UP के डेढ़ करोड़ कनेक्शन धारकों को बड़ी राहत:अब 15 दिसंबर तक एकमुश्त जमा करा सकेंगे बकाया बिजली बिल, कोई रजिस्ट्रेशन शुल्क नहीं लगेगा

लखनऊएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

बिजली कटने की टेंशन खत्म करने के लिए OTS योजना (एकमुश्त योजना) का सहारा ले सकते हैं। इसकी आखिरी तारीख 15 दिसंबर तक बढ़ा दी गई है। इस बार इसका फायदा ऐसे उपभोक्ता भी ले सकेंगे। जिनके बिजली के कनेक्शन पहले ही कटे हुए हैं। विभाग OTS योजना का फायदा 30 नवंबर तक दे रहा था। इस दौरान 22 लाख उपभोक्ताओं ने इस योजना के तहत भुगतान किया। अब 1.50 करोड़ उपभोक्ताओं को इसका फायदा मिलना है। पॉवर कारपोरेशन के रिकार्ड में 2 किलोवॉट तक के घरेलू उपभोक्ता करीब 1.70 करोड़ है। बकाए की वजह से बिजली कटने की नौबत से बचने के लिए OTS योजना दी गई है।

शुल्क नहीं, सिर्फ रजिस्ट्रेशन करवाइए
इस बार शुरू की जा रही एकमुश्त समाधान योजना में रजिस्ट्रेशन के लिए कोई शुल्क नहीं रखा गया है। उपभोक्ता रजिस्ट्रेशन के दौरान अपने बिजली बिल को संशोधित करवाकर तुरंत बिजली बिल का भुगतान कर सकता है।

6 किश्त में मिलेगी सुविधा
एकमुश्त योजना में 6 किश्त की सुविधा भी मिलेगी। इससे पहले की योजनाओं में किश्त सुविधा नहीं होती थी। इसका लाभ करीब एक करोड़ से ज्यादा उपभोक्ता उठाएंगे। योजना के तहत 2 किलोवाट तक के घरेलू और वाणिज्यिक उपभोक्ताओं को 6 किश्त में बकाया बिजली बिल जमा करने की सुविधा मिलेगी।

इस योजना में फायदा ही फायदा

  • 2 किलोवॉट तक के घरेलू और कॉमर्शियल उपभोक्ताओं का सरचार्ज माफ होगा।
  • 2 से 5 किलोवॉट तक के उपभोक्ताओं को सरचार्ज में 50 प्रतिशत की छूट मिलेगी।
  • बिल जमा करने के लिए 6 किश्त की सुविधा मिलेगी।

ऊर्जा मंत्री ने कहा- OTS योजना का फायदा लें

उर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने सोशल मीडिया के जरिए एकमुश्त योजना का लाभ लोगों से उठाने की अपील की है।
उर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने सोशल मीडिया के जरिए एकमुश्त योजना का लाभ लोगों से उठाने की अपील की है।

श्रीकांत शर्मा ने बकाएदार उपभोक्ताओं के लिए अपील भी जारी की है। बिजली कटने की दिक्कत से बचने के लिए OTS योजना का फायदा उठाना चाहिए।

ओटीएस योजना को उप्र राज्य विद्युत उपभोक्ता परिषद ने भी सराहा है। परिषद के अध्यक्ष अवधेश वर्मा ने मांग उठाई है कि इसके साथ नियमित बिल जमा करने वाले उपभोक्ताओं की इलैक्ट्रिसिटी ड्यूटी एक साल के लिए माफ की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि इससे नियमित बिजली बिल जमा करने वाले उपभोक्ताओं के बीच अच्छा संदेश जाएगा। घरेलू उपभोक्ताओं से 5 प्रतिशत और अन्य उपभोक्ताओं से 7.5 प्रतिशत की इलैक्ट्रिसिटी ड्यूटी वसूल की जाती है।

खबरें और भी हैं...