दागी प्रत्याशियों पर अखिलेश की सफाई:गायत्री प्रजापति रेप के दोषी हैं, उनकी पत्नी नहीं; आजम और नाहिद पर BJP ने दर्ज कराए झूठे केस

लखनऊ4 महीने पहले
बुधवार को दागियों को टिकट देने से जुड़े एक सवाल पर अखिलेश यादव ने सफाई दी। - Dainik Bhaskar
बुधवार को दागियों को टिकट देने से जुड़े एक सवाल पर अखिलेश यादव ने सफाई दी।

रेप केस में उम्रकैद की सजा काट रहे पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति की पत्नी को टिकट दिए जाने को लेकर उठ रहे सवालों पर समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने सफाई दी है। ​​​​​महराजी प्रजापति को अमेठी से टिकट देने पर अखिलेश ने कहा, 'रेप केस में गायत्री प्रजापति दोषी हैं। उनके खिलाफ केस हैं। उनकी पत्नी के खिलाफ एक भी केस नहीं है।

सपा अध्यक्ष ने जेल से चुनाव लड़ रहे आजम खान और नाहिद हसन का भी यह कहकर बचाव किया है कि उनके नेताओं के खिलाफ भाजपा शासन के दौरान झूठे केस दर्ज किए गए थे। वहीं, कैराना पलायन मामले में आरोपी रहे नाहिद हसन को प्रत्याशी बनाने में भी सपा प्रमुख ने कुछ ऐसा ही जवाब दिया।

अखिलेश ने कहा, बीजेपी शासन के दौरान आजम खां पर दर्ज कराए गए झूठे केस।
अखिलेश ने कहा, बीजेपी शासन के दौरान आजम खां पर दर्ज कराए गए झूठे केस।

दरअसल, सपा ने अमेठी सीट से मुलायम के करीबी रहे और सपा सरकार में मंत्री रहे गायत्री प्रजापति की पत्नी महराजी को टिकट दिया है। गायत्री को मुलायम सिंह यादव का करीबी माना जाता है। वह रेप केस में उमकैद की सजा काट रहे हैं। वहीं, आजम खां भी जेल में बंद हैं। नाहिद हसन को भी हाल ही में गैंगस्टर मामले में पुलिस ने गिरफ्तार करके जेल भेजा है।

2017 में हुआ था कड़ा मुकाबला
वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव में गायत्री प्रजापति समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार के तौर पर चुनावी मैदान में उतरे थे। मोदी लहर के बाद भी उन्होंने कड़ी टक्कर दी थी। भाजपा की गरिमा सिंह को इस चुनाव में 64,226 वोट मिले थे। वहीं, गायत्री प्रसाद प्रजापति 59,161 हजार वोट पाने में सफल हुए थे। बसपा के राम जी ने 30,175 और कांग्रेस की अमिता सिंह ने 20,291 वोट हासिल कर गायत्री प्रजापति का खेल खराब किया था। इस बार भी विधानसभा सीट पर चतुष्कोणीय मुकाबला होने की उम्मीद है। लेकिन, गायत्री प्रजापति की पत्नी को टिकट देकर सपा ने बड़ा दांव खेल दिया है।

सपा के 159 में से 70 प्रत्याशी आपराधिक बैकग्राउंड वाले हैं।
सपा के 159 में से 70 प्रत्याशी आपराधिक बैकग्राउंड वाले हैं।

भाजपा के हमले के बाद बैकफुट पर अखिलेश
सपा की प्रत्याशियों की सूची जारी होने के बाद भाजपा लगातार हमलावर है। बीजेपी नेता संबित पात्रा ने सपा की लिस्ट पर तंज कसते हुए कहा था कि गुंडों और अपराधियों को प्रत्याशी बनाना समाजवादी पार्टी की मजबूरी है। आगे लिखा- लिस्ट नई है, लेकिन वही अपराधी है। वहीं, डिप्टी सीएम केशव मौर्य ने कहा कि सपा सुप्रीमो अखिलेश ने बहन बेटियों को अपमानित करने वालों को टिकट देकर समाज विरोधी चेहरा दिखाया है।

ये भी पढ़ें : रेप केस में जेल में बंद गायत्री प्रजापति की पत्नी को अमेठी से उतारा, पूर्व मंत्री विनोद सिंह के भतीजे को गोंडा से टिकट

सिर्फ यही नहीं, योगी सरकार में मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा कि समाजवादी पार्टी का हाथ...गुंडे माफियाओं के साथ। उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी गुंडों की पार्टी है, यह अखिलेश यादव ने सिद्ध कर दिया है।

159 में से अब तक 70 प्रत्याशियों पर क्रिमिकल केस
उत्तर प्रदेश के चुनावी मैदान में पार्टियों की तरफ से घोषित प्रत्याशियों की आपराधिक कुंडली सामने आने लगी है। पार्टियों ने अपने प्रत्याशियों का आपराधिक रिकॉर्ड वेबसाइट और ट्विटर पर पोस्ट किए हैं। सपा के 159 में से 70 प्रत्याशी आपराधिक बैकग्राउंड वाले हैं। हालांकि, इस मामले में भाजपा भी पीछे नहीं है। भाजपा के 193 प्रत्याशियों में से 78 ऐसे हैं, जिन पर क्रिमिनल केस हैं। वहीं, कांग्रेस में यह आंकड़ा थोड़ा कम है। कांग्रेस के 166 में से 35 प्रत्याशियों पर ही क्रिमिनल केस होने की बात अब तक सामने आई है।

खबरें और भी हैं...