पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lucknow
  • Lucknow Kidnapping Case Latest Updates । High Court Lawyer Wife Kidnapped One Crore Ransom Demand Police Action One Accused Arrested In Lucknow Uttar Pradesh

रियल एस्टेट कारोबारी ने लिखी थी अपहरण की स्क्रिप्ट:STF और लखनऊ पुलिस ने एक आरोपी को दबोचा, हाईकोर्ट के वकील की पत्नी बरामद; एक करोड़ की मांगी थी फिरौती

लखनऊ2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
यूपी एसटीएफ एडीजी अमिताभ यश ने बताया कि बीते 6 जून को महिला का अपहरण हुआ था। जिसके बाद से लखनऊ पुलिस की टीम और एसटीएफ की टीम बदमाशों की तलाश में लगी थी। - Dainik Bhaskar
यूपी एसटीएफ एडीजी अमिताभ यश ने बताया कि बीते 6 जून को महिला का अपहरण हुआ था। जिसके बाद से लखनऊ पुलिस की टीम और एसटीएफ की टीम बदमाशों की तलाश में लगी थी।

लखनऊ में हाईकोर्ट के वकील की पत्नी प्रीती शुक्ला का अपहरण कर एक करोड़ की फिरौती मांगने वाले बदमाश को एसटीएफ और लखनऊ टीम ने गिरफ्तार कर लिया है। साथ ही मोहनलालगंज क्षेत्र के हरिकंशगढ़ी से पीड़ित महिला को भी सकुशल बरामद किया गया है। अपहरण का तानाबाना लखनऊ के रियल एस्टेट कारोबारियों ने बुना था। उनके इशारे पर ही बदमाशों ने प्रीति को सुशांत गोल्फ सिटी थाने के चंद दूरी से अगवा कर ले गए और पुलिस को भनक नहीं लगी।

अधिवक्ता अनुराग शुक्ला ने बताया कि करीब एक महीने पहले उन्होंने प्लॉट खरीदने के लिए कुछ रियल एस्टेट से जुड़े लोगों से संपर्क किया था। उन्होंने कई प्लाट दिखाए जो पसंद नही आ रहे थे। अभी प्लॉट की खोजबीन चल ही रही थी की 6 जून की शाम प्रीति का अपहरण हो गया। उनका कहना है कि लॉकडाउन में प्लॉट खोजने से इन प्रॉपर्टी डीलरों को बहुत पैसे होने का शक हुआ। इसके बाद ही परिवार के किसी सदस्य को अगवा करके फिरौती वसूलने की योजना बनाई गई। एसटीएफ उन सभी प्रोपर्टी डीलरों से पूछताछ कर रही है, जिनसे अनुराग ने प्लॉट के लिए संपर्क किया था।

टारगेट सामने था फिर भी घंटों इधर-उधर ताकती रही पुलिस

लखनऊ पुलिस के सर्विलांस सेल के एक सिपाही ने मंगलवार शाम तक प्रीति के फोन की लोकेशन ट्रेस कर ली थी। बदमाश उन्हीं के फोन से बार बार कॉल करके अनुराग से रुपये मांग रहे थे। लखनऊ पुलिस की टीम रात 8 बजे तक मोहनलालगंज के उस मकान पर पहुँच गयी जहाँ प्रीति को बंधक बनाकर रखा गया था। लेकिन बदमाशों की तरफ से फायरिंग की डर से पुलिस मकान के इर्दगिर्द ही मंडराती रही। देर रात एसटीएफ पहुची तब नाइट विजन कैमरे से मकान के अंदर की स्थित को देखा गया। इसके बाद ऑपरेशन शुरू हुआ और प्रीति को छुड़ाकर लाया गया।

थाने से चंद दूरी पर टहल रही प्रीति को अगवा कर ले गए थे बदमाश

परिजनों के मुताबिक 6 जून की शाम प्रीति हर रोज की तरह थाने की तरफ वाली रोड पर टहल रही थी। थाने से थोड़ी दूरी पर ही बदमाशों से उन्हें अगवा कर लिया और पुलिस को भनक नही लगी। अनुराग का कहना है कि घटना की जानकारी सबसे पहले एडीसीपी पूर्णेन्दु सिंह को दिया तो उन्होंने टीम बनाकर फौरी छानबीन की। इसके बाद जिले की सर्विलांस और एसटीएफ को जानकारी दी गयी।

खबरें और भी हैं...