अवैध धर्मांतरण के लिए फंडिंग कर रहा था गुजराती व्यापारी:2001 दंगे के बाद उमर गौतम और सलाहुद्दीन से हुई थी मीटिंग

लखनऊ3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

ISI के इशारे पर चल रहे अवैध धर्मांतरण के लिए गुजरात का व्यापारी अब्दुल्ला फेफड़ा वाला फंडिंग कर रहा था। करीब 30 साल से अमेरिका में व्यापार कर रहा फेफड़ा वाला ज्यादातर फंड हवाला के जरिए भारत में भेजता था। वडोदरा क्राइम ब्रांच की पूछताछ में मुख्य आरोपी उमर गौतम और सलाहुद्दीन ने यह राज उगले हैं।

वडोदरा पुलिस के मुताबिक अब्दुल्ला फेफड़ा वाला मूल रूप से गुजरात के भरूच जिले के नवीपुर का रहने वाला है। वह करीब 30 साल से अमेरिका में रह रहा है। उसने अल फला नाम से चेरिटेबल ट्रस्ट बनाया है।

इसी ट्रस्ट के नाम से वह यूपी में अवैध धर्मांतरण के लिए फंड भेज रहा था। फंड के स्रोत तक पहुंचने के लिए वडोदरा पुलिस ने शनिवार को सलाहुद्दीन और उमर गौतम को रिमांड पर लिया था। दोनों से पूछताछ में यह जानकारी सामने आई है।

2001 के दंगे के बाद भरूच में हुई थी मीटिंग

पुलिस के मुताबिक, 2001 के गुजरात दंगे के बाद अब्दुल्ला यहां आया था। उसने दंगे से पीड़ित मुस्लिमों को रुपए और राहत सामग्री दी थी। इसकी जानकारी होने पर उमर गौतम ने उससे संपर्क करने का प्रयास किया।

वडोदरा के रहने वाले सलाहुद्दीन ने उसकी मदद की और दोनों ने भरूच के नवीपुर में अब्दुल्ला के घर पर मीटिंग की। उमर गौतम ने उसे अपनी संस्था इस्लामिक दावा सेंटर के बारे में बताया और उससे फंड देने की गुजारिश की। तभी से अब्दुल्ला धर्मांतरण की लिए फंडिंग कर रहा था।

रोहिंग्याओ की मदद के लिए जाते थे पश्चिम बंगाल

पुलिस की पूछताछ में उमर गौतम और सलाहुद्दीन ने बताया कि वह बड़ी संख्या में रोहिंग्याओं की घुसपैठ भी करवा रहे थे। उनकी मदद के लिए हर साल पश्चिम बंगाल जाते थे। सीमा पार करके आये रोहिंग्याओं को रुपये, कपड़े और अन्य जरूरत का सामान देते थे। इसके बाद उन्हें उत्तर प्रदेश सहित अन्य राज्यों में बसने में भी मदद करते थे।

दुबई से मुस्तफा शेख भेजता था हवाला का रुपया

पुलिस की जांच में सामने आया कि अमेरिका, ब्रिटेन और दुबई में सक्रिय अब्दुल्ला की अल फला संस्था से फंड हवाला के जरिए भेजा जाता था। यह पैसा दुबई से मुस्तफा शेख ट्रांसफर करता था। मुंबई में इमरान उर्फ राहुल और मुर्तजा रकम रिसीव करते थे। यही दोनों इस पैसे को उमर गौतम और सलाहुद्दीन तक पहुंचाते थे।

धर्मांतरित लोगों के लिए शामली में बनाये 300 मकान

पूछताछ में पता चला कि उमर गौतम ने उत्तर प्रदेश के शामली में तीन सौ मकान बनवाए हैं। यह मकान धर्म बदलकर इस्लाम स्वीकार करने वालों को दिए जाते थे। इसे बनाने में अल फला संस्था से मिले फंड को उपयोग किया गया था। वडोदरा पुलिस अब तक मिली जानकारी की रिपोर्ट बनाकर यूपी एटीएस को भेजेगी।

कब-कब हुई गिरफ्तारी
2 जुलाई - सलाहुद्दीन जैनुद्दीन शेख
21 जून - मौलाना उमर गौतम

खबरें और भी हैं...