UP... 2017 में हारी सीटों पर BJP की नई रणनीति:ऐसी 84 विधानसभा सीटों पर 3-3 प्रत्याशियों के नाम मांगे गए, मेरठ सिटी और कैराना जैसी बड़ी सीटें भी खास फोकस

लखनऊ2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
BJP 2022 के चुनाव में कोई भी लापरवाही नहीं बरतना चाहती है। - Dainik Bhaskar
BJP 2022 के चुनाव में कोई भी लापरवाही नहीं बरतना चाहती है।

उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव के मिशन में लगी भाजपा ने 84 हारी हुई सीटों को जीतने का लक्ष्य रखा है। इनमें से दो दर्जन से ज्यादा सीटें ऐसी हैं जिन पर कभी BJP जीत हासिल नहीं कर पाई।

भाजपा के सूत्रों के मुताबिक 2022 के चुनाव को लेकर पार्टी ने इन सीटों पर मजबूत उम्मीदवार की तलाश तेज कर दी है। इसके लिए हारी हुई 84 सीटों पर 3-3 प्रत्याशियों के नाम मांगे गए हैं। इसके लिए भाजपा ने उस जिले के स्थानीय सांसद की ड्यूटी लगाई है।

फीडबैक के लिए उतारी लंबी टीम
यूपी के विधानसभा चुनाव-2017 में भाजपा ने 384 सीटों पर चुनाव लड़कर 312 सीटें जीती थीं और 72 सीटों पर उसे हार मिली थी। उसके बाद हुए उपचुनाव में भाजपा चार सीटें और हार गई। सुभासपा से गठबंधन टूटने के बाद पार्टी ने 2017 में इस दल को दी गईं आठ सीटों को भी, कुल हारी हुई सीटों की संख्या में शामिल कर लिया है।

इस तरह प्रदेश में 84 सीटें ऐसी हैं, जहां भाजपा या सहयोगी अपना दल के विधायक नहीं हैं। इन सीटों पर जीत के लिए भाजपा ने एक साल पहले से तैयारी शुरू कर दी थी। इन सीटों पर पार्टी के दिग्गज नेताओं, राज्यसभा सदस्यों, निगम, बोर्ड के अध्यक्षों और विधान परिषद सदस्यों को प्रभारी बनाया गया है। इन विधानसभा क्षेत्र के प्रभारियों ने विधानसभा क्षेत्रों में पार्टी के फार्मूले के अनुसार दौरा कर अपना फीडबैक पार्टी को दिया है।

क्या था 2017 विधानसभा चुनाव का परिणाम
2017 के आम चुनाव में बीजेपी गठबंधन ने प्रदेश की 403 सीटों में से 324 (जिसमें बीजेपी की 311 सीटें हैं) पर जीत दर्ज की थी। समाजवादी पार्टी व कांग्रेस के गठबंधन को 55 सीटों पर जीत मिली थी। वहीं, बहुजन समाज पार्टी 19 सीटों पर सिमट गई थी। अन्य के खाते में 5 सीटें आई थीं।

दिग्गजों की हारी इन सीटों पर पूरी दम लगाने की तैयारी

  • 2017 के विधानसभा चुनाव में मेरठ शहर सीट से बीजेपी के पूर्व विधायक लक्ष्मीकांत वाजपेयी हार गए थे।
  • भाजपा के पूर्व सांसद हुकुम सिंह की बेटी मृगांका सिंह कैराना सीट से विधानसभा चुनाव हार गई थीं।
  • इस समय भाजपा से राज्यसभा सांसद सीमा द्विवेदी, 2017 में मुंगराबाद शाहपुर विधानसभा क्षेत्र से चुनाव हार गई थीं।

विपक्ष के इन दिग्गज नेताओं की सीट पर भी विशेष नजर

  • अजय कुमार सिंह लल्लू की कुशीनगर जिले की तुमकुही राज विधानसभा सीट।
  • वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पूर्व मंत्री प्रमोद तिवारी की बेटी आराधना मिश्रा की प्रतापगढ़ जिले की रामपुर खास विधानसभा सीट।
खबरें और भी हैं...