40 रुपए के लिए पेट्रोल पंप कर्मी को घसीटा:20 लाख की कार लेकर पेट्रोल पंप पर पहुंचे थे रईसजादे, हवा भरने के बाद कर्मचारी ने पैसे मांगे तो विंडो पर लटकाकर जान लेने का किया प्रयास

लखनऊएक वर्ष पहले

लखनऊ में रईसजादों की फटीचरों वाली हरकत सामने आई है। यहां पारा थाना क्षेत्र में एक पेट्रोल पंप 20 लाख की कार में फ्यूल भराने पहुंचे कार ड्राइवर ने कर्मचारी की जान लेने की कोशिश की। पंप कर्मी का कार की विंडो में लटके हुए वीडियो सामने आया है। दरअसल, फ्यूल भरवाने के बाद कार ड्राइवर ने टायर में नाइट्रोजन भरवाया। कर्मचारी ने 40 रुपए मांगे तो उसे विंडो पर लटकाकर घसीट लिया। इससे पंप कर्मी की जान पर आफत बन आई। वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस ने रिपोर्ट तो दर्ज कर ली। लेकिन गाड़ी वालों का पता नहीं लगा पाई।

पुलिस ने आनाकानी के बाद दर्ज किया केस

पारा थाना क्षेत्र के मोहान रोड पर एक पेट्रोल पंप है। पुलिस का कहना है कि रविवार दोपहर 2 बजे की पेट्रोल पंप पर कार (UP 32 LR 8454) पहुंची। कार ड्राइवर ने 40 रुपए की नाइट्रोजन हवा भराई। लइक नाम के कर्मचारी ने जब पैसे मांगे तो ड्राइवर ने गाड़ी दौड़ा दी। इस दौरान लाइक ने कार का अगला हिस्सा पकड़ा हुआ था और उसकी जान पर बन गई। घटना के बाद पंप के कर्मचारी पीड़ित को लेकर पारा थाने पहुंचे। यहां काफी देर तक पुलिस रिपोर्ट दर्ज करने में आनाकानी करती रही। सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद पुलिस ने रिपोर्ट तो दर्ज की। लेकिन न तो कार का पता लगाया न आरोपियों के बारे में कोई जानकारी जुटाई। पीड़ित का कहना है कि रसूखदार कार सवारों को पकड़ने से पुलिस बच रही है।

सोशल मीडिया बिगाड़ रहा पुलिस के वसूली का खेल
किसी घटना के बाद पुलिस कार्रवाई करने की बजाय वसूली की जुगत में लग जाती है। 30 जुलाई को कृष्णानगर कोतवाली क्षेत्र में सारे राह बेकसूर कैब चालक की पिटाई के मामले को पुलिस की वसूली ने ही तूल पकड़ा दिया। समय से आरोपी लड़की के खिलाफ कार्रवाई करने की बजाय पुलिस ने पीड़ित का कोतवाली लाकर उससे ही 10 हजार रुपए वसूल लिए। बाद में आरोपी लड़की के खिलाफ केस दर्ज करना पड़ा और घूस लेने वाले इंस्पेक्टर व दो दरोगा लाइन हाजिर हुए। अब पारा पुलिस कार सवार पर कार्रवाई करने के बजाय पीड़ित को टरका रही है। हालांकि पारा इंस्पेक्टर राजेश कुमार का कहना है कि गाड़ी के बारे पता लगाया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...