• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lucknow
  • ED Raid Over Conversion Funding Case: ED Raids At 3 Places In Delhi And 3 Places In UP Of Accused Umar Gautam Organization Recovered Many Important Documents Related To Money Transfer And Hawala

6 शहरों में ED की छापेमारी:धर्मांतरण की फंडिंग को लेकर ED ने दिल्ली और UP में 6 जगहों पर डाली रेड, मौलाना उमर गौतम की संस्था IDC के हवाला से जुड़े दस्तावेज जब्त

लखनऊ4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आरोपी उमर और जहांगीर के ठिकानों से कई अहम दस्तावेज बरामद हुए हैं। - Dainik Bhaskar
आरोपी उमर और जहांगीर के ठिकानों से कई अहम दस्तावेज बरामद हुए हैं।

धर्मांतरण के लिए विदेशों से भेजे जा रहे फंड के बारे में साक्ष्य जुटाने के लिए प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने शनिवार को दिल्ली में 3 और यूपी के 3 स्थानों पर छापेमारी की। जामिया नगर दिल्ली में इस्लामिक दावा सेंटर के कार्यालय से ED को कई अहम दस्तावेज मिले हैं। इनके आधार पर ED अब उन देशों की एजेंसियों से संपर्क करेगी जहां से ये फंड भेजे जा रहे थे। इसके अलावा उमर गौतम के पैतृक निवास फतेहपुर और कानपुर में भी कई जगह छापे मारे गए हैं।

दिल्ली में 3 और यूपी के 3 स्थानों पर ED की छापेमारी
ED की ATS शाखा की ज्वाइंट डायरेक्टर सोनिया नारंग ने बताया कि यूपी के जबरन धर्म परिवर्तन मामले में दिल्ली में 3 और यूपी के 3 स्थानों पर तलाशी ली गई। यूपी में लखनऊ के मलीहाबाद में स्थित अल हसन एजुकेशन एंड वेलफेयर फाउंडेशन और गाइडेंस एजुकेशन एंड वेलफेयर सोसाइटी के दफ्तरों पर छापेमारी की है। इसके अलावा आजमगढ़ के एक मदरसे में भी छानबीन की जा रही है।

ये संगठन उमर गौतम द्वारा चलाए जा रहे हैं और अवैध धर्मांतरण में इनकी महत्वपूर्ण भूमिका हैं। तलाशी के दौरान कई आपत्तिजनक दस्तावेज जब्त किए गए हैं, जो पूरे भारत में आरोपी उमर गौतम और उनके संगठनों द्वारा किए गए बड़े पैमाने पर धर्मांतरण का खुलासा कर रहे हैं। दस्तावेजों से यह भी पता चल रहा कि धर्मांतरण के लिए विदेशी संगठनों ने करोड़ों की फंडिंग की है।

अब तक 15 करोड़ रुपए की विदेशी फंडिंग आई सामने
धर्मांतरण के मामले में ATS को अभी तक करीब 15 करोड़ रुपए के विदेशी फंड और इन्हें भेजने वाले संगठनों की जानकारी मिली है। इसके अलावा करोड़ों रुपए हवाला के जरिए मंगवाए गए, जिसके बारे में साक्ष्य जुटाने की कोशिश चल रही है। इसी कड़ी में मामले की जांच कर रही ED की टीम शनिवार सुबह से छापेमारियां कर रही है।

ED अफसरों ने बताया कि अब तक मौलाना उमर गौतम की संस्था इस्लामिक दावा सेंटर के जमिया नगर दिल्ली स्थित ऑफिस, बाटला हाउस स्थित उसके घर, नोएडा डेफ सोसायटी, उमर गौतम के सहयोगी मुफ्ती काजी जहांगीर कासिमी के घर और उमर गौतम के पैतृक गांव फतेहपुर में छापेमारी हो चुकी है। कानपुर में संचालित IDC की कुछ सहयोगी संस्थाओं की तलाशी लेकर उनके रिकॉर्ड खंगाले गए।

विदेशी संगठनों से जुड़े तमाम अहम दस्तावेज जब्त किए गए
बताया जा रहा है कि उमर और जहांगीर के ठिकानों से कई अहम दस्तावेज बरामद हुए हैं। जो उमर की संस्था फातिमा चैरिटेबल ट्रस्ट, IDC और उसकी तमाम सहयोगी संस्थाओं को मिले फंड से जुड़े हुए हैं। इसके अलावा हवाला के जरिए हुए बड़े लेनदेन के बारे में भी कई साक्ष्य हाथ लगे हैं।

विदेशी संगठनों के खिलाफ साक्ष्य बनेंगे बरामद दस्तावेज
उमर गौतम के सहयोगी सलाहुद्दीन को गुजरात के बड़ोदरा से गिरफ्तार करने के बाद कई विदेशी संगठनों की जानकारी मिली थी। जो उसकी संस्था AFMI के जरिए गौतम की संस्था IDC तक फंड पहुंचा रहे थे। इनमें यूके के जुलेखा जिंगा फाउंडेशन, मजिलिस अल फतह ट्रस्ट, फिरदौस फाउंडेशन, इखार विलेज वेल्फेयर ट्रस्ट, नॉर्थ वेस्ट रिलीफ ट्रस्ट और गुजराती मुस्लिम एसोसिएशन ऑफ अमेरिका मुख्य रूप से शामिल हैं। ईडी अफसरों का कहना है कि उमर के ठिकानों से बरामद दस्तावेजों से इन संगठनों पर शिकंजा कसने में मदद मिलेगी।

खबरें और भी हैं...