दिहाड़ी मजदूरों के लिए रोजगार की मांग:एक्शनएड एसोसिएशन ने 67 जिलों में सामाजिक सुरक्षा और काम मांगों अभियान शुरू किया, उप्र के अलावा चार राज्य शामिल

लखनऊ9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
एक्शनऐड ने काम मांगों अभियान श - Dainik Bhaskar
एक्शनऐड ने काम मांगों अभियान श

एक्शनएड एसोसिएशन ने सोमवार को 67 जिलों में “सामाजिक सुरक्षा और काम मांगों अभियान” की शुरुआत की। उत्तर प्रदेश सरकार के मनरेगा अतिरिक्त आयुक्त योगेश कुमार ने वर्चुअल मीटिंग में यह अभियान शुरू किया। इसमें पांच राज्यों के 67 जिलों के करीब 300 से अधिक लोग शामिल हुए।

अभियान के माध्यम से असंगठित क्षेत्र श्रमिकों के मनरेगा, न्यूनतम मजदूरी, आवास, भूमि और सामाजिक सुरक्षा जैसे महतपूर्णी मुद्दे सुनिश्चित किया जाएगा। बताया गया कि 2017-18 में राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (NSSO) द्वारा किए गए सर्वेक्षण के अनुसार देश मे असंगठित क्षेत्रों में करीब 38 करोड़ श्रमिक कार्यरत हैं। इन असंगठित क्षेत्र मे काम करने वाले मजदूरों के रोजगार अनियमित है। बैठक मे उपस्थत ताहिरा हुसैन (सामाजिक कार्यकत्री) महिला मजदूर के मुद्दा पर बातचीत करते हुए बताया की महिलाओ के लिए कार्य स्थल पर मूलभूत सुविधाएं जैसे शौचालय आदि की व्यवस्था का अभाव है, जिसका सीधा प्रभाव उनके स्वस्थ मे पड़ता है। उन्होंने बताया की घरों एवं कही बाहर कार्य कर रही महिला मजदूरों के लिए सम्मान , रोजगार, पेंशन और सामाजिक सुरक्षा का विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है |

यूपी में लगाई गई हैं महिला मेड

मनरेगा के अतिरिक्त आयुक्त योगेश कुमार ने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा मनरेगा मजदूर के लिए कई महत्वपूर्ण योजना है, जिसमें 20-39 मजदूरों पर एक महिला मेड होगी। त्रैमासिक रजिस्टर मे लगभग 48 हजार महिलाओ को महिला मैड के तौर पर काम मिलेगा, जिससे उनकी सालाना आय बीस हजार चार सौ रुपए होगी। लक्ष्य में 5 लाख लोगों को व्यतिगत कामों के लिए लाभ सुनिश्चित किया जाएगा। एक्शन एंड के खालिद चौधरी ने इस दौरान पोस्टर को लांच किया।

खबरें और भी हैं...