रामभक्तों के लिए बड़ी खुशखबरी:अयोध्या में बन रहे मंदिर में दिसंबर 2023 से कर सकेंगे रामलला के दर्शन, मंदिर के बाकी काम 2025 तक पूरे किए जाएंगे

लखनऊ / अयोध्या6 महीने पहले

रामभक्तों के लिए बड़ी खुशखबरी है। अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि पर बनने वाले मंदिर में श्रद्धालु दिसंबर 2023 से रामलला के दर्शन कर सकेंगे। मंदिर ट्रस्ट के पदाधिकारियों का कहना है कि रामलला 2023 तक गर्भगृह में विराजमान हो जाएंगे। रामलला के विराजते ही मंदिर श्रद्धालुओं के लिए खुल जाएगा। हालांकि, मंदिर से जुड़े बाकी काम 2025 तक पूरे होंगे।

मंदिर ट्रस्ट का कहना है कि गणेशोत्सव के दौरान मंदिर की नींव का काम पूरा हो जाएगा। इसके बाद अगले चरण का काम शुरू होगा। 2023 में दिसंबर महीने से पहले रामलला का गर्भगृह बनकर तैयार हो जाएगा। जुलाई में श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की बैठक में भी इस पर चर्चा हुई थी। ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने उस समय भी कहा था कि 2023 के आखिर तक लोग राम मंदिर में दर्शन कर सकेंगे।

ट्रस्ट का कहना है कि राम मंदिर की नींव का काम गणेशोत्सव तक काम पूरा कर लिया जाएगा।
ट्रस्ट का कहना है कि राम मंदिर की नींव का काम गणेशोत्सव तक काम पूरा कर लिया जाएगा।

मुख्यमंत्री बनने के बाद योगी 29 बार अयोध्या आए
5 अगस्त को राम मंदिर के शिलापूजन का एक साल पूरा हो रहा है। इस मौके पर उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अयोध्या पहुंच रहे हैं। वे रामलला के दरबार में विशेष अनुष्ठान में शामिल होंगे। दोपहर 2.15 बजे योगी रामलला के दर्शन करेंगे। उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनने के बाद योगी आदित्यनाथ 50 महीने में 29 बार अयोध्या पहुंचे हैं।

योगी आदित्यनाथ अयोध्या के वासुदेव घाट पर दोपहर 12:15 बजे अन्न योजना की शुरुआत करेंगे। वे यहां दो घंटे तक रुकेंगेl कयास लगाए जा रहे हैं कि प्रधानमंत्री मोदी भी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए लोगों को संबोधित कर सकते हैं। योगी अयोध्या से दोपहर 3 बजे रवाना होंगे।

जन्मभूमि पर बनने वाले मंदिर का गर्भगृह दिसंबर 2023 तक तैयार करने का लक्ष्य है।
जन्मभूमि पर बनने वाले मंदिर का गर्भगृह दिसंबर 2023 तक तैयार करने का लक्ष्य है।

रामलला को चांदी के झूले पर बैठाने की तैयारी
अयोध्या में संत भूमिपूजन की सालगिरह को दीपावली जैसा उत्सव मनाने की तैयारी कर रहे हैंl श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट सावन में रामलला को चांदी के सिंहासन पर बैठाने की तैयारी कर रहा हैl 500 साल बाद रामलला के लिए चांदी का झूला बनवा रहे ट्रस्ट ने सिंहासन की नापतौल भी करा ली हैl

मंदिर की नींव तैयार होते ही डिजाइन के मुताबिक ऊपरी हिस्से का काम शुरू होगा।
मंदिर की नींव तैयार होते ही डिजाइन के मुताबिक ऊपरी हिस्से का काम शुरू होगा।

राममंदिर के लिए रामादल सोने की चौखट देगा
रामादल ट्रस्ट ने रामलला के मंदिर में सोने की चौखट देने की घोषणा की है। ट्रस्ट के अध्यक्ष पंडित कल्किराम ने कहा कि भूमि पूजन के बाद उन्होंने श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय को सोने की चौखट देने का संकल्प पत्र सौंपा था। अब मंदिर का मॉडल बदलने के बाद रामादल ट्रस्ट ने एक बार फिर मंदिर की चौखट की माप मांगी है।

खबरें और भी हैं...