। भाजपा संगठन और सरकार के साथ तालमेल से 2022 में एक बार फिर बहुमत हासिल करने का लक्ष्य पर काम कर रही है। इसके लिए राज्य के करीब 1.15 लाख बूथ को मजबूत करने में जुटी है। 11 सितंबर से 27 हजार से ज्यादा शक्ति केन्द्रों को सक्रिय किया गया है। एक शक्ति केंद्र में 2 से ज्यादा बूथ हैं।

इनके नीचे बूथ कमेटी और मतदाता सूची के हर पेज के लिए पन्ना प्रमुख बनाए गए हैं। प्रबुद्ध सम्मेलन, पिछड़ा, किसान व महिला मोर्चा आदि के साथ जाति समूहों को जोड़ने के सम्मेलनों की झड़ी लगी है। पीएम नरेंद्र मोदी के जन्मदिन 17 सितंबर से 7 अक्टूबर तक पार्टी जनता के बीच जनसेवा कार्यों को लेकर जाएगी। 19 सितंबर को योगी सरकार के साढ़े चार साल पूरे होने पर राज्य के सभी 825 ब्लॉक में गरीब कल्याण मेले आयोजित होंगे।

इसके अलावा 20 सितंबर को पार्टी के विधायक जनता को साढ़े चार साल के कामकाज का ब्योरा देगें। 25 सितंबर को दीनदयाल उपाध्याय जयंती पर बूथों पर स्वच्छता अभियान चलेगा। वहीं, 2 अक्टूबर को गांधी जयंती से जुड़े कार्यक्रम होंगे। इन सबके बीच शिवसेना ने उत्तर प्रदेश की सभी 403 सीटों पर विधानसभा चुनाव लड़ने का ऐलान किया है। दारुलशफा में संगठन की प्रांतीय कार्यकारिणी की बैठक में यह निर्णय लिया गया।

कांग्रेस: 100 दिन में 700 कैंप लगेंगे

उत्तर प्रदेश कांग्रेस पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के नेतृत्व में काम कर रही है। उनके साथ 7 सह प्रभारी भी हैं। ग्राम पंचायत स्तर तक संगठन को मजबूत करने के लिए 100 दिन का कार्यक्रम बनाया है। जिसमें 700 ट्रैनिंग कैंप में 2 लाख कार्यकर्ताओं को ट्रेंड किया जाएगा। ये पार्टी के लिए जनाधार तैयार करेगें।

सपा: जातियों को जोड़ने की कोशिश

सपा ने सरकार को हर स्तर पर घेरने की योजना बनाई है। जनाक्रोश यात्राएं, किसान नौजवान पटेल यात्राएं चल रहीं है। पश्चिमी यूपी में असर रखने वाले रालोद के साथ छोटे दलों महान दल व जनवादी पार्टी राष्ट्रीय से तालमेल कर चुकी है। पिछड़े वर्गों के रूठे समुदायों को मनाने की कोशिश जारी है। चौहान, कुशवाहा, मौर्या, कश्यप आदि जातियों के नेताओं को जोड़ा जा रहा है।

बसपा: ब्राह्मणों को जोड़ने की रणनीति

बसपा ब्राह्मणों को पार्टी से जोड़ने की रणनीति पर काम कर रही है। राज्य के 74 जिलों में ब्राह्मणों के प्रबुद्ध सम्मेलन करने के बाद अब हर विधानसभा में ब्राह्मण समाज के एक-एक हजार महिला व पुरुषों को जोड़ा जा रहा है। उम्मीदवारों को तय करने के लिए विधानसभा प्रभारी नियुक्त किए जा रहे हैं।

खबरें और भी हैं...