कांग्रेस को नहीं मिल रहीं महिला कैंडिडेट:दावा 40% महिलाओं को टिकट देने का, दावेदारों की कतार में 15% ही दिख रहीं

लखनऊएक महीने पहलेलेखक: अविनाश रावत

उत्तर प्रदेश में 2022 के विधानसभा चुनावों में सभी पार्टियों ने रैलियों, यात्राओं और सम्मेलनों का सिलसिला शुरू कर दिया है। पार्टी सभी सीटों पर मजबूत उम्मीदवार उतारकर अपनी दावेदारी पुख्ता करने की कवायद में जुटी हैं। इसी कड़ी में कांग्रेस पार्टी ने टिकट के आवेदन की समय सीमा पूरी होने के बाद अब संभावित दावेदारों की स्क्रीनिंग भी शुरू कर दी है।

मंगलवार सुबह साढ़े 9 बजे शुरू हुई इस स्क्रीनिंग की शुरुआत लखनऊ विधानसभा की 9 सीटों पर 110 दावेदारों के इंटरव्यू से हुई। महिलाओं को 40 प्रतिशत आरक्षण को लेकर प्रियंका गांधी के निर्णय से यूपी की महिलाएं आश्वस्त नहीं हैं। यही वजह है कि कांग्रेस के मुख्यालय में टिकट की दावेदारी लेकर आए नेताओं में पुरुषों की संख्या अधिक है। प्रवेश द्वार से लेकर दोनों स्क्रीनिंग कक्षों के बाहर पुरुष नेताओं का ही जमावड़ा है। महिलाओं की संख्या 15-18 प्रतिशत ही है। लखनऊ मध्य से दावेदारी प्रस्तुत कर रहीं वरीस तारे बताती हैं कि महिलाओं का यहां तक लाना ही बड़ा चैलेंज है। हालांकि कई महिला दावेदार अपना दावा प्रस्तुत कर घर लौट चुकी हैं। जबकि पुरूष दावेदार कार्यालय में ही बने हुए हैं।

  • लखनऊ मंडल के 7 जिलों के दावेदारों की कांग्रेस मुख्यालय में हो रही स्क्रीनिंग
  • लखनऊ के अलावा उन्नाव, हरदोई, रायबरेली, सीतापुर और लखीमपुर की सीटों के लिए लखनऊ में आज दिनभर चलेगी स्क्रीनिंग
  • लखनऊ की नौ विधानसभी सीटों पर 110 नेताओं की दावेदारी
  • इनमें से स्क्रीनिंग में अब तक 20-22 ही पहुंची
  • आगरा, फैजाबाद, गोरखपुर और गाजियाबाद में हुई स्क्रीनिंग में भी महिलाओं दावेदारों की संख्या 15-18 फीसदी ही रही
  • भंवर जितेंद्र सिंह हैं स्क्रीनिंग कमेटी के चेयरमैन
  • दीपेंद्र हुड्‌डा, अजय कुमार लल्लू, वर्षा गायकवाड़ और अराधना मिश्रा भी शामिल हैं कैंडीडेट का चयन करने वाली स्क्रीनिंग कमेटी में
  • 10 अक्टूबर थी दावेदारी का आवेदन करने की अंतिम तिथि
  • बाद में महिलाओं के लिए 15 नवंबर तक दिया गया था मौका
  • 11 हजार रुपए फीस में महिलाओं को नहीं दी गई कोई छूट

यह नेता कर रहे हैं दावेदारों की स्क्रीनिंग
प्रियंका गांधी ने दावेदारों के दम-खम को परखने के लिए स्क्रीनिंग कमेटी में महाराष्ट्र की कैबिनेट मंत्री वर्षा गायकवाड़, राज्यसभा सदस्य दीपेंद्र हुड्‌डा, यूपी के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू और विधानमंडल की नेता राधना मिश्रा को कैंडीडेट की स्क्रीनिंग करने की जिम्मेदारी दी गई है।

सबसे ज्यादा महिलाएं लखनऊ मध्य सीट पर
महिलाओं को टिकटों में 40 प्रतिशत का आरक्षण देने की घोषणा के बाद सबसे ज्यादा महिला दावेदार लखनऊ मध्य सीट की हैं। इस सीट पर 15 लोगों ने दावेदारी प्रस्तुत की है, जिनमें से 7 महिलाएं है। इसके अलावा मोहनलाल गंज से 7 दावेदारों में 3, लखनऊ पूर्व के 11 दावेदारों में 3, कैंट के 9 दावेदारों में 2, और लखनऊ नार्थ से टिकट के 9 दावेदारों में 2 महिलाओं ने ही टिकट के लिए अपनी दावेदारी प्रस्तुत की है।

दावेदारी के बाद 11 हजार सदस्य बनाना बड़ा चैलेंज

टिकट की दावेदारी प्रस्तुत करने वाले नेताओं के लिए कांग्रेस ने पहली बार नया टास्क है। उन्हें कहा जा रहा है कि स्क्रीनिंग के बाद अगले कुछ दिनों में उन्हें कम से कम 11 हजार लोगों काे कांग्रेस की सदस्यता दिलानी होगी। इसके बाद ही उनके टिकट पर विचार किया जाएगा। लखनऊ मध्य से टिकट की दावेदर वरीस तारे बताती हैं कि यह टास्क महिलाओं के लिए थोड़ा मुश्किल है।

फीस में राहत नहीं
कांग्रेस ने विधानसभा सीटों पर टिकट की दावेदारी करने वालों के लिए आवेदन के साथ 11 हजार रुपए फीस तय की थी। 15 अक्टूबर आवेदन की अंतिम तिथि थी। हालांकि महिलाओं के लिए अंतिम तिथि बाद में बढ़ाकर 15 नवंबर कर दी गई। लेकिन 40 फीसदी आरक्षण का दावा करने के बावजूद दावेदारी की निर्धारित फीस में महिलाओं को किसी प्रकार की राहत नहीं दी गई है।