22 नवंबर को लखनऊ में होगी महापंचायत:उप्र के किसान नेताओं ने कहा कि हम अपनी तैयारी कर रहे है, संयुक्त किसान मोर्चा का कोई बयान आने के बाद कार्यक्रम रद्द होगा

लखनऊएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
लखनऊ में 22 नवंबर को होगी रैली। - Dainik Bhaskar
लखनऊ में 22 नवंबर को होगी रैली।

लखनऊ 22 नवंबर को होने वाले किसान महापंचायत को अभी रद्द नहीं किया जाएगा। उत्तर प्रदेश किसान सभा के प्रदेश सचिव मुकुट सिंह ने दैनिक भास्कर से बात करते हुए कहा कि उनकी तैयारी चल रही है। यहां तक की लाऊड स्पीकर से लेकर टेंट और लंगर तक की पूरी व्यवस्था हो गई है। तीनों कृषि कानून वापस लेने के पीएम के बयान के बाद संयुक्त किसान मोर्चा की कमिटी को आखिर फैसला लेना है। उसके बाद ही लखनऊ के कार्यक्रम में रद्द मना जाएगा। अभी तक यह कार्यक्रम होने की पूरी संभावना है। उन्होंने बताया कि पीएम के बयान के बाद उन लोगों के पास मोर्चा की तरफ से कोई निर्देश या सलाह नहीं आया है। ऐसे में वह अपनी तैयारी पूरी रखेंगे।

उधर किसान नेता राकेश टिकैत ने भी ट्वीट कर यह जानकारी दे दी है कि उन्होंने बताया कि अभी इतनी जल्दी किसान नेता अपना आंदोलन वापस नहीं लेंगे। संसद के शीत कालीन सत्र में बिल रद्द होने का इंतजार किया जाएगा। महापंचायत में राकेश टिकैत, डॉ. दर्शन पाल, हन्नान मोल्ला, अशोक धावले, युद्धवीर सिंह, जोगेन्द्र सिंह उग्राहा समेत देश के तमाम दिग्गज किसान नेता शामिल होंगे। ईको गार्डन में होने वाले इस आंदोलन में करीब एक लाख से ज्यादा किसानों के शामिल होने की उम्मीद है। इसकी तैयारी को लेकर किसान संगठन फंड भी एकत्र कर रहे है। इसके लिए संगठन अपना - अपना अकाउंट नंबर भी शेयर कर रहे हैं। इससे कि तैयारियों में कोई कमी न हो सके। लखनऊ के बाद प्रदेश के सभी जिलों में आंदोलन की तैयारी चल रही है।

26 नवंबर को आंदोलन का एक साल पुरा हो रहा

26 नवंबर को आंदोलन का एक साल पूरा होने पर गाजीपुर बार्डर पर राज्य भर से बड़ी संख्या में शामिल होंगें। इस दौरान तीनों काले कानून रद्द करो, चारों श्रमिक कोड रद्द करो, नया बिजली बिल वापस करो, मोदी योगी गद्दी छोड़ो अभियान चलाया जाएगा।