• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lucknow
  • Every Year About 11 Thousand Cases Are Being Registered In The State, 50 Thousand Complaints On National Cyber Crime Reporting Portal, Workshop Will Also Be Held In UP On The Lines Of Agra

साइबर अपराधियों पर होगा 'वार'...UP पुलिस हो रही तैयार:प्रदेश के 16 जोन में चलेगा जागरूकता कैंपेन, आगरा में 862 को मिली ट्रेनिंग, हर साल दर्ज हो रहे 11 हजार केस

लखनऊ4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

यूपी में बढ़ते साइबर क्राइम पर लगाम लगाने के लिए साइबर सेल में तैनात पुलिस कर्मियों को प्रशिक्षित किया जाएगा। प्रशिक्षण की शुरुआत आगरा में हो चुकी है। इसी तर्ज पर पूरे प्रदेश के सभी 16 जोन में साइबर जागरुकता कैंपेन चलाया जाएगा। डीजीपी मुकुल गोयल ने कहा, मोबाइल और कंप्यूटर के बढ़ते उपयोग के कारण बढ़ रहे साइबर अपराधों से बचने के लिए जनता को जागरूक करने की जरूरत है। इसके लिए “रोकथाम, इलाज से बेहतर है” के सिद्धान्त पर काम करना होगा। उन्होंने कहा कि जनता को साइबर अपराधों से बचाव की पर्याप्त जानकारी नहीं है। साइबर क्राइम की कोई सीमा नहीं है। साइबर अपराधी बच्चों से लेकर बुजुर्ग तक को टारगेट कर रहे हैं।

हमारी यूपी पुलिस भी अभी साइबर ट्रेनिंग के दौर में है। इसलिए सबको सावधान रहने की जरूरत है। आगरा जोन द्वारा चलाए गए साइबर जागरुकता कैंपेन की तरह यूपी के अन्य जोन भी कैम्पेन चलाए जाएं, जिससे पुलिस कर्मियों साइबर अपराधियों से निपटने की ट्रैनिंग मिल सके।
आगरा में 862 पुलिस कर्मियों को दिया गया प्रशिक्षण
आगरा जोन में 12 सेशनों में साइबर क्राइम के विभिन्न विषयों (एटीएम क्लोनिंग, फिशिंग, मालवेयर, पोर्नोग्राफी आदि) पर पुलिस कर्मियों को जानकारी दी गई। इसमें 862 पुलिसकर्मियों को प्रशिक्षित किया गया था। अब ऐसे ही प्रदेश के हर जोन में पुलिस कर्मियों को प्रशिक्षित किया जाएगा।

यह फोटो 26 जुलाई की है। ऑनलाइन जॉब पोर्टल से जॉब सीकर्स का डाटा प्राप्त कर ठगी करने वाले तीन आरोपियों (बाएं से) मुदित शर्मा, विष्णु शर्मा और अमर श्रीवास्तव को पकड़ा था। यह सभी फर्जी वेबसाइट बनाकर नौकरी के लिए रजिस्ट्रेशन कराने के नाम पर लोगो के खातों की गोपनीय जानकारी प्राप्त कर ठगी कर रहे थे। इन्हें लखनऊ साइबर क्राइम थाने की पुलिस ने पकड़ा था।
यह फोटो 26 जुलाई की है। ऑनलाइन जॉब पोर्टल से जॉब सीकर्स का डाटा प्राप्त कर ठगी करने वाले तीन आरोपियों (बाएं से) मुदित शर्मा, विष्णु शर्मा और अमर श्रीवास्तव को पकड़ा था। यह सभी फर्जी वेबसाइट बनाकर नौकरी के लिए रजिस्ट्रेशन कराने के नाम पर लोगो के खातों की गोपनीय जानकारी प्राप्त कर ठगी कर रहे थे। इन्हें लखनऊ साइबर क्राइम थाने की पुलिस ने पकड़ा था।

नेशनल साइबर क्राइम रिपोर्टिंग पोर्टल पर 50 हजार शिकायतें
यूपी में हर साल करीब 11 हजार मुकदमें दर्ज हो रहे हैं। वहीं नेशनल साइबर क्राइम रिपोर्टिंग पोर्टल पर 50 हजार शिकायतें दर्ज हो रही हैं। जो हर साल बढ़ रहे हैं। प्रदेश में वर्ष 2019 में 10,341, वर्ष 2020 में 11,772 और वर्ष 2021 में अब तक 5,077 साइबर अपराध की एफआईआर दर्ज हुई हैं।

साइबर थानों पर दर्ज हुए 256 एफआईआर
प्रदेश में 2020 में 16 रेंज में बने साइबर थानों में 256 साइबर अपराध की एफआईआर दर्ज की गईं। जिसके आधार पर पुलिस टीम ने 400 साइबर अपराधियों को गिरफ्तार किया। वहीं पीड़ितों के खातों से निकले करीब 6 करोड रुपये की वापसी कराई गई।

खबरें और भी हैं...