यूपी में पुलिस बर्बरता पर विपक्ष का हमला:राहुल ने कहा- मैं पीड़ित परिवार के साथ, अखिलेश बोले- हाईकोर्ट जज की निगरानी में हो जांच, मायावती ने की CBI जांच की मांग

लखनऊ9 महीने पहले

गोरखपुर में प्रॉपर्टी डीलर मनीष गुप्ता की पुलिस पिटाई से मौत पर अब सूबे में सियासी बवाल शुरू हो गया है। सभी विपक्षी दल सरकार पर हमलावर है। सपा, कांग्रेस, बसपा और आम आदमी पार्टी, सभी दलों ने भाजपा सरकार को घेरा है। राहुल गांधी, अखिलेश यादव, मायावती, प्रियंका गांधी से लेकर मनीष सिसोदिया तक ने सरकार पर सवाल उठाया है।

सबसे पहले समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव कानपुर पहुंच कर पीड़ित परिवार से मुलाकात की। खबर है कि कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी भी पीड़ित परिवार से मिलने कानपुर जाएंगी। मायावती ने तो मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग की है। हालांकि, सरकार की इस सियासी घेराबंदी को भाजपा ने घटिया सियासत करार दिया है। अखिलेश के कानपुर में पीड़ित परिवार से मुलाकात को पॉलिटिकल स्टंट कहा है।

मनीष की मौत की वजह सरकार की ठोको नीति- अखिलेश यादव

अखिलेश यादव ने कहा- पुलिस रक्षा नहीं कर पा रही है, बल्कि लोगों की जान ले रही है। जिस पुलिस की सुरक्षा देने की जिम्मेदारी थी, उसने जान कैसे ले ली? सबसे ज्यादा कस्टोडियल डेथ भाजपा सरकार में हुई है। ठोको... ठोको... नीति के कारण आमजन को भी इसी व्यवहार का सामना करना पड़ा है। मनीष गुप्ता की हत्या की जांच हाईकोर्ट के सिटिंग जज की निगरानी में हो। जो भी दोषी सिपाही, दरोगा हैं, उन्हें कठोर सजा मिलनी चाहिए'।

राहुल ने किया ट्वीट प्रियंका गांधी भी जा सकती है कानपुर

राहुल गांधी ने भी ट्टवीट कर लिखा है कि 'मीनाक्षी गुप्ता जी का दर्दनाक वीडियो देखकर बहुत दुख हुआ। मनीष गुप्ता जी के परिवार को मेरी शोक संवेदनाएं। भाजपा सरकार के अन्याय के ख़िलाफ़ इस लड़ाई में मैं आपके साथ हूं। न्याय लेकर रहेंगे- अधिकार है, एहसान नहीं!

मायावती ने मामले की सीबीआई जांच की मांग की
बसपा प्रमुख मायावती ने लिखा है कि 'यूपी सीएम के गृह जनपद गोरखपुर की पुलिस द्वारा तीन व्यापारियों के साथ होटल में बर्बरता व उसमें से एक की मौत के प्रथम दृष्टया दोषी पुलिसवालों को बचाने के लिए मामले को दबाने का प्रयास अनुचित है। घटना की गंभीरता व परिवार की व्यथा को देखते हुए मामले की सीबीआई जांच जरूरी है।

इतना ही नही मायावती ने आगे लिखा है कि आरोपी पुलिसवालों के विरूद्ध पहले हत्या का मुकदमा दर्ज नहीं करना, फिर जन आक्रोश के कारण मुकदमा दर्ज होने के बावजूद उन्हें गिरफ्तार नहीं करना सरकार की नीति व नीयत दोनों पर गंभीर प्रश्न खड़े करता है। सरकार पीड़िता को आर्थिक मदद व सरकारी नौकरी दे।

दिल्ली के डिप्टी सीएम ने यूपी की कानून व्यवस्था पर साधा निशाना
दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसिदिया ने कहा कि यूपी में कानून व्यवस्था की हालत बेहद खराब है। यूपी में सीएम योगी ने एयरपोर्ट के बाहर उत्तर प्रदेश नंबर वन के होर्डिंग लगवाए हैं, लेकिन यूपी कानून व्यवस्था के खराब होने में नंबर वन है। पुलिस की गुंडागर्दी से व्यापारी की हत्या कर दी जाती है।

लाश पर राजनीति कर रही है सपा
भाजपा ने एक मनीष गुप्ता की पत्नी का एक वीडियो ट्वीट कर लिखा है कि 'मृतक मनीष मामले में पहले दिन से ही योगी सरकार पूरी तरह से संवेदनशील है। इसका भरोसा मृतक के परिजनों को भी है। लेकिन दुःखद घटनाओं पर राजनीति का अवसर तलाशने वाली समाजवादी पार्टी घटिया सियासत से बाज नहीं आई। '

खबरें और भी हैं...