लखीमपुर मामले में आशीष के 3 करीबी गिरफ्तार:किसानों को कुचलने वाली थार के पीछे स्कॉर्पियो में थे ये तीनों, SIT आमना-सामना कराएगी

लखनऊ8 महीने पहले
आशीष को पुलिस ने दूसरी बार रिमांड पर लिया है।

UP के लखीमपुर हिंसा मामले में क्राइम ब्रांच ने शुक्रवार को तीन और आरोपियों को पकड़ा है। ये तीनों किसानों को कुचलने वाली थार जीप के पीछे स्कॉर्पियो में थे। इनकी पहचान मोहित त्रिवेदी, धर्मेंद्र सिंह और रिंकू राणा के रूप में हुई है। ये तीनों मुख्य आरोपी आशीष मिश्र के करीबी हैं। घटना के चश्मदीद सुमित जायसवाल के बाद इन तीनों की गिरफ्तारी को बड़ी कार्रवाई माना जा रहा है।

केंद्रीय मंत्री का आरोपी बेटा आशीष दो दिन की रिमांड पर
लखीमपुर हिं‍सा का आरोपी और केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र 'टेनी' के बेटे आशीष मिश्र को SIT ने शुक्रवार को दोबारा दो दिन की रिमांड पर ले लिया। आशीष का शनिवार को अन्य आरोपियों अंकित दास, शेखर भारती, लतीफ उर्फ काले, सुमित जायसवाल मोदी, सत्यम त्रिपाठी, नंदन सिंह और शिशुपाल से आमना-सामना कराया जाएगा।

SIT हिंसा से जुड़े उन अनसुलझे सवालों का जवाब तलाशने की कोशिश करेगी, जिनका जवाब अभी तक किसी आरोपी ने सही नहीं दिया। इसमें आशीष मिश्र की घटना के वक्त की मौजूदगी, किसानों पर थार जीप चढ़ाना, फायरिंग करने की वजह और इसके पीछे के इरादे जैसे सवाल प्रमुख हैं।

शुक्रवार को CJM कोर्ट ने SIT की मांग पर आशीष मिश्र समेत चार आरोपियों की 48 घंटे की पुलिस रिमांड मंजूर कर दी थी। चारों आरोपी आशीष, अंकित दास, शेखर भारती और लतीफ उर्फ काले 22 अक्टूबर की शाम पांच बजे से 24 अक्टूबर शाम पांच बजे तक पुलिस कस्टडी में हैं। वहीं, सुमित जायसवाल मोदी, सत्यम त्रिपाठी, नंदन सिंह और शिशुपाल शुक्रवार सुबह से ही पुलिस रिमांड पर हैं।

हिंसा के बाद किसान भड़क गए थे और तीन लोगों की पीट-पीट कर हत्या कर दी थी।
हिंसा के बाद किसान भड़क गए थे और तीन लोगों की पीट-पीट कर हत्या कर दी थी।

बैलेस्टिक रिपोर्ट का SIT को इंतजार
SIT टीम अभी तक मुख्य आरोपी आशीष मिश्र से यह नहीं उगलवा सकी है कि वह हिंसा के वक्त मौके पर मौजूद था, जबकि सभी सबूत इशारा कर रहे हैं कि आशीष मौके पर था। अब तक की जांच की बात करें तो पुलिस को सिर्फ फोरेंसिक लैब से आशीष और अंकित दास के असलहों की बैलेस्टिक रिपोर्ट, बीटीएस टावर से सिग्नल कंजेशन रिपोर्ट, आशीष के मोबाइल फोन की साइबर रिपोर्ट मिलना बाकी है। जिसके बाद ही आशीष की घटनास्थल पर मौजूदगी और उसकी भूमिका तय हो सकेगी।

आज SIT की इन सवालों से आरोपियों को घेरने की तैयारी

  • घटना के वक्त किसने बताया कि तिकोनिया में किसान जुटे थे?
  • सूचना मिलते ही आशीष मिश्र ने क्या कहा?
  • आशीष अपने पिता को फोन पर घटना की जानकारी देने के बाद कहां गया?
  • डिप्टी CM की अगवानी को बनवीरपुर से कितनी गाड़ियों का काफिला निकला था?
  • अगवानी के लिए कौन भाजपा नेता गए थे?
  • गाड़ियों की संख्या और उनके ड्राइवर कौन-कौन थे?
  • कार्यक्रम में VVIP का रूट बदल गया है, इसकी जानकारी क्या आपको थी?
  • किसानों के हंगामा करने पर कितने वाहन और लोग चल दिए?
  • घटना के वक्त तुम लोगों के पास कौन-कौन से हथियार और गाड़ियां थीं?
  • निघासन रोड स्थित महाराजा अग्रसेन खेल मैदान के आसपास विरोध-प्रदर्शन कर रहे किसानों के पास क्यों गए?
  • थार जीप में बरामद 315 बोर के दो कारतूस कहां से आए थे, उसमें मौजूद असलहा कहां गया?
  • अंकित दास की रिपीटर बंदूक व रिवाल्वर थार में थी तो उसको कैसे मिली?
  • सुमित जायसवाल थार में आगे बैठा था तो गाड़ी कौन चला रहा था, पीछे कौन-कौन था?
  • तीन अक्टूबर के दिन हुई घटना के दौरान आप कहां थे, इसके सबूत दो।
  • 2 बज कर 36 मिनट के बाद 45 मिनट तक आशीष मिश्र किसके साथ था?
  • थार जीप हिंसा में क्षतिग्रस्त हुई, जलाई गई, उसको कौन चला रहा था, पीछे की फॉर्च्यूनर, स्कॉर्पियो किसकी थी?
  • जिन कारों का वीडियो फुटेज मिला है, उनमें तुम लोग कहां बैठे थे?
  • किस-किस को फोन किया उस दौरान, किसका फोन आया आपके पास?

अब तक 10 लोगों की हो चुकी है गिरफ्तारी
लखीमपुर हिंसा मामले में अब तक दस लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है। इसमें मुख्य आरोपी आशीष मिश्र, अंकित दास, लतीफ उर्फ काले, शेखर, लवकुश, आशीष पांडेय, सुमित जायसवाल मोदी, सत्यम त्रिपाठी, नंदन सिंह और शिशुपाल हैं।

हिंसा के मामले में आशीष समेत 15 आरोपियों पर केस दर्ज किया गया था।
हिंसा के मामले में आशीष समेत 15 आरोपियों पर केस दर्ज किया गया था।

लखीमपुर में 3 अक्टूबर को भड़की थी हिंसा
3 अक्टूबर (रविवार ) को किसानों ने केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र का विरोध करते हुए काले झंडे दिखाए थे। इसी दौरान एक गाड़ी ने किसानों को कुचल दिया था। इसमें चार किसानों की मौत हो गई थी। इसके बाद हिंसा भड़क गई थी। आरोप है कि भड़की हिंसा के दौरान किसानों ने एक ड्राइवर समेत चार लोगों को पीट-पीटकर मार डाला था। जिसमें एक पत्रकार भी मारा गया था। इस मामले में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र टेनी के बेटे आशीष मिश्र समेत 15 लोगों के खिलाफ हत्या और आपराधिक साजिश का केस दर्ज किया गया था।

खबरें और भी हैं...