सॉल्वर गैंग के तार KGMU से जुड़ने पर मचा हड़कंप:गिरफ्तार हुआ MBBS 2016 बैच का छात्र ओसामा,NEET परीक्षा के सॉल्वर गैंग का अहम सदस्य,KGMU बना मामलें से अनजान

लखनऊ4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
KGMU का छात्र NEET परीक्षा के सॉल्वर गैंग का अहम सदस्य,वाराणसी में गिरफ्तारी के बाद चिकित्सा विश्वविद्यालय में मचा हड़कंप - प्रतीकात्मक चित्र - Dainik Bhaskar
KGMU का छात्र NEET परीक्षा के सॉल्वर गैंग का अहम सदस्य,वाराणसी में गिरफ्तारी के बाद चिकित्सा विश्वविद्यालय में मचा हड़कंप - प्रतीकात्मक चित्र

उत्तर प्रदेश के सबसे बड़े चिकित्सा विश्वविद्यालय KGMU यानी किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी के छात्रओसामा की वाराणसी में गिरफ्तारी के बाद से लखनऊ में भी हड़कंप मच गया है।ओसामा शाहिद KGMU का 2016 बैच का स्टूडेंट रहा है और पुलिस इन्वेस्टीगेशन में उसका नाम NEET परीक्षा के सॉल्वर गैंग के अहम सदस्य के रुप उभर के सामने आया है।मंगलवार को वाराणसी में ओसामा समेत 2 सदस्यों को पुलिस की गिरफ्तारी की बाद से KGMU परिसर में आज अफरा तफरी का माहौल रहा।वही इस मसले पर केजीएमयू प्रशासन फिलहाल कुछ भी बोलने से बचता नजर आ रहा है और जांच एजेंसी से औपचारिक सूचना मिलने के बाद ही अपनी तरफ से कारवाई की बात कही जा रही है।

KGMU प्रशासन कह रहा सरकारी जांच एजेंसी से जानकारी न मिलने की बात

वाराणसी में NEET परीक्षा में सेंधमारी का खुलासा पुलिस ने किया।इसमें KGMU में एमबीबीएस अंतिम वर्ष के छात्र के हाथ होने की खबर से चिकित्सा विश्वविद्यालय में हड़कंप मच गया।हालांकि KGMU प्रशासन अभी तक किसी जांच एजेंसी से इस बात की पुष्टि न होने का दावा कर हाथ खड़े कर रहा है पर अंदरखाने में अफरा तफरी का माहौल जरुर है।KGMU प्रवक्ता डॉ सुधीर ने बताया कि अभी पुलिस की तरफ से कोई पत्र हमें नही मिला है।

बोले प्रॉक्टर - 2016 बैच के ओसामा की गाइनी में रही सप्लीमेंट्री

वही KGMU प्रॉक्टर डॉ. क्षितिज कुमार ने भास्कर को बताया कि केजीएमयू के छात्र का नाम सॉल्वर गैंग में होने की जानकारी मीडिया व अखबारों के माध्यम से मिली है।मऊ निवासी 2016 बैच का छात्र ओसामा शाहिद का इसमें नाम सामने आ रहे है।इसके बैच के स्टूडेंट इंटर्नशिप कर रहे है पर गाइनी में सप्लीमेंट्री होने के कारण यह इंटर्नशिप नही कर सका।यह छात्र डे स्कॉलर रहा यानी परिसर के हॉस्टल में नही रुकता था।फिलहाल संस्थान को कोई लिखित पत्र नहीं मिला है।पत्र आते ही संस्थान अपने स्तर से जरुर जांच करवाएगा।गलत कार्यों में संलिप्त छात्र पर जरुर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

विवादों से रहा है KGMU का पुराना नाता

NIRF रैंकिंग में देश के टॉप टेन चिकित्सा संस्थानों में शुमार KGMU का विवादों से भी पुराना नाता रहा।मेडिकल की परीक्षा में सेंधमारी में इसका नाम पहले भी आया है।केजीएमयू के छात्र सीपीएमटी से लेकर नीट तक की धांधली में शामिल रहे।मध्य प्रदेश के व्यापम घोटाले के तार भी यहां तक पहुंचे थे।उस मामले में भी यहां के कुछ लोगों को गिरफ्तार किया गया था।यही नहीं केजीएमयू के कई शिक्षकों पर भी पैसे लेकर एमबीबीएस में दाखिला दिलाने के आरोप लग चुके हैं। शिकायत के आधार पर शिक्षकों की जांच और फिर कार्रवाई भी हो चुकी है।

वाराणसी में हुआ था गैंग बेनकाब

पुलिस ने जांच में पाया कि सॉल्वर बनी छात्रा और मूल अभ्यर्थी का चेहरा मिलता-जुलता था।गैंग ने इसी का फायदा उठाया और फोटोशॉप से एडमिट कार्ड के फोटो चेंज किए।पकड़ी न जाए इसलिए सैकड़ों बार मूल अभ्यर्थी के हस्ताक्षर का अभ्यास कराया गया।पुलिस ने पाया कि गैंग में केजीएमयू का एक डॉक्टर भी शामिल है।छात्रा के साथ उसकी मां भी गिरफ्तार की गई है। गैंग का मास्टर माइंड पटना का कोई PK बताया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...