• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lucknow
  • He Was Absconding By Making Hello Ride Company, Grabbing The Money Of 10 Thousand Investors, 34 Cases Are Registered In The Same Police Station Of Lucknow.

हेलो राइड का डायरेक्टर अभय कुशवाहा गिरफ्तार:10 हजार निवेशकों से ठगे थे 500 करोड़, लखनऊ के विभूतिखंड थाने में दर्ज हैं 34 मुकदमे

लखनऊ7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लखनऊ में हेलो राइड कंपनी के एक और डायरेक्टर अभय कुशवाहा को पुलिस ने रविवार को गिरफ्तार कर लिया। - Dainik Bhaskar
लखनऊ में हेलो राइड कंपनी के एक और डायरेक्टर अभय कुशवाहा को पुलिस ने रविवार को गिरफ्तार कर लिया।

लखनऊ में हेलो राइड कंपनी के एक और डायरेक्टर अभय कुशवाहा को पुलिस ने रविवार को गिरफ्तार कर लिया। करीब 10 हजार निवेशकों से 500 करोड़ से ज्यादा की ठगी मामले में उसकी तलाश थी। उसके खिलाफ विभूतिखंड थाने में 34 मुकदमे दर्ज हैं।

इंस्पेक्टर हजरतगंज श्यामबाबू शुक्ला ने बताया कि अभय के खिलाफ इंदिरानगर के एक व्यक्ति ने रिपोर्ट दर्ज कराई थी। उससे जमीन के नाम पर 65 लाख रुपए ठगे गए थे। इसमें उसकी तलाश चल रही थी। उस पर 25 हजार रुपए का इनाम भी था। रविवार को जानकारी मिली कि वह किसी से रुपए लेने राजाजीपुरम जा रहा है। पुलिस ने घेराबंदी करके रेलवे अंडरपास से उसे पकड़ लिया।

2018 से शुरू किया था ठगी का धंधा

पुलिस के मुताबिक, 2018 में इनफिनिटी वर्ल्ड इंफ्रा वेंचर प्राइवेट लिमिटेड नाम से रियल स्टेट की कंपनी बनाई। इसने किश्तों में सस्ते प्लाट देने का ऑफर दिया। लोगों ने इसमें रुपए भी जमा किए। इस कंपनी के डायरेक्टर अभय कुशवाहा, नीलम वर्मा, आजम सिद्दीकी और शकील अहमद खान थे। अभय ने 2018 में ही हेलो राइड लिमिटेड कंपनी बनाई। जिसमें निखिल कुशवाहा, अभय कुशवाहा, नीलम वर्मा, आजम सिद्दीकी डायरेक्टर थे। इसका ऑफिस विभूतिखंड स्थित साइबर हाइट्स के 8वें फ्लोर पर था।

बाइक टैक्सी के नाम पर भी ठगे थे करोड़ों

यह कंपनी बाइक टैक्सी चलाने के नाम पर ग्राहकों से 61,000 रुपए जमा कराती थी। इसके बदले एक साल तक हर महीने 9,582 रुपए (1,14,984) देने का लालच दिया जाता था। कंपनी ने रुपए जमा करने के लिए 7 टीमें बनाई थीं। इनमें करीब 1500 लोग काम करते थे। इनके प्रेसिडेंट अपनी टीमों के माध्यम से रुपए जमा करते थे। जिसका उनको 15 प्रतिशत कमीशन दिया जाता था।

मार्च, 2019 में कंपनियां बंद करके हो गया था फरार

अभय मार्च, 2019 में यह कंपनियां बंद करके फरार हो गया था। तब इन कंपनियों पर सैकड़ों मुकदमे दर्ज हो गए। इसके बाद कंपनियों से जुड़े अन्य लोग भी फरार हो गए। फरार सदस्यों ने भी अलग-अलग कंपनियां बनाकर किसानों और बेरोजगार युवाओं को ठगना शुरू कर दिया। इसके पहले 11 नवंबर को कंपनी के एक डायरेक्टर आजम अली को चिनहट इलाके से गिरफ्तार किया गया था। उस पर भी 25 हजार रुपए का इनाम था। पुलिस ने उसके पास से एक लग्जरी कार, मोबाइल व नकदी बरामद की थी।

खबरें और भी हैं...