गैंगस्टर रियाजुल की 29 करोड़ की जमीन कुर्क:लखनऊ में डुग्गी पिटवाकर की गई कार्रवाई, सरकारी जमीनों पर कब्जा कर बनाई थी अकूत संपत्ति

लखनऊ10 दिन पहले

लखनऊ में गैंगस्टर रियाजुल इस्लाम की 29 करोड़ 35 लाख रुपए की जमीन शनिवार को कुर्की कर दी गई। वहीं आर संस इंफ्रा कम्पनी के नाम पर करोड़ों रुपए हड़पने वाले ठग आशीष श्रीवास्तव की जमीन को सीज कर दिया गया। पुलिस ने डुगडुगी पिटवाने के बाद आरोपियों की जमीन पर सरकारी बोर्ड लगा दिया।

अपराध से बनाई करोड़ों की संपत्ति, 2021 में हुई गैंगस्टर एक्ट में कार्रवाई

रियाजुल की मलेशियामऊ स्थित जमीन की कुर्की करते पुलिस-प्रशासन के अधिकारी।
रियाजुल की मलेशियामऊ स्थित जमीन की कुर्की करते पुलिस-प्रशासन के अधिकारी।

एसीपी गोमतीनगर श्वेता श्रीवास्तव ने बताया कि मलेशियामऊ निवासी रियाजुल इस्लाम के खिलाफ 2 नवम्बर 2021 को थाना प्रभारी इंस्पेक्टर राजेश द्विवेदी ने गैंगस्टर एक्ट में कार्रवाई की थी। जिसके बाद उसकी जमीनों और प्रॉपर्टी का ब्योरा जुटाया गया। पुलिस कमिश्नर कोर्ट से रियाजुल की संपत्ति जब्त करने का आदेश पास हुआ था। शनिवार को पुलिस के साथ नायब तहसीलदार सदर अविनाश रावत की अगुवाई में कुर्की की प्रकिया पूरी की गई।

रियाजुल ने अपराध के दम पर बीबीडी चंदियामऊ में करीब 11.43 करोड़, बीबीडी लोनापुर में करीब 2.74 करोड़, गोमतीनगर विस्तार मलेशियामऊ में करीब 15.50 करोड़ रुपए की प्रॉपर्टी के दस्तावेजों में छेड़छाड़ कर कब्जा कर लिया। जमीनों की कीमत 29 करोड़ 35 लाख है। उसके खिलाफ विभिन्न थानों में कई केस दर्ज हैं।

आर संस निदेशक की जमीन पर लगा कुर्की का बोर्ड

लोगों को प्लाट दिलाने के नाम पर धोखाधड़ी करने वाले आर संस के निदेशक आशीष की बाराबंकी स्थित जमीन की हुई कुर्की।
लोगों को प्लाट दिलाने के नाम पर धोखाधड़ी करने वाले आर संस के निदेशक आशीष की बाराबंकी स्थित जमीन की हुई कुर्की।

एसीपी श्वेता श्रीवास्तव ने बताया कि इसी तरह शनिवार को बाराबंकी सत्यप्रेमी नगर निवासी आशीष श्रीवास्तव की भी जमीन को कुर्क किया गया। आशीष श्रीवास्तव ने आर संस इंफ्रा के नाम से कंपनी बना कर प्लाटिंग के नाम पर हजारों लोगों से धोखाधड़ी की थी। पुलिस कमिश्नर डीके ठाकुर की कोर्ट की तरफ से उसके खिलाफ भी गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई करने का आदेश हुए।

जिसके बाद आशीष की बाराबंकी नवाबगंज ग्राम हडौरि स्थित करीब 12 हजार वर्ग फीट जमीन कुर्क की गई है। यह कार्रवाई बाराबंकी नवाबगंज तहसीलदार केपी सिंह और उनकी टीम की मौजूदगी में की गई है। उसके खिलाफ गोमतीनगर में कई धोखाधड़ी के मामले दर्ज हैं।