पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

UP में दैनिक भास्कर ने बड़ा भ्रष्टाचार रोका:कोरोना जांच के लिए 100 करोड़ से ज्यादा की टेस्टिंग किट 3 से 5 गुना ज्यादा दाम पर खरीदी जा रही थी, भास्कर में खबर छपी तो टेंडर हुआ निरस्त

लखनऊ उत्तर प्रदेश7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

राजधानी लखनऊ स्थित किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (KGMU) में कोरोना टेस्टिंग किट की खरीदी में गड़बड़ी की आशंका सच साबित हुई है। KGMU कोरोना टेस्टिंग की VTM किट 35.40 रुपए की दर से खरीद रहा था। उसी किट को यूपी मेडिकल सप्लाई कॉर्पोरेशन लिमिटेड (UPMSCL) महज 7.25 रुपए में खरीद रहा है। दैनिक भास्कर ने इस हेराफेरी को एक्सपोज किया था, जिस पर शासन ने मामले की जांच के आदेश दिए।

केजीएमयू वीसी डॉ. विपिन पुरी ने खरीद कमेटी में शामिल अधिकारियों पर दबाव बनाकर टेंडर निरस्त करवा दिया। वीसी का कहना है कि जेम पोर्टल के जरिए अब नए सिरे से उसी रेट पर किट की खरीद की जाएगी। जिस दर से दूसरे प्रदेश खरीद रहे हैं।

प्रदेश के सबसे प्रतिष्ठित मेडिकल संस्थान किंग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी में कोरोना टेस्टिंग के आरएनए एक्सट्रेशन, वीटीएम और आरटीपीसीआर किट खरीद का मार्च और अप्रैल में टेंडर निकाला गया था। किट खरीद के लिए बनी लोहिया, पीजीआई, सीमैप और केजीएमयू की संयुक्त कमेटी ने तीन कंपनियों को किट सप्लाई के लिए चयनित किया था। यह कंपनियां जो किट दूसरे राज्यों में 19 से 30 रुपए तक में बेच रही थीं, उसी किट के लिए केजीएमयू 35 से 65 रुपए तक भुगतान कर रहा था।

यही नहीं, खुद यूपी मेडिकल सप्लाई कॉर्पोरेशन केजीएमयू के 19 रुपए वाली वीटीएम किट का महज सात रुपए भुगतान कर रहा था। जानकारी होने के बाद भास्कर ने केजीएमयू के 103.98 करोड़ रुपए की किट खरीद के टेंडर प्रक्रिया की गहराई से पड़ताल की तो सामने आया कि केजीएमयू जनता के इस रुपए का बंदरबांट कर रहा है। भास्कर ने केजीएमयू और दूसरे राज्यों की सरकारी संस्थाओं में हो रही खरीद से जुड़े दस्तावेज ढूंढकर निकाले। दस्तावेजों की पड़ताल के बाद इस मामले का खुलासा किया गया था।

भास्कर की खबर का संज्ञान लेकर शासन ने मामले की जांच के निर्देश दिए। इसके बाद केजीएमयू प्रशासन भी हरकत में आ गया। केजीएमयू वीसी डॉ. विपिन पुरी ने बताया कि जिन दो कंपनियों को तीनों किट खरीदने का टेंडर दिया गया था उसमें वीटीएम किट सप्लाई करने वाली अवेंटर परफाॅर्मेंस मैटेरियल इंडिया लिमिटेड जेम के माध्यम से खुद सप्लाई न देकर लखनऊ के अमीनाबाद की मैसर्स नवज्योति साइंटिफिक सेल्स लिमिटेड कॉर्पोरेशन से 35.40 रुपए की दर से केजीएमयू को बेच रही थी।

सबसे कम रेट पर सप्लाई देने वाली कंपनी से होगी खरीद
केजीएमयू ने किट खरीदने का का टेंडर मैसर्स इनवोसल्युशन हेल्थ केयर प्राइवेट लिमिटेड, अवेंटर परफाॅर्मेंस मैटेरियल इंडिया लिमिटेड व मैसर्स जीनियस बायो सिस्टम को दिया था। जांच में भास्कर की पड़ताल सही साबित हुई। पाया गया कि केजीएमयू को 35.40 रुपए की दर से किट बेचने वाली अवेंटर परफाॅर्मेंस कंपनी यही किट पड़ोसी राज्य बिहार में 19 रुपए में सप्लाई कर रही है। अन्य दोनों कंपनियों के रेट मिलाए गए तो पता चला कि गुजरात, उड़िसा, झारखंड और अन्य राज्यों में ये कंपनियों यही किट करीब आधे दाम पर बेंच रही है। केजीएमयू वीसी का कहना है कि अवेंटर के सभी टेंडर निरस्त किए जा चुके हैं। बाकी दोनों कंपनियों से फिलहाल खरीद रोक दी गई है। नए सिरे से टेंडर कराया जाएगा। इसमें देश भर के रेट का मिलान करने के बाद सबसे कम दर पर सप्लाई देने वाली कंपनी का चयन किया जाएगा।

यह है भास्कर के पड़ताल की थ्योरी

वीटीएम किट
केजीएमयू: एवंटर परफाॅर्मेंस मैटेरियल इंडिया लिमिटेड से 35.40 रुपए की दर से 30 हजार किट खरीद रहा है।
बिहार मेडिकल सर्विस एंड इंफ्रास्ट्रक्चर कार्पोरेशन: एवंटर परफाॅर्मेंस मैटेरियल इंडिया लिमिटेड से यह किट 19.40 रुपए में खरीदा।
यूपी मेडिकल सप्लाई कॉर्पोरेशन: मैसर्स रितिका पाण्डेय की फर्म 7.25 रुपए की दर से 21 लाख किट का एक करोड़ 52 लाख 25 हजार रुपए भुगतान
किया।
झारखंड हेल्थ मेडिकल एजुकेशन एंड फैमिली वेलफेयर डिपार्टमेंट: बायोसेंस टेक्नोलॉजीज प्राइवेट लिमिटेड से यह किट का 22.40 रुपए में खरीद रहा।
गुजरात मेडिकल सर्विस कारपोरेशन: मेरील डायग्नोस्टिक्स प्राइवेट लिमिटेड से यह किट 13.44 रुपए की दर से खरीद रहा।

आरएनए एक्सट्रेशन किट
केजीएमयू: मैसर्स जीनियस बायो सिस्टम पुणे से 65.03 रुपए में क्रय कर रहा है।
गुजरात मेडिकल सप्लाई कॉर्पोरेशन: हिमीडिया लैबोरटरी प्राइवेट लिमिटेड से यह किट 13.95 रुपए में खरीदी जा रही है।
उड़ीसा स्टेट मेडिकल कॉर्पोरेशन: एक्सवा सीकम बायोटेक से इसे 14 रुपए में क्रय किया है।

आरटीपीसीआर किट
केजीएमयू: मैसर्स एनवोसल्युशन प्रा. लिमिटेड से यह किट 50.40 रुपए में खरीद रहा है।
गुजरात मेडिकल कॉर्पोरेशन: जीसीसी बायोटेक इंडिया से यह किट 23 रुपए में क्रय की गई।
झारखंड रूरल हेल्थ मिशन सोसाइटी: जीसीसी बायोटेक इंडिया से 28 रुपए खरीदी गई।
असम नेशनल हेल्थ मिशन: जेनस 2एमई प्राइवेट लिमिटेड से यह किट 30.88 रुपए में क्रय की गई।

खबरें और भी हैं...