अखिलेश यादव दिल्ली पहुंचे, केजरीवाल से हो सकती है मुलाकात:UP में आप और सपा के बीच गठबंधन के कयास, 3 दिन पहले संजय सिंह बर्थडे की बधाई देने अखिलेश के घर गए थे

लखनऊ3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अखिलेश यादव पहले कई बार अपने बयान में कह चुके हैं कि वह उत्तर प्रदेश में सक्रिय छोटे दलों से गठबंधन कर सकते हैं। - Dainik Bhaskar
अखिलेश यादव पहले कई बार अपने बयान में कह चुके हैं कि वह उत्तर प्रदेश में सक्रिय छोटे दलों से गठबंधन कर सकते हैं।

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव मंगलवार को लखनऊ से दिल्ली रवाना हुए हैं। वह यहां दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से मुलाकात भी कर सकते हैं। माना जा रहा है कि विधानसभा चुनाव से पहले यूपी में आम आदमी पार्टी और सपा के बीच गठबंधन हो सकता है। इसके कयास तब शुरू हो गए थे, जब अखिलेश यादव को जन्मदिन की बधाई देने 3 दिन पहले आप के राज्यसभा सांसद संजय सिंह उनके घर पहुंचे थे।

दिल्ली से सटी गाजियाबाद, गौतमबुद्ध नगर की 10 विधानसभा सीटों पर नजर
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल यूपी में राजनीतिक दखल बढ़ाने के लिए दिल्ली से सटे ग्रेटर नोएडा और गाजियाबाद की सीटों पर मंथन कर रहे हैं। सत्ता में आने से पहले 2011 में समाजसेवी अन्ना हजारे के साथ अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली में जन लोकपाल बिल को लेकर बड़ा आंदोलन किया था। इस आंदोलन में दिल्ली से सटे यूपी के जिलों से तमाम लोग शामिल हुए थे। अब आप उसका फायदा उठाना चाहती है।

यूपी में बीते 1 साल से सक्रिय आम आदमी पार्टी के यूपी प्रभारी संजय सिंह लगातार अलग-अलग मुद्दों पर यूपी सरकार को घेर रहे हैं। 3 दिन पहले अखिलेश यादव से संजय सिंह ने मुलाकात कर राजनीतिक हलचलें बढ़ा दीं। ग्रेटर नोएडा गाजियाबाद में कुल 10 विधानसभा सीटें आती हैं।

अखिलेश ने कहा था- केवल छोटी पार्टियों से ही करेंगे गठबंधन
अखिलेश यादव ने कई बार अपने बयान में कहा है कि वह यूपी में सक्रिय छोटे दलों से गठबंधन करेंगे। ऐसे में आप के साथ गठबंधन करने को लेकर चर्चाएं और तेज हो गई हैं। अखिलेश यादव ने अपने बयान में स्पष्ट किया है कि वह किसी भी राष्ट्रीय पार्टी से गठबंधन न करके छोटे-छोटे जातीय और अन्य क्षेत्रीय दलों से गठबंधन कर उत्तर प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव में सत्तारूढ़ पार्टी भाजपा को टक्कर देंगे।

7 माह पहले अरविंद केजरीवाल ने यूपी में चुनाव लड़ने का किया था ऐलान

आप पार्टी के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सात माह पहले यूपी में विधानसभा चुनाव लड़ने का ऐलान किया था। तब उन्होंने कहा था, ‘यूपी के लोग दिल्ली क्यों आ रहे हैं? ऐसा इसलिए क्योंकि वहां सुविधाएं नहीं हैं। अगर दिल्ली में सुविधाएं तैयार की जा सकती है तो UP में ऐसा क्यों नहीं हो सकता। UP ने अब तक गंदी राजनीति देखी है। ऐसे में अब उसे नया मौका मिलना चाहिए।’

संजय सिंह की अखिलेश यादव से मुलाकात के बाद ही यूपी में आप और सपा के बीच गठबंधन की चर्चा तेज है।
संजय सिंह की अखिलेश यादव से मुलाकात के बाद ही यूपी में आप और सपा के बीच गठबंधन की चर्चा तेज है।

अखिलेश के बर्थडे के दो दिन बाद मिलने पहुंचे थे संजय

एक जुलाई को अखिलेश यादव का बर्थडे था। लेकिन इसके दो दिन बाद 3 जुलाई को आप के यूपी प्रभारी संजय सिंह अचानक समाजवादी पार्टी के लखनऊ स्थित दफ्तर पहुंच गए। उन्होंने अखिलेश यादव से करीब 45 मिनट बात की। तब गठबंधन के सवालों को टालते हुए संजय सिंह ने कहा था कि यह आने वाला समय बताएगा।

खबरें और भी हैं...