अयोध्या से चुनाव लड़ सकते हैं सीएम योगी:मोदी ने बनारस से लड़कर केंद्र में सरकार बनाई, वैसे ही अयोध्या से लड़कर यूपी जीतेंगे आदित्यनाथ

लखनऊएक वर्ष पहले

उत्तर प्रदेश विधानसभा 2022 के चुनाव में सीएम योगी आदित्यनाथ उम्मीदवार होंगे। इसके पीछे मोदी फार्मूला ही है। भाजपा के वरिष्ठ नेताओं की मानें तो जिस प्रकार पीएम नरेंद्र मोदी ने बनारस से लड़कर पूरे यूपी और देश में हिन्दूवादी माहौल बनाया और केंद्र में सरकार बनाई, कमोबेश उसी तरह योगी अयोध्या से लड़कर यूपी जीतने की रणनीति पर काम कर रहे हैं।

विधानसभा चुनाव लड़ने की जानकारी तो खुद योगी ने ही 5 कालिदास मार्ग में आयोजित मीडिया के साथ औपचारिक बातचीत में दी। वह कहां से चुनाव लड़ेंगे? इस पर फैसला पार्टी करेगी, कहकर बात को टाल दिया। हालांकि, चुनाव लड़ने की सूचना और सीटों की चर्चा काफी दिनों से है। माना जा रहा था कि योगी गोरखपुर, काशी, मथुरा या अयोध्या में से किसी एक पर चुनाव लड़ेंगे।

सीएम बनने के बाद योगी 40 बार अयोध्या पहुंचे हैं।
सीएम बनने के बाद योगी 40 बार अयोध्या पहुंचे हैं।

गोरखपुर से तो योगी के रिकॉर्ड वोटों से जीतने की गारंटी भी मानी जा रही है, लेकिन गोरखपुर उनका पुराना गढ़ रहा है। यहां से जीत पूरे यूपी में वो माहौल नहीं बना पाएगी जो बाकी सीटों पर भी मदद करे। गढ़ की सुरक्षा की छवि तोड़ने के लिए ही नरेंद्र मोदी भी 2014 में गुजरात से निकल बनारस पहुंचे थे। अब बनारस पीएम मोदी की लोकसभा सीट के रूप में स्थापित है। बनारस की किसी विधानसभा सीट से योगी के उतरने की संभावना भी न के बराबर मानी जा रही है। ऐसे में सिर्फ मथुरा और अयोध्या ही हैं, जहां से योगी आदित्यनाथ चुनावी समर में उतर सकते हैं। पिछले दिनों मथुरा में एक रैली के दौरान उन्होंने स्पष्ट कहा था कि मथुरा पावन भूमि है, तीर्थ है, मगर उनका यहां से चुनाव लड़ने का कोई इरादा नहीं है। वैसे भी रणनीतिकार मानते हैं कि हिंदूवादी वोटों को एकजुट करने के लिए मथुरा से ज्यादा महत्व अयोध्या का होगा। अयोध्या को योगी लगातार यूपी के गेमचेंजर के तौर पर स्थापित करने का भी प्रयास करते रहे हैं। इससे पूर्वांचल में भाजपा को तो फायदा मिलेगा ही, पूरे यूपी में हिन्दुत्व के ध्रुवीकरण में मदद मिलेगी।

अयोध्या पर सीएम योगी का फोकस

मुख्यमंत्री बनने के बाद 40 से ज्यादा बार योगी आदित्यनाथ अयोध्या आ चुके हैं। वह महीने में दो बार अयोध्या के दौरे पर रहते हैं। सीएम योगी अयोध्या को लेकर अलग तरह का प्लान तैयार कर रहे है। सीएम योगी धार्मिक कार्यक्रम से ज्यादा दीपोत्सव के कार्यक्रम को हर साल और भव्य बनाने पर जोर देते हुए दिखाई दिए। अयोध्या के लोग यह मानते है प्रदेश में योगी आदित्यनाथ के सीएम बनने के बाद अयोध्या की एक अलग पहचान बनी है। योगी ने कहा कि वह विधानसभा चुनाव लड़ेंगे। सूत्रों के मुताबिक सीएम योगी 2022 का चुनाव अयोध्या से लड़ेंगे। उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव में भाजपा तीन सौ से अधिक सीटों पर जीत हासिल करेगी। मुख्यमंत्री ने साफ किया कि भाजपा एक परिवार की तरह है। परिवार में जिम्मेदारी बदलती रहती है। सबकी भूमिका पार्टी तय करती है। विधायकों के टिकट में बदलाव के सवाल पर उन्होंने साफ किया विधायकों के टिकट पर भी फैसला पार्टी करेगी।

अयोध्या सदर से उतरने की संभावना ज्यादा

योगी आदित्य नाथ का अयोध्या सदर से चुनाव लड़ने की संभावना है। यहां से सपा के पवन पाण्डेय मैदान में हैं। 2012 में विधायक और राज्य मंत्री रह चुके हैं। 2017 में बीजेपी लहर में वेद प्रकाश गुप्ता ने उन्हें 50 हजार वोट से हराया था। लेकिन, अब सदर सीट बीजेपी के हाथ से निकलने के डर से योगी को चुनाव लड़ने की संभावना है। सदर सीट के अतरिक्त अन्य जगह से चुनाव नहीं लड़ेंगे। अयोध्या में 5 विधानसभा सीटें हैं और सब पर बीजेपी काबिज है।