UP में ब्राह्मण पॉलिटिक्स:सपा के बाद भाजपा ने लगवाई भगवान परशुराम की प्रतिमा; केशव का विपक्ष पर तंज- जो राम का नहीं वो परशुराम का कैसे होगा

लखनऊ16 दिन पहले
डिप्टी सीएम डाॅ. दिनेश शर्मा ने सहसोवीर मंदिर में भगवान परशुराम की 11 फीट ऊंची प्रतिमा का अनावरण किया।

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव नजदीक आते ही जातिगत और धार्मिक आधार पर राजनीतिक समीकरणों के लिए बिसात बिछनी तेज हो गई है। इस बार यूपी की राजनीति के केंद्र में ब्राह्मण आ गए हैं। भगवान परशुराम को लेकर सियासत शुरू हो गई है। ओबीसी वर्ग की राजनीति करने वाले अखिलेश यादव ने इस बार परशुराम के मंदिर का अनावरण किया तो शुक्रवार को भाजपा की ओर से भी लखनऊ में भगवान परशुराम की प्रतिमा का अनावरण किया गया।

लखनऊ में डीडी न्यूज के कॉन्क्लेव में डिप्टी सीएम केशव मोर्या ने परशुराम प्रतिमा पर विपक्ष पर तंज कसा। उन्होंने कहा कि जो राम का नहीं हुआ वो परशुराम का क्या होगा? उधर, दिनेश शर्मा ने परशुराम की प्रतिमा का अनावरण करते हुए कहा कि परशुराम चुनावी मुद्दा नहीं हैं। सबसे ज्यादा ब्राह्मण मंत्री, विधयाक, सांसद भाजपा में ही हैं। यही देखकर विपक्ष बौखलाहट में है।

डिप्टी सीएम ने प्रतिमा का किया अनावरण
लखनऊ के सहसोवीर मंदिर में भगवान परशुराम की 11 फीट ऊंची प्रतिमा स्थापित की गई। 6 फीट ऊंची प्रतिमा को 5 फीट ऊंचे चबूतरे पर स्थापित किया गया है। यह प्रतिमा भाजपा सांसद रीता बहुगुणा जोशी के बेटे मयंक जोशी ने बनवाई है। इस प्रतिमा का अनावरण डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा ने किया।

अखिलेश यादव एक हाथ में परशुराम का फरसा लिए दिखे तो दूसरे हाथ में भगवान कृष्ण का सुदर्शन चक्र भी लिया।
अखिलेश यादव एक हाथ में परशुराम का फरसा लिए दिखे तो दूसरे हाथ में भगवान कृष्ण का सुदर्शन चक्र भी लिया।

अखिलेश यादव ने भी किया था परशुराम की प्रतिमा का अनावरण
रविवार को लखनऊ के गोसाईंगंज में समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी भगवान परशुराम के मंदिर और उनके फरसे का अनावरण किया। उन्होंने वैदिक मंत्रोच्चार के साथ भगवान परशुराम की पूजा की और आशीर्वाद लेकर चुनावी बिगुल फूंका। इस दौरान अखिलेश यादव एक हाथ में परशुराम का फरसा लिए दिखे तो दूसरे हाथ में भगवान कृष्ण का सुदर्शन चक्र भी लिया। यूपी की राजनीति को समझने वालों का कहना है कि अखिलेश यादव ने फरसा और चक्र के जरिए जातिगत राजनीति को साधने का प्रयास किया है।

अखिलेश यादव ने परशुराम मंदिर और फरसे के जरिए ब्राह्मण बिरादरी को संदेश देने का प्रयास किया है।
अखिलेश यादव ने परशुराम मंदिर और फरसे के जरिए ब्राह्मण बिरादरी को संदेश देने का प्रयास किया है।

यूपी की सियासत के केंद्र में ब्राह्मण
ओबीसी और मुस्लिम समाज की राजनीति करने वाले अखिलेश यादव ने परशुराम मंदिर और फरसे के जरिए ब्राह्मण बिरादरी को संदेश देने का प्रयास किया है। दरअसल, उत्तर प्रदेश में एक नैरेटिव यह भी चलाया जा रहा है कि ब्राह्मण समुदाय के लोग भाजपा की वर्तमान सरकार से नाराज हैं। ऐसे में अखिलेश यादव इस वर्ग को लुभाने की कोशिश करते हुए दिख रहे हैं। इसके जवाब में भाजपा भी मैदान में आ गई है। ब्राह्मणों को लुभाने के लिए भाजपा भी अब पार्टी के ब्राह्मण चेहरों को आगे कर समाज को जोड़ने की कवायद शुरू कर दी है। इसी के तहत सपा के बाद भाजपा भी भगवान परशुराम की प्रतिमा लगवा रही है।

पिछले हफ्ते दिल्ली में केंद्रीय शिक्षा मंत्री और यूपी के चुनाव प्रभारी धर्मेंद्र प्रधान के घर पर यूपी के ब्राह्मण नेताओं की एक बड़ी बैठक हुई।
पिछले हफ्ते दिल्ली में केंद्रीय शिक्षा मंत्री और यूपी के चुनाव प्रभारी धर्मेंद्र प्रधान के घर पर यूपी के ब्राह्मण नेताओं की एक बड़ी बैठक हुई।

भाजपा ने ब्राह्मणों को साधने के लिए बनाई है कमेटी
पिछले हफ्ते दिल्ली में केंद्रीय शिक्षा मंत्री और यूपी के चुनाव प्रभारी धर्मेंद्र प्रधान के घर पर यूपी के ब्राह्मण नेताओं की एक बड़ी बैठक हुई। बैठक में ब्राह्मणों की नाराजगी को लेकर मंथन हुआ। बैठक के आखिर में तय हुआ कि ब्राह्मणों को मनाया जाए और पूर्व केंद्रीय मंत्री शिव प्रताप शुक्ला की अगुवाई में एक कमेटी बना दी गई। कमेटी को उत्तर प्रदेश में ब्राह्मणों को मनाने की जिम्मेदारी दी गई है। अब यह कमेटी हर विधानसभा में टीम बनाकर ब्राह्मणों के घर-घर जाकर उन्हें मनाएगी। योगी सरकार में 10 ब्राह्मण मंत्री और विधानसभा में पार्टी के 46 ब्राह्मण विधायक हैं।

यूपी की राजनीति में ब्राह्मण क्यों है जरूरी ?
अलग-अलग आंकड़ों में ब्राह्मण समाज की आबादी 12 फीसदी तक बताई जाती रही है, जो सवर्णों में सबसे ज्यादा संख्या हैं। ऐसे में सपा और भाजपा दोनों इस अहम वर्ग को साधने की कोशिश में है। दरअसल, 2007 में मायावती की सोशल इंजीनियरिंग, 2012 में अखिलेश यादव को मिली सफलता और फिर 2017 में भाजपा के पूर्ण बहुमत में आने के पीछे ब्राह्मण समुदाय की अहम भूमिका बताई जाती रही है।