पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लखनऊ विश्वविद्यालय:मिशन नेट-जेआरएफ की तैयारी पर मंथन, अभ्यथिर्यों को मिली गाइडेंस; सड़क उत्पीड़न के खिलाफ जागरुकता कार्यक्रम आयोजित

लखनऊ19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
लखनऊ विश्वविद्यालय। - Dainik Bhaskar
लखनऊ विश्वविद्यालय।

कोरोना काल मे शोध छात्रों का रिसर्च पर फोकस बरकरार रहे इसी मंशा से लखनऊ विश्वविद्यालय के शिक्षा विभाग द्वारा 'मिशन नेट एवं जेआरएफ' पर ऑनलाइन प्रोग्राम आयोजित किया गया। इस दौरान महामारी में शैक्षिक गतिविधियों में आ रही रुकावटों विशेष तौर पर नेट-जेआरएफ एस्पिरेंट्स की रणनीति पर गहन चर्चा हुई।

इस दौरान डिपार्टमेंट के 50 पीजी स्टूडेंट्स शामिल हुए जिन्हें एक्सपर्ट फैकल्टी के द्वारा गाइडेंस दिया गया। डिपार्टमेंट की गाइडेंस विंग ने नेट - जेआरएफ एस्पिरेंट्स को सिलेबस के अलावा डिटेल्ड कोर्स, बुक्स, गाइड समेत एग्जाम क्वालीफाई करने के लिए महत्वपूर्ण सुझाव के अलावा टाइम मैनेजमेंट की बेहतर रणनीति के साथ काम करने की बात कही।

ऑनलाइन सेशन में स्टूडेंट्स के अलावा एचओडी प्रो. तृप्ता त्रिवेदी, डॉ. अर्पणा गोडबोले, प्रो. मधुरिमा, अर्चना पाल, आस्था सिंह, नूतन पांडे समेत एलयू के शिक्षा विभाग की पहली जेआरएफ क्वालिफाइड प्रो. अमिता बाजपेयी ने अनुभव साझा किया।

सड़क उत्पीड़न के खिलाफ जागरुकता और प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित

एलयू के डिपार्टमेंट ऑफ सोशल वर्क व निजी संस्थान के सहयोग से सड़क उत्पीड़न पर रविवार को ऑनलाइन प्रशिक्षण सत्र आयोजित किया गया। सत्र में स्टूडेंट्स के साथ फैकल्टी मेंबर्स भी शामिल हुए।विषय विशेषज्ञ एनजीओ होलाबैक के साथ मिलकर सड़क उत्पीड़न के खिलाफ स्टैंड अप कंपैन की शुरुआत की गई है।

एचओडी प्रो अनूप कुमार भारतीय के बाद शुभम सिंह चौहान ने विषय पर डीप एनालिसिस साझा किया।उनके द्वारा हाल में हुई सड़क उत्पीडन की घटनाओं के अलावा खुद के साथ हुए इंसिडेंट और फिर उससे मिली प्रेरणा के बारे में भी बताया। विभिन्न प्रकार के उत्पीड़न से जुड़े विजुअल व वीडियो की जरिए इसके दुष्प्रभाव की भी जानकारी दी। 5D's पर फोकस करने की नसीहत देते हुए महिला व पुरुष दोनों को ही इसके खिलाफ आवाज़ बुलंद करने की अपील की।

खबरें और भी हैं...