सूची जारी होते ही कांग्रेस में घमासान:नाराज कार्यकर्ताओं ने लगाया भ्रष्टाचार का आरोप, बोले- रुपए लेकर बांटे गए टिकट

लखनऊ10 दिन पहले
टिकट नहीं मिलने से नाराज कार्यकर्ता पार्टी कार्यालय में धरने पर बैठे।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने विधानसभा चुनाव में नए चेहरों को भविष्य आजमाने का मौका दिया, तो दूसरी ओर पार्टी के पुराने कार्यकर्ताओं ने अब मोर्चा खोल दिया है। टिकट बंटवारे में भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए शुक्रवार को तीन महिला सहित पांच कार्यकर्ता पार्टी कार्यालय में धरने पर बैठ गए। इनका आरोप है कि बड़े पदाधिकारियों ने रुपये लेकर टिकट दिलवाया है।

पार्टी फंड में 10 लाख रुपये देने की मांग

यूपी महिला कांग्रेस की उपाध्यक्ष शीला मिश्रा लखनऊ के बख्शी का तालाब विधानसभा से चुनाव की तैयारी कर रही थीं। लेकिन गुरुवार को जारी हुई 125 प्रत्याशियों की सूची में उनकी जगह ललन कुमार को उम्मीदवार घोषित कर दिया गया। शीला मिश्रा का कहना है कि उनकी बहू मोनिका मिश्रा को बस्ती की हर्रैया सीट से टिकट देने का आश्वासन दिया गया था। लेकिन वहां भी बोनी सिंह को टिकट दिया गया। शीला का आरोप है कि टिकट के लिए उनसे पार्टी फंड में 10 लाख रुपये जमा करने को कहा गया था। उनके पास रुपये नहीं थे, इसलिए सास-बहू को दरकिनार कर दिया गया।

किसान मोर्चा के जिलाध्यक्ष का टिकट भी कटा

मैनपुरी की करहल सीट से किसान मोर्चा के जिलाध्यक्ष शिशुपाल सिंह की प्रबल दावेदारी थी। उनका कहना है कि रात दिन एक करके पांच साल से तैयारी कर रहे थे। उनकी पत्नी भी टिकट की दावेदार थीं। लेकिन अचानक एक नए चेहरे को मैदान में उतार दिया गया, जिसे क्षेत्र में कोई जानता ही नहीं है। इसी तरह फतेहपुर की हुसैनगंज सीट से लड़ने की तैयारी कर रहे कार्यकर्ता शाहिद शेख भी टिकट नहीं मिलने से नाराज हैं। शेख का कहना है कि उनकी जगह शिवकांत तिवारी को उम्मीदवार घोषित किया गया है। उनका आरोप है कि राष्ट्रीय कांग्रेस अनुसूचित जाति प्रकोष्ठ के प्रमुख प्रदीप नरवाल ने रुपये लेकर उनकी जगह दूसरे को टिकट दिलवाया है।

पोस्टर गर्ल ने भी खोला मोर्चा, धरने पर बैठीं

इससे पहले लखनऊ की सरोजनीनगर सीट से दावेदार और प्रियंका गांधी के शक्ति विधान महिला घोषणा पत्र की पोस्टर गर्ल डॉ. प्रियंका मौर्या ने टिकट बंटवारे में धांधली का आरोप लगाया था। उन्होंने प्रियंका गांधी के निजी सचिव संदीप सिंह पर रुपये मांगने का आरोप लगाया था। शुक्रवार को यह सभी नाराज कार्यकर्ता पार्टी के खिलाफ धरने पर बैठ गए। इनका कहना है कि संगठन के बड़े पदाधिकारी दूसरे दलों के इशारे पर प्रदेश में कांग्रेस को कमजोर करने की साजिश रच रहे हैं।

खबरें और भी हैं...