यूपी में 'आप' का दांव, महिलाओं को देंगे एक हजार:लखनऊ में केजरीवाल बोले- सपा ने कब्रिस्तान, योगी ने सिर्फ श्मशान बनवाए, मैं स्कूल-अस्पताल बनवाऊंगा

लखनऊ5 महीने पहले

आम आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रविवार को लखनऊ में चुनावी रैली की। यहां आशियाना के स्मृति उपवन में अरविंद केजरीवाल ने कहा कि पिछली सरकार (सपा) ने सिर्फ कब्रिस्तान और योगी सरकार ने सिर्फ श्मशान घाट बनवाए। हमें एक मौका दीजिए आपके बच्चों के लिए स्कूल बनवाऊंगा। आम आदमी पार्टी के संकल्प पत्र में मुफ्त बिजली, कर्ज माफी और रोजगार सबसे बड़ा मुद्दा है।

केजरीवाल ने सपा, बसपा, कांग्रेस और भाजपा को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि 75 साल में इन पार्टियों ने जानबूझकर देश को गरीब और अशिक्षित रखा ताकि हम इनकी रैलियों में जाते रहें और इनके वोट बैंक बनते रहें। सरकारी स्कूलों को खराब रखा, 5 साल में अगर हमने दिल्ली के सरकारी स्कूल ठीक कर दिए तो क्या UP में नहीं हो सकते थे? उन्होंने ऐलान किया कि यदि उनकी सरकार बनती है तो 18 साल से अधिक उम्र की महिलाओं को हर महीने एक हजार रुपए देंगे।

रैली में लोग तिरंगा और केजरीवाल का कटआउट लेकर पहुंचे थे।
रैली में लोग तिरंगा और केजरीवाल का कटआउट लेकर पहुंचे थे।

अब देश को स्कूल-अस्पताल चाहिए

2017 में भाजपा के देश के सबसे बड़े नेता ने उत्तर प्रदेश में आकर कहा था कि अगर यूपी में कब्रिस्तान बनते हैं, तो श्मशान घाट भी बनने चाहिए। योगी सरकार ने पिछले पांच सालों में केवल और केवल श्मशान घाट बनवाए। मुझे स्कूल बनवाने आते हैं, दिल्ली में बनवा कर आया हूं। उत्तर प्रदेश में भी बनवाऊंगा। इनको नहीं बनवाने आते हैं। 75 साल में इन्होंने नहीं बनवाए। ये केवल कब्रिस्तान और श्मशान घाट बनवा सकते हैं, वो बहुत बनवा दिए इन्होंने। अब बस अब देश को स्कूल और अस्पताल चाहिए।

अमौसी एयरपोर्ट पर केजरीवाल के पहुंचने पर कार्यकर्ताओं ने जोरदार स्वागत किया।
अमौसी एयरपोर्ट पर केजरीवाल के पहुंचने पर कार्यकर्ताओं ने जोरदार स्वागत किया।

करोड़ों रुपए इश्तिहार में फूंक दिए

केजरीवाल ने कहा कि जिस तरह से कोरोना के दौरान इन्होंने मिस मैनेजमेंट किया। इन लोगों से सरकार नहीं संभली। पूरी दुनिया में थू-थू हुई। पूरी दुनिया में अगर एक कोई राज्य है, जहां सबसे बुरा कोरोना का मैनेजमेंट हुआ, तो वह उत्तर प्रदेश है। इनका इतना बुरा मैनेजमेंट था कि अमेरिका की सबसे बड़ी मैगजीन में इनको 10-15 पेज का इश्तिहार देना पड़ा। अगर आपने अच्छा काम किया है, तो आपको इश्तिहार देने की क्या जरूरत है। आज पूरे देश में एक-एक आदमी कहता है कि दिल्ली में केजरीवाल सरकार ने कोरोना बड़ा अच्छा मैनेज किया। बहुत बड़ी महामारी थी।

हमने इश्तेहार नहीं दिया कि हमने कोरोना अच्छी तरह से मैनेज किया। आज आपमें से कोई दिल्ली जाकर एक राउंड लगा लो। पूरे दिल्ली में केजरीवाल के होर्डिंग नहीं मिलते। योगी के होर्डिंग मिलते हैं। पूरी दिल्ली में मैंने काउंट कराए, दिल्ली सरकार के 106 होर्डिंग लगे हैं और योगीजी के 850 होर्डिंग लगे हैं। कई बार तो यह पता नहीं लगता है कि ये उत्तर प्रदेश का चुनाव लड़ रहे हैं या दिल्ली का चुनाव लड़ रहे हैं।

आशियाना स्थित स्मृति उपवन में उमड़ा जैनसैलाब।
आशियाना स्थित स्मृति उपवन में उमड़ा जैनसैलाब।

बाबा साहब आंबेडकर की तारीफ में यह कहा
दोस्तों मैं बाबा साहब आंबेडकर का बहुत बड़ा फैन हूं। फैन नहीं भक्त हूं... भक्त नहीं पुजारी हूं। पूजता हूं बाबा साहब को। मैं जितना उनके जीवन के बारे में पढ़ता हूं, ताज्जुब करता हूं कि ऐसा आदमी हो सकता है क्या? ऐसा इंसान था क्या दुनिया के अंदर। इतने गरीब घर में जन्मे। बचपन से छुआ-छूत बर्दाश्त की... अन्याय बर्दाश्त किया।

उस जमाने में अंग्रेजों के जमाने में विदेशों से दो-दो डिग्री लेकर आए थे। एक अमेरिका से और एक लंदन से। आज यहां इतने सारे लोग बैठे हैं। मुझे नहीं लगता है कि चार-पांच से ज्यादा होंगे, जिनके बच्चे अमेरिका-लंदन से पीएचडी की डिग्री ला सकते हैं। बहुत पैसे लगते हैं, स्कॉलरशिप आसानी से नहीं मिलती। आसान नहीं है पीएचडी की डिग्री लेना।

उन्होंने एक नहीं, दो-दो पीएचडी की डिग्री लंदन और अमेरिका से ली। लंदन में उनकी डिग्री छूट गई। पैसे खत्म हो गए। वापस आए यहां पर पैसे कमाए... फिर अपनी डिग्री पूरी करने के लिए दोबारा लंदन गए। क्या आदमी थे... क्या इंसान थे।

उन्होंने 62 विषयों पर मास्टर्स किया। भारत का संविधान लिखा, ये तो सभी जानते हैं। बाबा साहब का एक सपना था। बाबा साहब यह समझ गए थे कि समाज को बराबरी तभी मिलेगी, जब हर बच्चा अच्छी शिक्षा पाएगा। अच्छी शिक्षा पाना जरूरी है। आज 70 साल बाद भी हम उनका सपना पूरा नहीं कर पाए हैं। मैंने कसम खाई है, बाबा साहब का सपना मैं पूरा करूंगा।