पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

महिला उद्योग पर वेबीनार:पूर्व मुख्य सचिव आलोक रंजन बोले- देश तभी बनेगा आत्मनिर्भर जब महिलाएं आएंगी आगे

लखनऊ24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

देश को आत्मनिर्भर बनाने में महिलाओं की भूमिका महत्वपूर्ण है। जब तक महिलाएं आगे नहीं आएंगी देश को आत्मनिर्भर होने में मुश्किलें आएंगी। महिलाओं का योगदान हमेशा से महत्वपूर्ण रहा है। लेकिन, दुर्भाग्य से उनके योगदान को उतना स्थान नहीं मिल पाया जितने की वे हकदार थीं। हालांकि अब समय बदल रहा है और लोगों की सोच भी। महिलाएं हर क्षेत्र में परचम फहरा रहीं हैं। अब वे देश को आत्मनिर्भर बनाने में भी सबसे बड़ी भूमिका निभाएंगी। यह बातें रविवार को उत्तर प्रदेश सरकार के पूर्व मुख्य सचिव आलोक रंजन ने कहीं। वह महिला उद्योगों के सशक्तिकरण के लिए स्मॉल इंडस्ट्री मैन्युफैक्चर एसोसिएशन एंटरप्रेन्यूरियल लेडिज फोरम (SELF - SIMA Entrepreneurial Ladies Forum) की ओर से आयोजित ऑनलाइन वेबिनार में बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे।

राष्ट्र के विकास में महिलाओं का योगदान अहम
सीमा के अध्यक्ष शैलेंद्र श्रीवास्तव ने कहा कि किसी भी राष्ट्र के विकास में महिलाओं का योगदान सबसे प्रमुख होता है। इसलिए उद्योगों में महिलाओं को नेतृत्व करना चाहिए। देश में महिला उद्यमियों की कमी है। अगर ऐसा होता है तो देश के विकास को और गति मिलेगी। वहीं सीमा लखनऊ चैप्टर के अध्यक्ष रितेश श्रीवास्तव ने कहा कि शास्त्रों में भी नारी शक्ति का बखान किया गया है। हम देवी के नौ स्वरूपों की पूजा करते भी हैं, इसलिए उनकी असीम शक्तियों के बारे में कोई सवाल उठ ही नहीं सकता। महिलाएं आगे बढ़ेगी तो देश भी बढ़ेगा।

महिलाओं को गतिशील कारोबारी बनाने की कोशिश
संस्था की संयुक्त सचिव श्रीमती अंजलि श्रीवास्तव ने बताया की SELF - SIMA Entrepreneurial Ladies Forum, का गठन महिलाओं को गतिशील कारोबारी माहौल में सुविधा प्रदान करने और इसके ज्ञान केंद्र के माध्यम से सहायता प्रदान करने के लिए किया गया था। उन्होंने बताया कि अंतर्राष्ट्रीय मातृ दिवस मनाने के लिए SELF ने एक महीने के कार्यक्रम का आयोजन किया है, जिसका विषय है "मॉम्प्रेन्योर स्टोरीज: बच्चों और व्यापार को एक साथ उठाना"। कार्यक्रम की परिणति ऑनलाइन प्रेरक टॉक शो के माध्यम से हुई, जो रविवार 30.5.21 को आयोजित किया गया था और इसका उद्देश्य महिला उद्यमी की यात्रा का जश्न मनाना और अन्य महिलाओं को देश की जीडीपी निर्माण में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करना था। यह उन महिलाओं की सफलता की कहानियों का विवरण देने वाला एक प्रेरणादायक अनुभव था, जिन्होंने मूल्य संवर्धन के लिए सभी बाधाओं के खिलाफ काम किया।

150 से ज्यादा महिलाओं ने हिस्सा लिया
पैनलिस्ट शीबा इकबाल जयराजपुरी, आब-ओ-दाना, सोनल गुप्ता टंडन, मेगा एक्सट्रूज़न, सबिहा शाइक अंसारी, संस्थापक एनजीओ उमंग फाउंडेशन और डॉ पद्मा सिंह, संस्थापक, न्यूट्रीकल्प ने अपने बहुमूल्य अनुभवों से बैठक को सुशोभित किया। बैठक के माध्यम से मॉडरेटर महिमा बाजपेयी, सचिव, समापन टिप्पणी और धन्यवाद ज्ञापन सांगला दीक्षित और अंजलि श्रीवास्तव ने दिया। वेबिनार में 150 से अधिक महिलाओं ने भाग लिया।
डॉ सिंधुजा मिश्रा, चेयरपर्सन ने कहा कि वह एक अच्छी तरह से समन्वित टीम में विश्वास करती हैं जो महिलाओं को सशक्त बनाने और व्यावसायिक चुनौतियों पर काबू पाने में अन्य महिलाओं का समर्थन करने के लिए काम करती है। इसलिए टीम अधिक लोगों से जुड़ने और उद्यमिता के आवश्यक क्षेत्र में समर्थन देने पर काम कर रही है।

खबरें और भी हैं...