पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अस्पतालों के चक्कर लगाने से मुक्ति:शूगर व ब्लड प्रेशर की जांच के लिए शहर के 100 अलग-अलग चौराहों पर लगेंगे हेल्थ ATM, 35 लाख की आबादी को राहत; एक मशीन की कीमत 10 लाख

लखनऊ2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत 100 हेल्थ एटीएम मशीन खरीदी गई हैं। अगले महीने यह सुविधा शुरू कर दी जाएगी। (प्रतीकात्मक फोटो) - Dainik Bhaskar
स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत 100 हेल्थ एटीएम मशीन खरीदी गई हैं। अगले महीने यह सुविधा शुरू कर दी जाएगी। (प्रतीकात्मक फोटो)

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ वासियों के लिए एक अच्छी खबर है। ब्लड प्रेशर, शूगर, यूरीन, ऑक्सीजन लेबल, ब्लड टेस्ट समेत कई सुविधाओं के लिए अब लखनऊ के लोगों को सरकारी और निजी अस्पताल के चक्कर नहीं लगाने होंगे। उनके अपने इलाकों या प्रमुख चौराहों पर यह सुविधा मिलेगी। स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत 100 हेल्थ एटीएम खरीदे जा चुकें है। शहर में सौ अलग-अलग इलाकों में इसको लगाया जाएगा। जहां स्वास्थ्य संबंधी तमाम सुविधाएं मिलेगी।

प्रोजेक्ट से जुड़े अधिकारियों का कहना है कि अगले महीने यह सुविधा शुरू कर दी जाएगी। पिछले दिनों इसको लेकर बैठक हुई। इसमें बताया गया कि 100 कियास्क हेल्थ एटीएम आ चुके हैं। अब इसको शुरू करने के लिए जगह चिन्हित करना है।

पीजीआई के डॉक्टरों से मिलेगी सलाह, एटीएम पर रखे कर्मचारी भी ट्रेंड होंगे
इस दौरान अगर किसी व्यक्ति को ज्यादा परेशानी है तो हेल्थ एटीएम उनको पीजीआई के डॉक्टरों से बात कराएगी। इसमें उनको पीजीआई में अपॉइंटमेंट दिलवाया जाएगा। जहां मरीज अपना बेहतर इलाज कर सकता है। इसको लेकर पीजीआई से आखिर राउंड की वार्ता भी लगभग तय हो चुकी है। एटीएम पर रखे कर्मचारी भी ट्रेंड होंगे। इसमें नर्स से लेकर टेक्निशियन तक शामिल है। यहां जेनरिक दवाएं उपलब्ध कराने का काम भी शुरू होगा।

एक मशीन 10 लाख रुपए की
एक मशीन की कीमत दस लाख रुपए हैं। इस प्रोजेक्ट में स्मार्ट सिटी प्रबंधन करीब 10 करोड़ रुपए खर्च करेगा। उम्मीद है कि शहर के सभी प्रमुख बाजारों के अलावा चौराहों, पार्क और ऐसी जगह जहां पर नियमित लोगों का आना- जाना होता है, वहां इनको लगाया जाएगा। इससे कि ज्यादा से ज्यादा लोग इसका लाभ ले सके। लखनऊ शहर की मौजूदा आबादी करीब 35 लाख से ज्यादा है। इसमें आम दिनों में प्रतिदिन 20 लाख लोग घर से बाहर निकलते है। उसके अलावा राजधानी होने की वजह से लाखों बाहरी लोगों का आना भी होता है। वह भी इसका लाभ ले सकेंगे।

यहां फंस पेंच
प्रोजेक्ट से जुड़े नगर निगम के एक्सईएन एससी सिंह बताते है कि इसकी पूरी तैयारी हो चुकी है। हालांकि, इसमें यह भी तय किया जा रहा है कि इसको मोबाइल हेल्थ एटीएम में तब्दील कर दिया जाए। इससे कि लोगों को घर तक यह सुविधा मिल सके। हालांकि, बोर्ड में अभी इसको लेकर सहमति नहीं बनी है। इस वजह मशीनों को अभी नहीं लगाया जा रहा है। लेकिन कुछ दिन में यह तय हो जाएगा। ऐसे में उम्मीद है कि अगले महीने तक इसको शुरू कर दिया जाएगा।