पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अयोध्या में बनने वाली मस्जिद को दिया दान टैक्स फ्री:आयकर विभाग ने 9 महीने बाद 80-G के तहत छूट दी, लेकिन नक्शे की फाइल अटकी; मंदिर ट्रस्ट को पहले से राहत

अयोध्या2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

उत्तर प्रदेश में अयोध्या के धन्नीपुर में बनने वाले मस्जिद प्रोजेक्ट के लिए दिया जाने वाला दान 80G के तहत टैक्स फ्री होगा। आयकर विभाग ने इसके लिए मस्जिद प्रोजेक्ट को रजिस्टर्ड कर लिया है। इंडो इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन (IICF) के सचिव अतहर हुसैन के मुताबिक शुक्रवार को मस्जिद ट्रस्ट को यह आदेश मिल चुका है। हालांकि, मस्जिद के नक्शे की फाइल अभी भी अटकी हुई है।

हुसैन ने बताया कि IICF ने टैक्स में राहत के लिए पहला आवेदन 9 माह पहले किया था। इतने विलंब को लेकर मस्जिद ट्रस्ट ने विरोध भी जताया था। वहीं फाउंडेशन के अध्यक्ष जफर फारूकी ने कहा कि उन्होंने पिछले साल एक सितंबर को आयकर कानून की धारा 80जी के तहत कर में छूट के लिए आवेदन किया था। यह आवेदन 21 जनवरी को खारिज कर दिया गया था। उन्होंने 3 फरवरी को फिर से आवेदन किया और 10 मार्च तक सवालों के जवाब दिए।

ऑनलाइन-ऑफलाइन मोड में अटका मस्जिद का नक्शा
इंडो इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन ट्रस्ट ने अयोध्या के धन्नीपुर में मस्जिद परियोजना के नक्शे की ड्राइंग अयोध्या विकास प्राधिकरण (ADA) को सौंप दिया है। लेकिन इसे पास करने में नया पेंच आ गया है। ADA के उपाध्यक्ष विशाल सिंह ने बताया कि ऑनलाइन नक्शा नहीं जमा होने के कारण ऑफलाइन नक्शा पास करने के लिए निवेदन किया गया है। शासन के बिना अनुमति के ऑफलाइन नक्शा पास नहीं हो सकता।

अयोध्या विकास प्राधिकरण से ऑफलाइन नक्शा पास किए जाने के लिए प्रदेश सरकार को फाइल भेजी जा रही है। शासन से अनुमति मिलने के बाद नक्शे की फीस का आकलन होगा। उन्होंने बताया जैसे राम मंदिर के नक्शे में कार्रवाई हुई वैसी ही मस्जिद के नक्शे में की जाएगी। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के तहत धन्नीपुर में सरकार द्वारा आबंटित 5 एकड़ भूमि पर एक मस्जिद और अन्य सुविधाएं विकसित की जानी हैं।

इससे पहले फाउंडेशन के ट्रस्टी कैप्टन अफजाल अहमद खान ने बताया था कि 11 सेट में मस्जिद का नक्शा अयोध्या विकास प्राधिकरण को सौंपा गया है। परियोजना का नक्शे का आकार बड़ा है और सामान्य मानचित्रों से बहुत अलग है। इसलिए इसे ऑनलाइन अप्लाई नहीं किया जा सका है। ADA से इसे ऑफलाइन स्वीकृत करने का अनुरोध किया गया है। ​​​

राम मंदिर निर्माण के लिए भी दी गई थी इसी तरह की छूट
पिछले साल अयोध्या में राम मंदिर के लिए भी इसी तरह की छूट दी गई थी। राम जन्मभूमि ट्रस्ट के कार्यालय प्रभारी प्रकाश गुप्ता के मुताबिक, मंदिर निर्माण के दान राशि पर 3 महीने के भीतर ही आयकर विभाग ने 80G के तहत छूट प्रदान कर दी थी। इसका कारण यह था कि ट्रस्ट के कागजात समय पर तैयार कर लिए गए थे।

राम मंदिर के लिए 3 महीने के भीतर ही आयकर विभाग ने 80G के तहत छूट प्रदान कर दी थी। इसका कारण यह था कि ट्रस्ट के कागजात समय पर तैयार कर लिए गए थे।
राम मंदिर के लिए 3 महीने के भीतर ही आयकर विभाग ने 80G के तहत छूट प्रदान कर दी थी। इसका कारण यह था कि ट्रस्ट के कागजात समय पर तैयार कर लिए गए थे।

मस्जिद के भीतर बन रहा 300 बेड का अस्पताल​
आईआईसीएफ के ट्रस्टी कैप्टन अफजाल अहमद खान ने अयोध्या विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष और अन्य अधिकारियों के साथ बैठक की और अयोध्या मस्जिद ट्रस्ट की प्रस्तावित परियोजना के बारे में जानकारी दी।

जिसमें 300 बेड का सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल, एक हजार लोगों को खाना तैयार करने वाली सामुदायिक रसोई व एक अनुसंधान केंद्र जो स्वतंत्रता सेनानी शहीद मौलवी अहमदुल्ला शाह के नाम अनुसंधान केंद्र व मस्जिद शामिल हैं। मस्जिद में एक बार में दो हजार नमाजियों को समायोजित करने की क्षमता रहेगी।

उन्होंने बताया कि ग्यारह सेटों में नक्शे अयोध्या विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष विशाल सिंह को सौंपे गए हैं। ट्रस्ट ने मानचित्र की स्वीकृति के लिए प्रोसेसिंग फीस के रूप में 89 हजार रुपये भी जमा करा दिए गए हैं।

मस्जिद निर्माण के लिए अब तक 20 लाख रुपए दान स्वरूप मिले
हुसैन के मुताबिक, मस्जिद निर्माण के लिए अब तक 20 लाख रुपए दान स्वरूप मिल चुके हैं। हमने दान के लिए कोई अभियान शुरू नहीं किया है। सभी शुभचिंतकों ने स्वेच्छा से दान दिया है। जिसमें हिंदू समुदाय के कई लोग शामिल हैं। उन्होंने कहा कि अब लोगों से दान की अपील की जाएगी। नक्शा पास कराने के लिए अयोध्या विकास प्राधिकरण में सभी कागजात जमा कर दिए गए हैं।

खबरें और भी हैं...