UP विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष सुखदेव राजभर का निधन:सपा-बसपा और भाजपा सरकार में मंत्री रह चुके हैं, अखिलेश, स्वतंत्र देव, लल्लू और योगी ने जताया दुख

लखनऊ2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सुखदेव राजभर ने साल 2012 में लालगंज निर्वाचन क्षेत्र से अपना पहला विधानसभा चुनाव लड़ा और 24 वोटों के काफी कम अंतर से जीत हासिल की थी। - Dainik Bhaskar
सुखदेव राजभर ने साल 2012 में लालगंज निर्वाचन क्षेत्र से अपना पहला विधानसभा चुनाव लड़ा और 24 वोटों के काफी कम अंतर से जीत हासिल की थी।

लंबे समय से बीमार चल रहे यूपी विधान सभा के पूर्व अध्यक्ष सुखदेव राजभर (70) का सोमवार को निधन हो गया। आजमगढ़ के दीदारगंज से वह बसपा से विधायक रहे। सुखदेव राजभर यूपी के पूर्वांचल के बड़े नेताओं में आते थे। दो महीने पहले सपा के अध्यक्ष अखिलेश यादव उनसे में गोमती नगर स्थित आवास पर गए थे।

सुखदेव राजभर ने बेटे कमलकांत को सपा में राजनीति करने को लेकर चर्चा चल रही थी। सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय लल्लू,भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव व सीएम योगी ने सोशल मीडिया पर दुख जताया है। बताया जा रहा है कि उनकी लखनऊ के निजी अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई।

अखिलेश यादव 29 अगस्त को सुखदेव राजभर से मुलाकात करने अचानक उनके घर पहुंचे थे।
अखिलेश यादव 29 अगस्त को सुखदेव राजभर से मुलाकात करने अचानक उनके घर पहुंचे थे।

भाजपा-सपा-बसपा सरकार में रह चुके मंत्री
सुखदेव राजभर ने साल 2012 में लालगंज निर्वाचन क्षेत्र से अपना पहला विधानसभा चुनाव लड़ा और 24 वोटों के काफी कम अंतर से जीत हासिल की थी। सुखदेव राजभर बसपा के वरिष्‍ठ नेताओं में से एक रहे। उन्‍होंने उत्तर प्रदेश के विधायक के रूप में 5 बार के कार्यकाल के लिए अपनी सेवाएं दीं थी। उन्होंने लालगंज के विधायक के रूप में 3 और दीदारगंज में 2 कार्यकालों तक कार्य किया। वे वर्तमान में दीदारगंज के विधायक के रूप में कार्य करते रहे। वे 2007-2012 तक मायावती के शासन में उत्तर प्रदेश विधानसभा के स्पीकर रह चुके हैं। वे मायावती, कल्याण सिंह और मुलायम सिंह यादव की कैबिनेट में मंत्री भी रह चुके हैं।

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने ट्वीट कर जताया दुख
कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने ट्वीट कर जताया दुख

ये था राजनीतिक सफर

  • 2017 वे समाजवादी पार्टी के आदिल शेख को 3,645 वोटों के अंतर से हराकर उत्तर प्रदेश की 17वीं विधानसभा के सदस्य हैं।
  • 2012 वे दीदारगंज निर्वाचन क्षेत्र से 2227 वोटों के अंतर से सपा के आदिल शेख के खिलाफ विधानसभा चुनाव हार गए।
  • 2007 सदस्य, लालगंज से चौथे कार्यकाल के लिए उत्तर प्रदेश की 15 वीं विधान सभा जहां उन्होंने फिर से भाजपा के नरेंद्र सिंह को हराया। इसके बाद उत्तर प्रदेश के विधानसभा अध्यक्ष चुने गए।
  • 2002 सदस्य, उत्तर प्रदेश की 14 वीं विधान सभा में तीसरे कार्यकाल के लिए जहां उन्होंने लालगंज सीट पर नरेंद्र सिंह को 1748 मतों के अंतर से हराया।
  • 2002 संसदीय कार्य, कपड़ा और रेशम उद्योग विभाग के मंत्री (मायावती सरकार के मंत्रिमंडल) सपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट कर जताया दुख

पूर्वांचल में था ख़ास प्रभाव
सुखदेव राजभर का पूर्वांचल की सीटों पर ख़ास प्रभाव था। 2017 विधानसभा चुनावों के बाद हुए विश्लेषण में यह सामने आया था कि यूपी की लगभग 22 सीटों पर भाजपा की विजय में राजभर वोट बैंक बड़ा कारण था। जबकि पूर्वांचल के लगभग 25 से 28 जिलों में करीब 125 से ज्यादा सीटों पर राजभर वोट का असर है। यूपी में राजभर वोट 3 प्रतिशत हैं। जबकि पूर्वांचल में यही वोटबैंक 16 से 18 प्रतिशत तक है। पूर्वांचल में वाराणसी, गाजीपुर, बलिया, मऊ, जौनपुर, देवरिया जैसे जिलों में राजभर बहुतायत संख्या में है। राजभर यहां जीत हार भी तय करते हैं। यूपी की लगभग 65 विधानसभा सीटों पर लगभग 45 हजार से 80 हजार तक राजभर वोट हैं। जबकि 56 विधानसभा सीट पर 25 हजार से 45 हजार तक है।

BJP प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव ने ट्वीट कर जताया दुख
BJP प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव ने ट्वीट कर जताया दुख

सुखदेव ने मायावती को लिखा था पत्र, अखिलेश को बताया था भविष्य का नेता

अखिलेश यादव 29 अगस्त को सुखदेव राजभर से मुलाकात करने अचानक उनके घर पहुंचे थे। इसके बाद कयास लगाए जा रहे थे कि, जल्द ही सुखदेव राजभर बसपा का दामन छोड़कर अपने बेटे कमलाकांत राजभर संग सपा में शामिल हो सकते हैं। यहीं नहीं इसी साल 31 जुलाई को सुखदेव द्वारा बसपा सुप्रीमो मायावती को भेजे पत्र में साफ कर दिया था कि वो अखिलेश समर्थक हैं। उसमे लिखा था कि मैं बीमार हूं, इसलिए सक्रिय राजनीति से अलग हो रहा हूं। मगर मैं अखिलेश का समर्थन करता हूं। इसके साथ ही अखिलेश यादव को उत्तर प्रदेश का भविष्य बताया था। उन्होंने बेटे कमलाकांत को दलितों, पिछड़ों व राजभर समाज की सेवा के लिए अखिलेश के हवाले करने की घोषणा भी की थी।

सीएम योगी ने ट्वीट कर जताया दुख
सीएम योगी ने ट्वीट कर जताया दुख
खबरें और भी हैं...