अमित शाह के JAM पर अखिलेश यादव का पलटवार:बोले-भाजपा के जैम की सही परिभाषा है झूठ, अहंकार और महंगाई, ये बेचने वाली सरकार है, लोगों को रोजगार कहां मिलेगा

लखनऊ9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा सरकार किसान विरोधी, लोकतंत्र विरोधी और संविधान विरोधी सरकार है। गृहमंत्री अमित शाह के जैम के बयान पर पटलवार करते हुए अखिलेश ने कहा कि, भाजपा से ज्यादा झूठ और कोई नहीं बोलता है। भाजपा के जैम (JAM) की सही परिभाषा है झूठ, अहंकार और महंगाई। उन्हें अपने जैम का जवाब देना है। यह बेचने वाली सरकार है, लोगों को रोजगार कहां मिलेगा? स्वास्थ्य-शिक्षा, कानून-व्यवस्था ध्वस्त है। प्रदेश बर्बाद हो गया है। उन्होंने कहा अगले वर्ष विधानसभा चुनावों में जनता को भाजपा और कांग्रेस दोनों का सफाया करना है। दोनों के कार्यक्रमों और सिद्धांतों में कोई फर्क नहीं है। दोनों एक ही दल हैं।

सपा सरकार आने पर पांच साल मुफ्त आनाज देंगे
सपा अध्यक्ष ने कहा कि, फाजिलनगर, किसान पीजी कॉलेज, कसया बाजार में मालती पाण्डेय कॉलेज में आयोजित जनसभाओं को सम्बोधित किया। उन्होंने गोरखपुर और कुशीनगर में मिल रहे अपार जनसमर्थन के लिए जनता को धन्यवाद देते हुए विश्वास दिलाया कि वे जनता की उम्मीदों को पूरा करेंगे। उनकी सरकार आने पर कानून व्यवस्था को मजबूत करेंगे। सरकार बनने पर गरीबों को 5 साल तक मुफ्त अनाज देंगे।

निवेश नहीं आया, बडे़ नेताओं को सम्मान नहीं दे पा रही

अखिलेश यादव ने कहा कि प्रदेश की जनता जानती है कि भाजपा ने कैसा काम किया है। सरकार कह रही थी निवेश आएगा लेकिन कोई निवेश नहीं आया। बीजेपी सरकार अपने सबसे बड़े नेता और पूर्व प्रधानमंत्री तक को सम्मान नहीं दे पाई। पूर्व प्रधानमंत्री के नाम पर बनी यूनिवर्सिटी लखनऊ में सपा सरकार द्वारा बनाए गए डॉ0 राम मनोहर लोहिया संस्थान में 9वें तल पर चल रही है। अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा सरकार के पास नौजवानों और युवाओं को रोजगार और नौकरी देने के लिए कोई योजना नहीं है। केंद्र सरकार, एयरपोर्ट, पोर्ट, ट्रेन समेत सब कुछ बेचने पर जुटी है। इन्हें खरीदने वाले तेल भी बेच रहे हैं। महंगा तेल बेचकर गरीबों की जेब काट रहे हैं। अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा ने किसानों, व्यापारियों, गरीबों, पिछड़ों, दलितों और महिलाओं से झूठ बोलकर वोट लिया। साढ़े चार वर्षों में कोई वादा नही पूरा किया। अपनी मांगों को लेकर आंदोलन और लोकतांत्रिक ढंग से प्रदर्शन करने वाले किसानों, नौजवानों, कर्मचारियों को भाजपा ने अपमानित किया। आज उत्तर प्रदेश में सभी वर्ग मिलकर भाजपा के अपमान का बदला लेने को तैयार हैं। तीन काले कानून लाकर भाजपा किसानों की जमीन उद्योगपतियों के हाथ सौंपना चाहती है। किसान भाजपा की चाल को समझ गया है। समाजवादी पार्टी किसानों के साथ है।

खबरें और भी हैं...