पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lucknow
  • SP State President Akhilesh Yadav Unnao Visit: Akhilesh Reached Unnao To Unveil The Statue Of Nishad Community Leader Unveiling Statue Manohar Lal

अखिलेश यादव का उन्नाव दौरा, निषाद वोट बैंक निशाना:निषाद समुदाय के नेता मनोहर लाल की मूर्ति का अखिलेश ने किया अनावरण, बोले- भाजपा के लोग लड़वाने का काम करते हैं

लखनऊ3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
निषाद समुदाय के बड़े नेता रहे मनोहर लाल की 85वीं जयंती पर उनकी प्रतिमा का अनावरण। - Dainik Bhaskar
निषाद समुदाय के बड़े नेता रहे मनोहर लाल की 85वीं जयंती पर उनकी प्रतिमा का अनावरण।

समाजवादी पार्टी (सपा) प्रमुख अखिलेश यादव बुधवार को उन्नाव में निषाद समाज के नेता मनोहर लाल की मूर्ति का अनावरण किया। यहां जन सभा को संबोधित करते हुए अखिलेश यादव ने भाजपा सरकार पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि भाजपा के लोग लड़वाने का काम करते हैं। भाजपा ने सरकारी संस्थानों को बेच दिया। पंचायत चुनाव में भाजपा ने नोट का इस्तेमाल किया। सपा सरकार ने सबसे अच्छी पुलिसिंग दी थी। मगर भाजपा सरकार में खराब हो गई।

अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा के रहने से बेरोजगारी बढ़ेगी। महंगाई के लिए भाजपा जिम्मेदार है। साढ़े 4 साल में कोई फैक्ट्री नहीं लगी। नवजवानों को भुखमरी के कगार पर खड़ा किया। सपा सरकार बनी तो लोहिया आवास देंगे। लोहिया आवास में बिजली मुफ्त देंगे। लोगों को ब्लैक में दवाएं लेनी पड़ी थी। आज सरकार कहती है कि कोविड से मौतें नहीं हुई। अब तो आंकड़े नहीं बता रही सरकार। बीजेपी कभी सही आंकड़े नहीं बताएगी। मदद न देना पड़े इसलिए आंकड़े छिपाए। BJP ने कहा था कि किसानों की आय दोगुनी कर देंगे। डीजल-पेट्रोल महंगाई कितनी बढ़ी है? आय किसानों की घट गई बढ़ी नहीं।

120 छोटे-छोटे रथ के साथ अखिलेश यादव का उन्नाव जिले में स्वागत किया जाएगा। जिले के निषाद समुदाय के बड़े नेता रहे मनोहर लाल की 85वीं जयंती पर उनकी प्रतिमा का अनावरण होगा। जिसे लेकर सपा के प्रवक्ता व एमएलसी सुनील साजन समेत कई नेता मौके पर जुट गए हैं।

निषाद वोट बैंक पर नजर
सपा प्रवक्ता सुनील साजन ने बातचीत में कहा कि अखिलेश यादव उन्नाव में समाज के बड़े नेता मनोहर लाल के कार्यक्रम में शामिल हुए। सपा ने हमेशा से निषाद समाज का सम्मान किया है। इस समुदाय के नेताओं को राजनीतिक स्थान भी दिया है। जबकि भाजपा सिर्फ निषाद समुदाय के साथ होने का दिखावा करती है। यूपी में निषाद, मल्लाह और कश्यप वोट बैंक करीब 4 फीसदी है। अगले साल 2022 के विधानसभा चुनाव से पहले अखिलेश का यह दांव निषाद वोट बैंक की सियासत से जोड़ कर देखा जा रहा है।

मुलायम के करीबी रहे मनोहर लाल, विरासत को आगे बढ़ा रहा है परिवार
मनोहर लाल साल 1993 में मुलायम सिंह यादव की सरकार में मत्स्य पालन मंत्री भी रहे थे। मनोहर लाल तब चर्चित हुए थे जब 1994 में फूलन देवी की रिहाई को लेकर अपनी ही सरकार के खिलाफ धरने पर बैठ गए थे। निषाद के अधिकारों की मांग करने लगे मनोहर लाल ने ही सबसे पहले रेती में खेती का मुद्दा उठाया था। मनोहर लाल ने निषाद-बिंद-मल्लाह-कश्यप और लोध जातियों को एकजुट करने के लिए भी जाना जाता है।

पिता की विरासत पर गर्व
मनोहर लाल के बड़े बेटे रामकुमार कहना है कि मनोहर लाल जी ने इन जातियों के बीच रोटी-बेटी का संबंध भी स्थापित किया था। उसके आगे की राजनीति की चर्चा करें तो साल 1994 में मनोहर लाल के निधन के बाद उन्नाव में उनके बेटे दीपक कुमार ने उनकी राजनीतिक विरासत को संभाला और दीपक कुमार सपा से कई बार विधायक और सांसद भी रहे। दीपक के निधन के बाद अब मनोहर लाल की विरासत मनोहर लाल के बड़े बेटे रामकुमार और उनके भतीजे अभिनव संभाल रहे हैं।

भाजपा के निषाद वोट बैंक में सपा की नजर
यूपी की सियासत में 2018 से निषाद वोट बैंक को निर्णायक समझा जाने लगा। साल 2018 में गोरखपुर उपचुनाव में निषाद पार्टी और सपा के गठबंधन के बाद
भाजपा चुनाव हार गई और सपा से प्रवीण निषाद गोरखपुर से सांसद बन गए। गोरखपुर योगी आदित्यनाथ की परंपरागत सीट थी। इसीलिए 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले बीजेपी ने निषाद पार्टी से गठबंधन कर लिया। मौजूदा समय में भारतीय जनता पार्टी के सहयोगी दल निषाद पार्टी के एक सांसद प्रवीण निषाद भी जीते हैं।

खबरें और भी हैं...