पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

योगी ने युवाओं से की अपील:CM योगी ने लगातार तीन ट्वीट किए, कहा- किसी के बहकावे में न आएं, जिसको अपनी प्रॉपर्टी जब्त करानी हो वह गलत काम करे

लखनऊ15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को आबकारी विभाग से जुड़े चयनित लोगों को नियुक्ति पत्र बांटने के बाद युवाओं से अपील करते हुए कहा है वह किसी के बहकावे में न आएं। सरकार ने कोरोना काल में भी नौकरियां देने का काम किया है। आने वाले समय में रोजगार के और रास्ते खुलेंगे। योगी ने कहा कि सरकार प्रदेश में हर संभव कानून का राज स्थापित करने के हर संभव प्रयास किए हैं।

योगी ने अपने ट्वीट में कहा, ''हम लोगों ने प्रदेश में बेहतर कानून व्यवस्था के लिए हर संभव प्रयास किए हैं। परिणामत: प्रदेश में निवेश आया और इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट के कार्य हुए। इसके तहत 1.61 करोड़ से अधिक युवाओं को नौकरी व रोजगार से जोड़ने में सफलता प्राप्त हुई है।''

योगी ने अपने दूसरे ट्वीट में कहा कि प्रदेश के युवाओं से मेरी अपील है कि वह किसी के बहकावे में न आएं। आज कोई गलत नहीं कर सकता है। जिसको अपनी प्रॉपर्टी जब्त करवानी हो, वह गलत कार्य करे।

इससे पहले योगी ने एक अन्य ट्वीट में कहा कि निष्पक्ष, पारदर्शी एवं शुचितापूर्ण तरीके से सम्पन्न हुई भर्ती प्रक्रिया के अंतर्गत उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग द्वारा नवचयनित आबकारी निरीक्षकों को नियुक्ति पत्र प्राप्त होने की हार्दिक बधाई एवं @UPGovt का हिस्सा बनने पर अभिनंदन।

प्रियंका गांधी ने कहा था- युवाओं के आंसू चूर करेंगे सरकार का घमंड

हाल ही में लखनऊ के दौरे पर आईं कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रिंयंका गांधी ने यूपी के बेराजगारी के मुद्दे पर फेसबुक पोस्ट किया था। प्रियंका ने लिखा था, ‘''यूपी सरकार युवाओं को रोजगार के लिए रुला रही है। युवाओं की आंखों से निकला एक-एक आंसू सैलाब बनकर इस सरकार के घमंड के चकनाचूर करेगा। ढकोसलों के इतर जब सचमुच में सामाजिक न्याय लागू करने की बात आती है, तो ये सरकार बात तक सुनने को तैयार नहीं होती। युवा इसका हिसाब लेंगे। बीजेपी सरकार के झूठे विज्ञापनों में तो लाखों रोजगार बांटने की बात कही जा रही है। कहां बांट दिए ये रोजगार? युवा इन झूठे प्रचारों की हकीकत बता रहे हैं। हर दिन बेरोजगार युवा विरोध प्रदर्शन के जरिए यूपी सरकार से रोजगार मांगने के लिए आते हैं, लेकिन सरकार उनकी बात सुनने की बजाय पुलिसिया धौंस दे रही है।''

खबरें और भी हैं...