• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lucknow
  • BJP Kisan Morcha Is Starting Its Kisan Chaupal From Today,Achievements Of Modi Yogi Government Will Be Told To Farmers In 58 Thousand 195 Gram Panchayats, Political Rumors Will Also Be Exposed

भाजपा किसान चौपाल आज से:58 हजार 195 ग्राम पंचायतों में किसानों को बताई जाएंगी मोदी-योगी सरकार की उपलब्धियां,राजनीतिक अफवाहों का भी होगा पर्दाफ़ाश

लखनऊएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भारतीय जनता पार्टी किसान मोर्चा, फाइट फोटो - Dainik Bhaskar
भारतीय जनता पार्टी किसान मोर्चा, फाइट फोटो

विजय दशमी के दिन भारत में किसान अपने-अपने घरों में खेती की औजारों की पूजा करते है और अपने सुखी एवं समृद्धिशाली जीवन की कामना करते है। भारतीय जनता पार्टी किसान मोर्चा भी उत्तर प्रदेश किसानों के जीवन में खुशहाली लाने के लिए 58 हजार 195 ग्राम पंचायतों में ग्राम किसान चौपाल का आज से आगाज करने जा रही है है।

भाजपा आज यानी विजय दशमी के दिन विजय शंखनाद करेगी। ग्राम किसान चौपाल अभियान के जरिए पार्टी 15 अक्टूबर विजया दशमी से लौह पुरूष सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती 31 अक्टूबर तक प्रदेश की प्रत्येक ग्राम सभा में जन संवाद करेगी।

15 से 31 अक्टूबर तक किसानों के साथ चौपाल पर बैठक

उत्तर-प्रदेश के लखीमपुर की घटना और लंबे समय से चल रहे किसान आंदोलन के राजनीतिक प्रभाव का आकलन और उसे खत्म करने के लिए भाजपा ने यह रणनीति बनाई है। भाजपा भले ही इसे किसानों की खुशहाली और समृद्धि से जोड़ रही हो लेकिन इस चौपाल के पीछे की कहानी किसानों की नाराजगी और असंतोष को कम करना भी है। दरअसल, UP चुनाव को लेकर भाजपा किसान आंदोलन की वजह से जरा सा भी जोखिम नहीं लेना चाहती है। लिहाजा, इसे UP में किसान आंदोलन और लखीमपुर घटना के लिए काउंटर की नीति माना जा रहा है। इस रणनीति को प्वाइंट्स में समझिए...

  1. 15 से 30 अक्टूबर तक UP की 104 विधानसभा सीटों के तहत आने वाले गांवों में भाजपा का किसान मोर्चा चौपाल लगाएगा। मोर्चा केवल आयोजक है, लेकिन इसमें किसानों से सीधा संवाद का काम भाजपा के किसान नेता करेंगे।
  2. इन चौपालों में उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्री, सांसद, विधायक, जिला पंचायत अध्यक्ष मौजूद रहेगें।
  3. बड़ी चौपाल की जगह खाट और चबूतरों पर छोटी चौपाल को तरजीह दी जाएगी। इसकी वजह है कि पार्टी किसानों से सीधा संवाद करना चाहती है। उत्तर प्रदेश भाजपा के शीर्ष नेतृत्व ने किसान मोर्चा को यह सुझाव दिया है कि वह किसानों के छोटे-छोटे समूहों तक पहुंचे और सरकार तक उनकी बात पहुंचाए।
  4. किसानों की समस्याएं सुनने के साथ ही उन्हें बैठक में किसानों की आय दोगुना करने, उनको समृद्धिशाली बनाने की जो योजनाओं के बारे में बताया जाएगा।
  5. इस चौपाल का असल मकसद गांवों में भाजपा के लिए लोगों का दिल टटोलना है, ताकि चुनाव से पहले पार्टी इस वर्ग की किसी भी किस्म की नाराजगी दूर कर दे।
  6. इस दौरान किसानों की सभी मांगों और समस्याओं को इकट्ठा कर एक दस्तावेज तैयार किया जाएगा। इस दस्तावेज को ग्रामीण किसानों का एक प्रतिनिधि मंडल मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सौंपेगा।

राजनीतिक अफवाहों का पर्दाफ़ाश होगा

भारतीय जनता पार्टी किसान मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष कामेश्वर सिंह का कहना है कि विपक्षी राजनीतिक पार्टियां चाहे समाजवादी पार्टी हो, बहुजन समाजवादी पार्टी हो अथवा कांग्रेस हो, इनके पास कोई योजना नहीं है, कोई मुद्दा नहीं हैं। यह सभी राजनीतिक पार्टियां केंद्र सरकार एवं उत्तर प्रदेश सरकार की जन कल्याणकारी योजनाओं से जनता का ध्यान हटाना चाहती हैं। राजनीतिक अफवाहों के सौदागर विपक्षी पार्टियों के लोग झूठ, अफवाह, भय पैदा कर उत्तर प्रदेश में अराजकता का वातावरण पैदा करना चाहतें है। इसके इस राजनीतिक झूठ का इस चौपाल के जरिए पर्दाफ़ाश किया जाएगा।

किसानों को बताई जाएंगी मोदी-योगी सरकार की उपलब्धियां

भाजपा किसान मोर्चा का कहना है कि मोदी सरकार ने किसानों के फसल उत्पाद का न्यूनतम समर्थन मूल्य तय करके किसान की आय बढ़ाने की दिशा में महत्वपूर्ण कदम उठाया है। कृषि कानून के माध्यम से किसानों को बंधन मुक्त किया है। किसान मजबूत होगा तभी देश सुखी एवं मजबूत होगा। किसानों के जीवन स्तर को उठाने के लिए योगी सरकार ने किसानों के कृषि ऋण को माफ करने, गन्ना मूल्य बढ़ाने, कृषि यंत्रों पर सब्सिडी देने, खाद बीज पर सब्सिडी देकर बीज की उपलब्धता सुनिश्चित करने, मृदा परीक्षण के माध्यम से किसान की खेत की ताकत को बढ़ाने, बिजली बिल के सर चार्ज माफी के माध्यम से किसान को राहत देने जैसे अनेक लोकप्रिय फैसले लिए है।