बिकरु कांड में पुलिस को क्लीन चिट, BSP को ऐतराज:न्यायिक जांच समिति की रिपोर्ट पर BSP सांसद ने उठाया सवाल, सतीश मिश्रा बोले- हमारी सरकार आएगी तो दोबारा जांच कराएंगे

लखनऊ5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बलिया में आयोजित प्रबुद्ध सम्मेलन बसपा सांसद सतीश मिश्रा। - Dainik Bhaskar
बलिया में आयोजित प्रबुद्ध सम्मेलन बसपा सांसद सतीश मिश्रा।

कानपुर के बिकरू कांड की जांच के लिए गठित 3 सदस्यीय न्यायिक आयोग की रिपोर्ट पर बसपा सांसद सतीश मिश्रा ने सवाल उठाए हैं। सतीश चंद मिश्रा ने कहा कि जब बसपा की सरकार आएगी तो मामले की जांच दोबारा कराई जाएगी। यह बातें बसपा सांसद ने बलिया में आयोजित प्रबुद्ध सम्मेलन के बाद मीडिया से कहीं। उन्होंने कहा कि यूपी पुलिस मुख्यमंत्री के अंडर है, इस रिपोर्ट की कोई वैल्यू नहीं। हमारी सरकार आने दीजिए। दोबारा से इन सब को देखा जाएगा।

विधानसभा में पेश की गई थी आयोग की रिपोर्ट
बिकरू कांड के मुख्य आरोपी गैंगस्टर विकास दुबे को यूपी पुलिस ने एनकाउंटर में मार गिराया था। इस एनकाउंटर को अंजाम देने वाले यूपी पुलिस के कर्मियों की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाए गए थे। जिसके बाद जांच के लिए न्‍यायिक आयोग बनाया गया। घटना के एक साल बाद न्‍यायिक आयोग ने एनकाउंटर करने वाली पुलिस टीम को क्‍लीन चिट दे दी है। जांच आयोग की रिपोर्ट यूपी सरकार ने गुरुवार यानी 19 अगस्त को विधानसभा में पेश कर दी है।

3 सदस्यी न्यायिक आयोग ने की थी जांच
सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्‍यायाधीश बीएस चौहान की अध्यक्षता में गठित 3 सदस्यी जांच आयोग ने पूरे मामले की जांच की है। रिपोर्ट में कहा गया है कि विकास दुबे और उसके गैंग को स्‍थानीय पुलिस के अलावा कानपुर के राजस्‍व और प्रशासनिक अफसरों का संरक्षण मिला हुआ था। विकास को अपने गांव बिकरू स्थिति घर पर दबिश पड़ने की खबर स्‍थानीय चौबेपुर थाने से पहले ही मिल गई थी।

रिपोर्ट में कहा गया है कि विकास दुबे व उसके साथियों के पुलिस मुठभेड़ में मारे जाने की घटनाओं में पुलिस के दावों के विरुद्ध एक भी गवाह सामने नहीं आया। घायल पुलिसकर्मियों की मेडिकल रिपोर्ट उनके बयानों के अनुरूप ही पाई गई। विकास दुबे की पत्नी रिचा दुबे ने सुप्रीम कोर्ट में पति को फर्जी मुठभेड़ में मारे जाने की याचिका तो दाखिल की थी, लेकिन वह आयोग के सामने नहीं आईं।

विकास दुबे ने की थी 8 पुलिसवालों की हत्‍या
बिकरू गांव में 2 जुलाई, 2020 की रात को 8 पुलिसकर्मियों की हत्या कर दी गई थी। यह पुलिस टीम बिकरू निवासी कुख्यात माफिया विकास दुबे को पकड़ने उसके घर पर दबिश देने गई थी। पुलिस का आरोप है कि विकास दुबे और उसके गुर्गों ने एक पुलिस उपाधीक्षक समेत 8 पुलिसकर्मियों पर ताबड़तोड़ फायरिंग कर उनकी हत्या कर दी। इस घटना के हफ्ते भीतर ही विकास दुबे को मध्य प्रदेश की पुलिस ने उज्जैन में गिरफ्तार किया था। रास्ते में जब उसने भागने की कोशिश की तो पुलिस ने एनकाउंटर में मार गिराया।

खबरें और भी हैं...