• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lucknow
  • Evidence Gathered By The Economic Wing Of ATS, Umar Gautam And Salahuddin Were The Main Sources Of Fund Raising, Money Was Coming From America And Britain

धर्मांतरण के लिए 150 करोड़ की विदेशी फंडिंग:उमर गौतम और सलाहुद्दीन फंड जुटाते थे, अमेरिका-ब्रिटेन से आ रहा था पैसा; ATS ने जुटाए साक्ष्य

लखनऊ2 महीने पहले

यूपी एटीएस की आर्थिक शाखा ने अवैध धर्मांतरण में अब तक करीब 150 करोड़ रुपए की विदेशी फंडिंग के साक्ष्य जुटाए हैं। यह रकम मौलाना उमर गौतम, कलीम और सलाहुद्दीन के पास भेजी गई थी। ATS अब फंड भेजने वाली विदेशी संस्थाओं पर शिकंजा कसने की तैयारी कर रही है।

एटीएस की पड़ताल में सामने आया कि दूसरे कामों में इस्तेमाल के लिए मिले फंड का प्रयोग धर्मांतरण में हो रहा था। छानबीन में पता चला कि 5 साल के दौरान उमर गौतम की संस्था इस्लामिक दावा सेंटर और फातिमा चैरिटेबल ट्रस्ट को 30 करोड़ से ज्यादा रुपए विदेशी संस्थाओं से मिले। मगर उसने इसका 60 फीसदी ही धर्मांतरण पर खर्च किया था।

वडोदरा निवासी सलाहुद्दीन की संस्था अमेरिकन फेडरेशन ऑफ मुस्लिम ऑफ इंडियन ओरिजिन (AFMI) को 5 साल में 28 करोड़ रुपए मिले। जो उसने उमर गौतम को दिए थे। 22 करोड़ रुपए कलीम की संस्था अल हसन एजुकेशनल सोसायटी को भेजे गए थे। यह फंड दुबई, तुर्की और अमेरिकी संस्थाओं की तरफ से भेजे गए थे। इसके अलावा महाराष्ट्र के प्रकाश कावड़े उर्फ एडम और उसके सहयोगियों को ब्रिटेन की एक संस्था से 57 करोड़ रुपए अवैध धर्मांतरण को बढ़ाने के लिए मिले थे।

ATS के साथ ED ने भी जुटाए हैं फंडिंग के प्रमाण
एटीएस के अलावा मामले की जांच कर रही ईडी ने भी इस फंडिंग के स्रोतों के बारे में पुख्ता जानकारी जुटाई है। विदेशों से आए यह रुपए कहां खर्च किए गए, एजेंसियों ने इसकी जानकारी जुटा ली हैं। अब इसकी रिपोर्ट कोर्ट को भेजने की तैयारी है।

अफसरों का कहना है कि एटीएस अभी तक गिरफ्तार 16 में से 10 आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल कर चुकी है। फंडिंग और उसके खर्च का साक्ष्य सभी आरोपियों को कड़ी सजा दिलाने में मददगार बनेगा।

कब-कब हुई गिरफ्तारी
20 जून - सलाहुद्दीन जैनुद्दीन शेख
21 जून - मौलाना उमर गौतम
21 सितंबर - मौलाना कलीम सिद्दीकी

खबरें और भी हैं...