• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lucknow
  • BJP Leader's Demand After Meeting The President, His Excellency Gave Confidence, Will Talk To The Union Human Resource Development Ministry..

DDU गोरखपुर को सेंट्रल यूनिवर्सिटी का दर्जा मिले:BJP नेता ने राष्ट्रपति से की मांग, महामहिम ने दिया मानव संसाधन विकास मंत्रालय से बात करने का दिया भरोसा

लखनऊ3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात करते समीर सिंह। - Dainik Bhaskar
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात करते समीर सिंह।

गोरखपुर में स्थित दीनदयाल उपाध्याय यूनिवर्सिटी को सेंट्रल यूनिवर्सिटी का दर्जा दिए जाने की मांग शुरू हो गई है। गोरखपुर से भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता समीर सिंह ने बताया कि यह यूनिवर्सिटी आजादी के बाद पूर्वांचल की पहली यूनिवर्सिटी है। गोरखपुर के दौरे पर जब राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद आए थे तो उनसे मुलाकात कर इसकी मांग की थी। साथ में राष्ट्रपति को एक पत्र भी सौपा है, जिसमें गोरखुपर यूनिवर्सिटी में कृषि शिक्षा की पढ़ाई करवाने की मांग भी की गई है।

दरअसल,दीनदयाल उपाध्याय विश्वविधालय गोरखपुर में ना सिर्फ पूर्वांचल के बल्कि नेपाल और बिहार से भी बड़ी संख्या में छात्र पढ़ने आते हैं। इस विश्वविधालय से बड़ी संख्या में डीग्री कॉलेज भी सम्बद्ध है। लिहाजा यूनिवर्सिटी पर काम का बोझ ज्यादा है।

DDU गोरखपुर में जल्द ही शुरु हो सकती है एग्रीकल्चर की पढ़ाई

समीर सिंह का कहना है कि राष्ट्रपति से मुलाकात कर ना सिर्फ DDU को सेंट्रल यूनिवर्सिटी का दर्जा देने की मांग की है, बल्कि कृषि शिक्षा की शुरूआत करवाने का आग्रह भी किया है। राष्ट्रपित ने इस मसले पर केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय से बात करने की बात कही है। हमें उम्मीद है कि जल्द ही गोरखपुर विश्वविधालय को सेंट्रल यूनिवर्सिटी का दर्जा भी मिल जाएगा। इससे पूर्वांचल के साथ ही बिहार के सिवान, बेतिया और गोपालगंज से बड़ी संख्या में आने वाले छात्रों को भी फायदा मिलेगा। समीर सिंह का कहना है कि गोरखपुर मे पढ़ने के लिए बड़ी संख्या में नेपाल से भी छात्र आते हैं।

गोरखपुर बन रहा है 'एजुकेशन हब'

कभी पूर्वांचल की पहचान अपराध से होती थी, लेकिन अब यह एक शिक्षा के बड़े केंद्र के रुप में विकसित हो रहा है। अब सिर्फ गोरखपुर जिले में ही 4 विश्वविधालय होने जा रहे हैं। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अपने गोरखपुर दौरे के दैरान भटहट ब्लॉक के पिपरी-तरकुलहा में राज्य के पहले आयुष विश्वविद्यालय की आधारशिला रखी। साथ ही गोरक्षपीठ के अधीन संचालित गुरु गोरखनाथ विश्वविद्यालय सोनबरसा मानीराम का लोकार्पण भी किया। इससे पहले ही गोरखपुर में पंडित दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय और मदन मोहन मालवीय प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय है।

खबरें और भी हैं...