अनुप्रिया पटेल का इंटरव्यू:राजभर को मेरी सलाह- आप अपनी पार्टी स्थिर कर लें, मैं कहीं नहीं जाने वाली

लखनऊ10 महीने पहले

यूपी में चुनाव की तैयारियों को लेकर सभी राजनीतिक दल दिन-रात एक किए हैं। भाजपा की सहयोगी अपना दल (एस) की राष्ट्रीय अध्यक्ष और केंद्रीय राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल ने बताया कि इस बार उनको पहले से ज्यादा सीटें मिलेंगी। दैनिक भास्कर से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि सीटों की जो डिमांड भाजपा के सामने रखी गई थी, उसको मान लिया गया है।

अपना दल (एस) सपा के संपर्क में है, यह दावा बार-बार ओपी राजभर कर रहे हैं। इस सवाल पर अनुप्रिया पटेल ने कहा- 'वह पहले खुद एक जगह स्थिर हो जाएं। यही प्रार्थना उनके लिए मैं करती हूं।' पेश है अनुप्रिया पटेल से हुई बातचीत के मुख्य अंश।

सवाल : यूपी चुनाव में आपका प्लान क्या रहेगा?

जवाब : पार्टी पूरी तरह से चुनाव के लिए तैयार है। चुनाव लड़ने की चाह रखने वाले सभी लोगों ने आवेदन कर दिया है। सीटों की संख्या, कौन सी सीट पर हम लड़ने जा रहे हैं, बहुत जल्द डिक्लेयर कर देंगे। उसके बाद आए हुए आवेदनों में से जीतने लायक प्रत्याशियों टिकट दिया जाएगा।

2022 के चुनाव में एनडीए जानदार, शानदार और जबरदस्त परफॉर्मेंस करेगा।
2022 के चुनाव में एनडीए जानदार, शानदार और जबरदस्त परफॉर्मेंस करेगा।

सवाल : आपने रामपुर की स्वार सीट से प्रत्याशी उतार दिया। पूरी लिस्ट कब जारी होगी?

जवाब : वह शुरुआती चरण की सीट का चुनाव है। उस सीट पर सहमति बन गई है, इसलिए उम्मीदवार का ऐलान किया गया है। वह बहुत ही प्रतिष्ठित राजनीतिक परिवार के व्यक्ति हैं। जनता का उस परिवार से बहुत लगाव है। उनकी बहुत ही साफ-सुथरी छवि है। मुझे पूरा भरोसा है कि वह प्रत्याशी चुनाव जीतेगा।

सवाल : इस बार एनडीए को कितनी सीटें मिलेंगी?

जवाब : मैं सीटों की संख्या के जाल में नहीं उलझना चाहती, लेकिन भरोसा जरूर दिलाती हूं। 2022 के चुनाव के परिणाम जब मार्च में आएंगे, तो एनडीए जानदार, शानदार और जबरदस्त परफॉर्मेंस करेगा।

सवाल : कोरोना के बीच छोटे दलों को चुनाव लड़ने में दिक्कतें तो आ रही होंगी?

जवाब : पहले तो मैं यह स्पष्ट कर दूं कि हम सीमित सीटों पर चुनाव नहीं लड़ेंगे। जब हम अपनी सीटों की औपचारिक घोषणा करेंगे, तब आप देखेंगे कि यूपी में हमारा और संगठन का विस्तार हो रहा है। अलग-अलग जिलों में हम पूरे प्रदेश में सीटों पर चुनाव लड़ने जा रहे हैं।

सवाल : वर्चुअल प्रचार-प्रसार की तैयारियां पूरी कर ली हैं?

जवाब : निश्चित रूप से छोटी पार्टियों के लिए वर्चुअल कैंपेनिंग एक चुनौती है। मशीनरी स्ट्रक्चर हमारे पास उतना नहीं होता, जितना बड़े दलों के पास होता है। मगर कोरोना ने एक अनुभव दिया है वर्चुअल मीटिंग करने का। आज मैंने देखा है चुनाव आयोग ने छोटी-सी राह दिखाई है। 5 लोगों की या फिर 50 फीसदी कैपेसिटी के साथ ग्राउंड में मीटिंग की परमिशन दी है। ओमिक्रॉन के प्रसार को देखते हुए और क्या रास्ता निकाला जाए, यह सोचने वाला सवाल है।

सवाल : आपकी पार्टी की कितनी सीटें पिछली बार से ज्यादा होंगी?

जवाब : सीट बढ़कर तो मिलनी हैं। इसमें कोई संदेह भी नहीं है। मगर, मैं इतना ही कहूंगी कि पहले से ज्यादा सीटों पर चुनाव लड़ने जा रही हूं। यूपी में आप हमारा विस्तार देखेंगे। बहुत जल्द फिनिशिंग टच हम देने वाले हैं। जल्द ही हम बताएंगे कि किन-किन सीटों पर चुनाव लड़ने वाले हैं।

सवाल : ओपी राजभर दावा कर रहे हैं कि आप भी सपा के संपर्क में हैं?

जवाब : मैं सिर्फ इतना ही कहना चाहती हूं कि ओम प्रकाश राजभर जी एक जगह स्थिर हो जाएं। यह संदेह हमारे मन में आज भी है और बार-बार आता रहता है। अब यही प्रार्थना है कि ओपी राजभर एक जगह टिके रह जाएं।

खबरें और भी हैं...