• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lucknow
  • High Court Lucknow Takes Cognizance In The Case Of Demanding Bribe Of Rs 25 Lakh From International Shooter Vartika Singh; Notice To Union Minister Smriti Irani, Her Personal Secretary And Another, Next Hearing On July 26

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी की मुश्किलें बढ़ेंगी:इंटरनेशनल शूटर वर्तिका सिंह ने 25 लाख रुपए घूस मांगने का लगाया था आरोप; स्मृति ईरानी और उनके निजी सचिव को हाईकोर्ट का नोटिस, 26 जुलाई को सुनवाई

सुल्तानपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
25 लाख रुपए घूस मांगने के मामले में हाईकोर्ट लखनऊ ने केंद्रीय मंत्री, उनके निजी सचिव और एक अन्य को नोटिस जारी किया है़। - Dainik Bhaskar
25 लाख रुपए घूस मांगने के मामले में हाईकोर्ट लखनऊ ने केंद्रीय मंत्री, उनके निजी सचिव और एक अन्य को नोटिस जारी किया है़।

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। इंटरनेशनल शूटर वर्तिका सिंह को राज्य महिला आयोग में सदस्य बनवाने के नाम पर 25 लाख रुपए घूस मांगने के मामले में हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने केंद्रीय मंत्री उनके निजी सचिव और एक अन्य को नोटिस जारी किया है़। हाईकोर्ट अब इस मामले की 26 जुलाई को सुनवाई करेगी।

प्रतापगढ़ जिले की रहने वाली इंटरनेशनल शूटर वर्तिका सिंह ने 23 दिसंबर 2020 को एमपी/एमएलए कोर्ट सुलतानपुर में 156/3 के तहत केस फाइल किया था। उन्होंने आरोप लगाया था कि राज्य महिला आयोग में सदस्य बनवाने के लिए केंद्रीय मंत्री एवं अमेठी सांसद स्मृति ईरानी के निजी सचिव विजय गुप्ता व अयोध्या जिले के निवासी डॉ. रजनीश सिंह ने 25 लाख रुपए घूस की मांगी थी। एमपी/एमएलए कोर्ट में 20 फरवरी को साक्ष्य के अभाव में रिट खारिज कर दी गई थी। अब मामला हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में है।

पहले खारिज हो गई थी याचिका
वर्तिका का यह भी आरोप है कि इस मामले में केंद्रीय मंत्री के दबाव में मेरे विरुद्ध अमेठी के मुसाफिरखाना में पहले 23 नवंबर 2020 को और मुंशीगंज थाने में मुकदमा दर्ज कराया गया था। सुल्तानपुर के दीवानी न्यायालय में फौजदारी के वरिष्ठ अधिवक्ता अरविंद सिंह राजा ने एमपी/एमएलए कोर्ट से खारिज हुई रिट को हाईकोर्ट लखनऊ में बतौर रिवीजन फाइल किया है़। जज ने सुनवाई करते हुए 26 जुलाई को सभी आरोपियों को अपना बयान दर्ज कराने के निर्देश दिए हैं। वर्तिका सिंह के अधिवक्ता अरविंद सिंह राजा ने बताया कि हाईकोर्ट ने पूरे मामले को गंभीरता से लिया है़। कोर्ट को समस्त साक्ष्य उपलब्ध कराए हैं, इसमें केंद्रीय मंत्री की ऑडियो रिकार्डिंग भी कोर्ट में दी गई है़।

