पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

रिटायर्ड IAS पर एक और FIR दर्ज:बलिया पुलिस ने एसपी सिंह को पूछताछ के लिए बुलाया, नहीं पहुंचने पर अंजाम भुगतने का अल्टीमेटम

लखनऊ5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
रिटायर्ड आईएएस एसपी सिंह के खिलाफ एक और एफआईआर दर्ज की गई है। - Dainik Bhaskar
रिटायर्ड आईएएस एसपी सिंह के खिलाफ एक और एफआईआर दर्ज की गई है।

गंगा में लाशों वाले जिस ट्वीट पर रिटायर्ड IAS सूर्य प्रताप सिंह के खिलाफ 13 मई को उन्नाव कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज की गई थी, उसी मामले में 13 मई की तारीख में उन पर बलिया में भी केस दर्ज कर लिया गया। इसका खुलासा गुरुवार को तब हुआ जब बलिया पुलिस एसपी सिंह के पास नोटिस लेकर पहुँची। एसपी सिंह का कहना है कि पुलिस अधिकारियों को कानून की जानकारी नही है। एक ही मामले दो एफआईआर असंवैधानिक है।

बलिया कोतवाली पुलिस गुरुवार दोपहर बाद एसपी सिंह के घर पहुंची। पुलिस वालों ने उन्हें बताया कि गंगा में तैरती लाशों वाले मामले में उन पर केस दर्ज किया गया है। लेकिन हैरानी की बात है कि यह एफआईआर उन्नाव में दर्ज हुई एफआईआर से एक दिन पहले की गई।

एसपी सिंह का कहना है कि उन्नाव पुलिस को जब पता चला कि उनकी तरफ से किये गए ट्वीट में जो फोटो है वह उन्नाव नही बलिया की है तो अपनी गलती सुधारने के चक्कर मे पुलिस आनन फानन में बैक डेट में बलिया में एफआईआर दर्ज करवा दी।

कोर्ट में नहीं टिक पाएंगे पुलिस के साक्ष्य

एसपी सिंह का कहना है कि पुलिस उन्हें लपेटने के लिए बिछाए जा रहे अपने जाल में खुद फस रही है। उनका कहना है पहले बिना जांच किये उन्नाव में केस दर्ज किया गया और अब ठीक उसी मामले में उन्ही धाराओं के साथ बलिया में रिपोर्ट दर्ज कर ली गयी।

13 मई की एफआईआर में उन्नाव पुलिस तीन बार पूछताछ कर चुकी और बलिया पुलिस अब बयान के लिए नोटिस दे रही है। इससे बैक डेटिंग साफ नजर आ रही है। कानूनी तौर पर एक ही मामले की दो एफआईआर हो ही नही सकती है। उनका कहना है कि पुलिस उन्हें 15 तारीख को बलिया पहुंचकर बयान दर्ज करवाने का अल्टीमेटम दे गई है। लेकिन कोर्ट में उनकी दलीलें पल भर भी नही टिक पाएंगी।

खबरें और भी हैं...