UP विधानसभा में बनेगा नया इतिहास:देश में पहली बार यूपी विधानसभा का एक दिन होगा महिला सदस्यों के नाम

लखनऊ2 महीने पहले

देश में पहली बार यूपी विधानसभा का एक दिन महिला सदस्यों के नाम होगा। 19 सितंबर से शुरू हो रहे विधानसभा के मानसून सत्र से पहले रविवार को सीएम योगी ने इसकी घोषणा की। भाजपा और सहयोगी दलों के विधानसभा एवं विधान परिषद सदस्यों को संबोधित करते हुए सीएम योगी ने कहा कि इस बार के मानसून सत्र में हमने 22 सितंबर का दिन दोनों सदनों की महिला सदस्यों के लिए आरक्षित रखा है।

अब खबर में आगे बढ़ने से पहले आपको बीजेपी के विपक्ष को बेरोजगार कहे जाने पर मायावती की प्रतिक्रिया के बारे में बताते हैं...

मायावती ने कहा-जनहित की चिंता होती, तो बीजेपी ऐसा बयान जारी नहीं करती
वहीं बसपा प्रमुख मायावती ने ट्वीट किया,"यूपी विधानसभा मानसून सत्र से पहले भाजपा का दावा कि प्रतिपक्ष यहां बेरोजगार है। ये इनकी अहंकारी सोच और गैर जिम्मेदाराना रवैया को उजागर करता है। सरकार की सोच जनहित वाली होनी चाहिए। न कि प्रतिपक्ष के लिए द्वेषपूर्ण रवैया वाली।
अगर यूपी सरकार जनहित के बारे में सोचती तो ऐसा बयान नहीं आता। बल्कि वो बताते कि जबरदस्त महंगाई, गरीबी, बेरोजगारी, बदहाल सड़क, बदतर शिक्षा, स्वास्थ्य व कानून व्यवस्था में सुधार करती।

विधानसभा के अंदर की फोटो।
विधानसभा के अंदर की फोटो।

देश की किसी विधानसभा में ऐसा पहली बार होगा

अब आपको बताते है कि देश की किसी विधानसभा में ऐसा पहली बार हो रहा है। उस दिन विधानसभा की 47 और विधान परिषद की 6 महिला सदस्य ही अपना विषय रखेंगी। सीएम योगी ने महिला सदस्यों से अनुरोध करते हुए कहा कि वह राज्य सरकार की ओर से प्रदेश की महिलाओं के सुरक्षा, सम्मान और स्वावलंबन के लिए चलाए जा रहे मिशन शक्ति कार्यक्रम के विषय में जरूर बोले। सीएम योगी ने संसदीय कार्य मंत्री सुरेश खन्ना से अनुरोध करते हुए कहा कि इस दिन को विशेष बनाने के लिए महिला सदस्य को दोनों सदनों में पीठासीन अधिकारी बनाएं।

'सरकार के सभी कार्यों का समर्थन करें'
सीएम योगी ने कहा,"एक जनप्रतिनिधि को एक जननेता बनने के लिए कुछ मौलिक बातों को ध्यान में रखना चाहिए। जब विधानमंडल की कार्यवाही चल रही हो तो उस दौरान हम पूरी तन्मयता के साथ उसमें हिस्सा लें। साथ ही अपने आचरण और समय का विशेष ध्यान रखें।"

उन्होंने कहा,"जो सदस्य सदन की कार्यवाही में शामिल नहीं हो पा रहे हैं वो अपने सचेतक को इसकी जानकारी दे दें, जिससे समय पर कार्यवाही प्रारम्भ हो सके। भाजपा एवं सहयोगी दल के सभी सदस्य तय समय और ज्यादा से ज्यादा समय तक सदन में मौजूद रहें। इस दौरान सरकार के सभी कार्यों का समर्थन करें और अपनी मजबूत स्थिति का एहसास कराएं।"

'बेरोजगार विपक्ष को कोई मुद्दा न दें'

लोकभवन में भाजपा और सहयोगी दलों के विधानसभा एवं विधान परिषद सदस्य।
लोकभवन में भाजपा और सहयोगी दलों के विधानसभा एवं विधान परिषद सदस्य।

सीएम योगी ने कहा,"हम सत्ता पक्ष के सदस्य हैं, उसी अनुरूप व्यवहार करें। जिससे आमजन में अच्छा संदेश जाए। सभी सदस्य तथ्यों पर आधारित ठोस तरीके से अपनी बात रखें। विधानसभा की पूरी कार्यवाही रिकॉर्ड पर जाती है। भविष्य में जब कोई आपका भाषण को पढ़े तो उसे गौरव की अनुभूति हो। उन्होंने कहा कि कहा कि सभी मंत्री सदन में अपनी बात पूरी मजबूती के साथ रखें। लंपी वायरस ज्वलंत मुद्दा है राजस्थान समेत कई राज्यों में स्थितियां खतरनाक हैं। उत्तर प्रदेश में अच्छा कार्य हुआ है इसको देखते हुए पशुधन मंत्री अपनी बात दोनों सदन में लिखित में रखें।"

सीएम योगी ने कहा,"विपक्ष के पास कोई मुद्दा नहीं है इसलिए वह सदन की कार्यवाही में व्यवधान डालने की कोशिश करेगा। विपक्ष के अंदर एक नकारात्मकता है ये बात प्रदेश की जनता भी जानती है और उनसे वैसे ही व्यवहार की अपेक्षा भी करती है। इस बात का विशेष ध्यान रखें कि हम अपनी तरफ से बेरोजगार विपक्ष को कोई मुद्दा न दें।"

विधायकों के लिए मेडिकल कैंप

भाजपा और सहयोगी दलों के विधान परिषद सदस्य सीएम का संबोधन सुनते हुए।
भाजपा और सहयोगी दलों के विधान परिषद सदस्य सीएम का संबोधन सुनते हुए।

सीएम योगी ने कहा,"सत्र के पहले दिन सभी सदस्य स्वास्थ्य विभाग द्वारा लगाए गए मेडिकल कैंप में अपना मेडिकल चेकअप जरूर कराएं। सभी विधानसभा और विधान परिषद के सदस्यों की चेकअप के लिए तमाम डाक्टर और सुविधाएं मौजूद रहेगी। सुबह 9 बजे से शाम 6 बजे तक विधायकों का मेडिकल चेकअप होगा।"

सीएम योगी ने कहा,"25 सितंबर को पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी की जयंती है। इसको विशेष बनाने के लिए बूथ स्तर पर कार्यक्रमों का आयोजन हो और दीनदयाल जी के विचारों और कार्यों के बारे में लोगों बताएं। गांधी जयंती के अवसर पर गांधी आश्रम में जाकर खादी की कोई न कोई वस्तु जरूर खरीदें। इससे खादी को लेकर समाज में एक अच्छा संदेश जाएगा।"