25 लाख घूस देने के मामले में वर्तिका सिंह का पुलिस को बयान
अयोध्या निवासी डा. रजनीश ने मार्च 2020 में कहीं से मेरा वाट्स ऐप नंबर लेकर खुद को बीजेपी नेता और खाद्य निगम का सलाहकार और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के निजी सचिव विजय गुप्ता का करीबी बताया था। उसने कहा कि केंद्रीय महिला आयोग में सदस्य का एक पद खाली है। जिस पर वह मुझे मनोनीत करवा देगा। रजनीश ने मुझसे बायोडाटा-प्रमाण पत्रों की छायाप्रति ली। रजनीश ने सूचना दी कि केंद्रीय मंत्री ने 10 मई 2020 को एक पत्र प्रधानमंत्री को लिखा। जिसमें केंद्रीय महिला आयोग में दायित्व प्रदान करने की बात लिखी गई, रजनीश ने मेरे वाट्स ऐप पर साक्ष्य में वो पेपर भेजे थे।
22 जून को पीएमओ के पत्र की जानकारी दी
वर्तिका ने जवाब में लिखा है कि मुझे फोन पर बताया कि मंत्री के निजी सचिव ने 22 जून को पीएमओ द्वारा एक पत्र जारी होने की बात बताई है और इसका पेपर भी उसके वाट्सएप पर भेजा गया। जिस पर लिखा था केंद्रीय मंत्री की संस्तुति पर केंद्रीय महिला आयोग के सदस्य के पद पर प्रार्थिनी का चयन होना प्रस्तावित बताया गया। यही नहीं प्रार्थिनी की शैक्षिक योग्यता, आय का स्रोत, आपराधिक इतिहास आदि का विवरण 30 दिनों के अंदर उपलब्ध कराने के लिए एसपी प्रतापगढ़ को पत्र लिखने की बात भी सामने आई। इसके बाद रजनीश ने निजी सचिव का हवाला दिया कि उन्होंने चरित्र प्रमाण पत्र बनवाने के लिए कहा है। जिस पर वर्तिका ने आन लाइन अप्लाई किया और अंतू थाने से फोन आया और उसका वेरिफिकेशन हुआ।
एसएसपी प्रतापगढ़ के ऑफिस से हुआ खुलासा
रजनीश ने वर्तिका को बताया कि एलआईयू से एक काल आएगा, उसके बाद एक नंबर से काल आई। फिर लखनऊ बीजेपी दफ्तर से आगे नगर निगम आफिस के पास डाक्यूमेंट पर उससे साइन लिया गया। इस पर शक होने पर उसने एसपी प्रतापगढ़ के आफिस जाकर जब जानकारी की तब भंडाफोड़ हुआ कि ऐसा आदेश डाक और आन लाइन नहीं आया है। उसने जब रजनीश से इस पर बात की तो उसने विजय गुप्ता का हवाला देकर मंत्रालय से गुप्त जांच की जानकारी दी। इसके कुछ दिन बाद रजनीश ने विजय गुप्ता के हवाले से घूस में 25 लाख की डिमांड की, जबकि पद की कीमत एक करोड़ बताई, कहा गया आपकी प्रोफाइल अच्छी है इसलिए कीमत कम की गई है।
स्मृति ईरानी के निजी सचिव ने की वर्तिका की शिकायत
केंद्रीय मंत्री के निजी सचिव विजय गुप्ता ने एसपी अमेठी दिनेश सिंह को 21 नवंबर को पत्र लिखकर कहा कि वर्तिका ने कूट रचना कर मेरे विरूद्ध निराधार व असत्य आरोप लगाए हैं। इससे मुझे मानसिक रूप से परेशानी हुई और सामाजिक छवि को क्षति पहुंचाने का प्रयास किया गया। जिसकी जांच अति आवश्यक है। निजी सचिव ने ये भी लिखा कि कमल किशोर कमांडो नाम के व्यक्ति ने भी सोशल मीडिया पर तथ्यों को जाने बगैर फर्जी तरीके से कुछ चीजें वायरल कर सामाजिक छवि को खराब करने का प्रयास किया। निजी सचिव ने शामिल लोगों की जांच कराकर विधिक कार्रवाई की मांग की थी।

तब स्मृति ने कहा था- इनका संबंध गांधी खानदान से है
अंतर्राष्ट्रीय शूटर वर्तिका मामले में 26 दिसंबर 2020 को अमेठी में पहली बार केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने खुलकर बोला था। उन्होंने कहा था अमेठी कांग्रेस का गढ़ रहा है, लेकिन अगर कांग्रेस पार्टी को मुझ पर कटाक्ष करना है तो कम से कम ऐसे प्यादे खड़े ना करे जिनका डायरेक्ट संबंध गांधी खानदान से है।" स्मृति ने आरोपों को सिरे से खारिज करते हुए गांधी परिवार पर हमला बोला था कि इस प्रकरण (वर्तिका सिंह केस) में फर्जीवाड़े के तीन मुकदमे दर्ज कराए जा चुके हैं। भारत सरकार के उपक्रमों के आधार पर फर्जी दस्तावेज लिखे गए। साथ ही पहले से ही इस पर दो संदिग्ध अपराधों में एफआईआर अयोध्या और लखनऊ में दर्ज है।

खबरें और भी हैं...