लखनऊ में रिश्वतखोर पुलिस:लखनऊ में दरोगा पर 50 हजार रिश्वत मांगने का आरोप, पीड़ित ने पुलिस कमिश्नर से की शिकायत

लखनऊ5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मड़ियांव कोतवाली के दरोगा असलम पर रिश्वत मांगने का आरोप है। - Dainik Bhaskar
मड़ियांव कोतवाली के दरोगा असलम पर रिश्वत मांगने का आरोप है।

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में पुलिस पर 50 हजार रुपए रिश्वत मांगने का आरोप लगा है। बताया जा रहा है कि मड़ियांव कोतवाली के दरोगा साहब ने रिश्वत न देने पर मकान निर्माण का काम भी रुकवा दिया। पीड़ित युवक ने पुलिस कमिश्नर से शिकायत की। उसने प्रार्थना पत्र में बताया कि रुपए न देने पर दरोगा उल्टा उसी पर केस दर्ज करने की धमकी दे रहा है।

50 हजार रुपए रिश्वत मांगने का आरोप
दरअसल, मड़ियांव के दाउदनगर निवासी राजकुमार सब्जी का ठेला लगता है। परिवार के बाकी सदस्य मजदूरी करते हैं। राजकुमार के मुताबिक, पुस्तैनी जमीन पर अपने हिस्से में मकान बनवा रहा था। इसपर उसके पट्टीदारों ने विरोध किया और काम बंद करवा दिया। राजकुमार कोतवाली पहुंचा तो दरोगा असलम ने काम शुरू करवाने का आश्वासन दिया। दरोगा ने उसकी तरफ से पट्टीदारों के खिलाफ रिपोर्ट भी दर्ज करवा दी। लेकिन रिपोर्ट दर्ज होने बाद भी विपक्षियों ने काम नहीं होने दिया। पीड़ित रोज चौकी के चक्कर काटने लगा। इसी बीच दरोगा ने उसे बुलाकर कहा कि 50 हजार रुपए दो तब मकान का काम शुरू हो पाएगा।

रिश्वत न देने पा दरोगा ने उल्टा पीड़ित पर केस दर्ज करने की दी धमकी
पीड़ित राजकुमार का कहना है कि रुपए न देने पर दरोगा ने उल्टा उसके खिलाफ केस दर्ज करने की धमकी भी दी। काफी प्रयास के बाद भी इतने रुपयों की व्यवस्था नहीं हो पाई। इसपर दरोगा ने उसके निर्माणाधीन मकान का गेट ढहा दिया।

पुलिस बोली- झूठ बोल रहा पीड़ित
इंस्पेक्टर मड़ियांव मनोज कुमार सिंह का कहना है कि राजकुमार पट्टीदार के हिस्से में बढ़कर मकान बनवा रहा है। पुलिस ने विवाद को देखते हुए काम रुकवा दिया तो झूठा आरोप लगा रहा है।

खबरें और भी हैं...