14 जनवरी को जारी होगी भाजपा उम्मीदवारों की सूची:योगी अयोध्या, केशव सिराथु से होंगे उम्मीदवार, निषाद पार्टी को पूर्वांचल की 18 सीटें मिलेंगी

लखनऊ11 दिन पहले

दिल्ली में भाजपा केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक में अयोध्या से योगी आदित्यनाथ और प्रयागराज के सिराथू से केशव मौर्य के नाम पर लगभग सहमति बन गई है। यदि कोई बड़ा फेरबदल नहीं हुआ तो दोनों के नाम इन सीटों से तय माने जा रहे हैं। उधर सांसद रीता बहुगुणा जोशी ने अपने बेटे मयंक के लिए टिकट मांगी है। मयंक लखनऊ कैंट से भाजपा के उम्मीदवार हो सकते हैं। 14 जनवरी को एनडीए लखनऊ में अपने उम्मीदवारों की पहली सूची जारी कर सकता है।

उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या ने कहा कि बैठक में 172 सीटों पर चर्चा हुई। संजय निषाद ने कहा कि 15 से 18 सीटों पर सहमति बन गई है। पूर्वांचल में ज्यादातर सीटों पर हम चुनाव लड़ेंगे। निषाद ने कहा कि BJP से गठबंधन बड़े भाई और छोटे भाई का है।

चुनाव समिति की बैठक में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, यूपी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव, संगठन महामंत्री सुनील बंसल शामिल हैं। इसके अलावा, जेपी नड्‌डा और राजनाथ सिंह इसमें ऑनलाइन जुड़े हैं।

केंद्रीय चुनाव समिति (CEC) की बैठक में पहले और दूसरे फेज के प्रत्याशियों के नाम फाइनल हो सकते हैं। इसके बाद 14 या 15 जनवरी को संसदीय बोर्ड इन नामों की घोषणा कर सकता है।

इससे पहले पिछले दो दिनों से केंद्रीय गृह मंत्री और बीजेपी नेता अमित शाह की अध्यक्षता में दिल्ली में बैठकें हुईं। खबर है कि 2 दिन की इन बैठकों में करीब 160 नामों को तय किया गया है। हालांकि, कुछ सीटों को लेकर अभी भी प्रत्याशी तय नही हो पाए है।

पहले चरण की 58 और दूसरे चरण की 55 सीटों के नाम तय
दिल्ली में दो दिनों तक गृहमंत्री अमित शाह, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और चुनाव प्रभारी धर्मेंद्र प्रधान की मौजूदगी में हुए मंथन में पहले और दूसरे फेज के प्रत्याशियों के नाम लगभग तय हो गए हैं। पहले चरण की 58 और दूसरे चरण की 55 सीटों में से अधिकांश पर प्रत्याशियों के नाम तय कर लिए गए हैं। कोर कमेटी की बैठक में पश्चिमी यूपी की 71 और ब्रज की 65 सीटों पर प्रत्याशी चयन पर मंथन किया गया। हालांकि, खबर यह भी है कि पश्चिमी यूपी के कुछ सीटों पर भाजपा वेट एंड वाच की नीति अपना रही है। इन सीटों पर विपक्षी दलों की घोषणा के बाद ही उम्मीदवार उतारे जाएंगे।

लखनऊ में भाजपा में मची भगदड़ का टिकट बंटवारे पर असर
कहा जा रहा है कि लखनऊ में भाजपा नेताओं के पार्टी छोड़ने का असर टिकट बंटवारे पर भी हो सकता है। पार्टी के कई बड़े नेताओं ने कोर कमेटी की बैठक में माना है कि बड़ी संख्या में मौजूदा विधायकों के टिकट काटने से भगदड़ बढ़ सकती है और इससे गलत संदेश जा सकता है। लिहाजा, जिन सीटों पर विधायक चुनाव हार रहे हैं। उन्हीं का टिकट काटा जा सकता है। ऐसे में कुछ सीटिंग विधायकों के नामों पर भी मुहर लगाई गई है, जिन्हें उनकी मौजूदा सीट से चुनाव लड़ाया ही जाना है।

निषाद पार्टी और अपना दल के साथ भी सीट शेयरिंग पर चर्चा
कोर कमेटी की दूसरे दिन की बैठक के दौरान निषाद पार्टी के अध्यक्ष संजय निषाद और अपना दल की राष्ट्रीय अध्यक्ष अनुप्रिया पटेल ने भी सभी BJP नेताओं से मुलाकात की और सीट बंटवारे पर चर्चा की। खबर है कि अनुप्रिया पटेल अपना दल के लिए करीब एक दर्जन सीटें मांग रही हैं। पूर्वांचल के अलावा अवध और बुंदेलखंड में भी अपना दल सीटों की मांग कर रही है। निषाद पार्टी के लिए भी अभी सीटें तय नही हो गई है। खबर है कि केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक के बाद सहयोगी दलों की सीटों का फैसला भी होगा।

खबरें और भी हैं...