• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lucknow
  • KGMU Patients Who Have Applied Both Doses Of Vaccine, Get Exemption In Bringing RT PCR Test Report, Will Be Able To Take Medical Consultation With Vaccine Certificate

KGMU में OPD मरीजों के लिए नए नियम:वैक्सीन की दोनों डोज लगा चुके मरीजों को RT-PCR टेस्ट रिपोर्ट लाने में मिली छूट,वैक्सीन सर्टिफिकेट के साथ ले सकेंगे चिकित्सकीय परामर्श

लखनऊ4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
KGMU - OPD में मरीजों के रजिस्ट्रेशन के लिए नेगेटिव RT - PCR रिपोर्ट की बाध्यता डबल डोज वैक्सीनेशन कराने वालों पर नही लागू होगी - Dainik Bhaskar
KGMU - OPD में मरीजों के रजिस्ट्रेशन के लिए नेगेटिव RT - PCR रिपोर्ट की बाध्यता डबल डोज वैक्सीनेशन कराने वालों पर नही लागू होगी

प्रदेश के सबसे बड़े चिकित्सा संस्थान ने ओपीडी मरीजों को बड़ी राहत दी है।अभी तक चिकित्सक को दिखाने से पहले मरीज को कोरोना की जांच रिपोर्ट साथ लेकर आने के निर्देश थे।अब इस नियम में बदलाव करते हुए KGMU प्रशासन ने आदेश जारी किए है कि कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज लगवा चुके मरीजों को आरटी-पीसीआर की नेगेटिव जांच रिपोर्ट दिखाने की जरूरत नहीं।अब मरीजों का सीधे पंजीकरण शुरू हो सकेगा।औसतन KGMU की OPD में 8 से 10 हजार मरीज देखे जाते थे।हालांकि कोरोना की दूसरी लहर के बाद इसमें कमी आई है और अब ओपीडी में करीब तीन हजार मरीज में आ रहे हैं पर इस नियम में ढिलाई के बाद उम्मीद की जा सकती है कि अब इस संख्या में इजाफा होगा।

प्राइवेट लैब से RT-PCR जांच कराने को मजबूर थे मरीज

अभी तक OPD में पंजीकरण से पहले कोरोना की आरटी-पीसीआर जांच जरूरी थी।इसकी वजह से मरीजों को खासी दिक्कतें झेलनी पड़ रही थी। तीन दिन के भीतर की रिपोर्ट दिखाने के बाद ही पंजीकरण हो रहा था। बड़ी संख्या में मरीज प्राइवेट पैथोलॉजी से कोरोना की जांच कराने को मजबूर थे।इसके लिए मरीजों को जेब भी ढीली करनी पड़ती है।

नई व्यवस्था हुई लागू

KGMU प्रवक्ता डॉ सुधीर सिंह ने बताया कि नई व्यवस्था लागू कर दी गई है।मरीजों की सहूलियत के लिए वैक्सीन की दोनों डोज लगवाने वालों का सीधे पंजीकरण करने का फैसला किया है।अब वैक्सीन लगवाने वाले ऑनलाइन पंजीकरण करा सकते हैं।वहीं जिन्होंने वैक्सीन नहीं लगवाई है उन्हें पूर्व की भांति आरटी-पीसीआर जांच करानी होगी।

आठ बुखार पीड़ितों ने कराई जांच, छह में टायफाइड की पुष्टि

संक्रामक बीमारी बालू अड्डा के लोगों का पीछा नहीं छोड़ रही है। कॉलरा और बुखार के बाद अब टायफाइड फैल गया है। बड़ी संख्या में बुखार पीड़ितों में टायफाइड की पुष्टि हुई है। स्वास्थ्य विभाग लगातार बुखार पीड़ितों की जांच करा रहा है।

बीमारी का गढ़ बना बालू अड्डा

कई एक महीने से बालू अड्डा में बीमारी फैली है।डायरिया के लक्षणों वाले दो मरीजों की मौत हो चुकी है। इसके बाद स्वास्थ्य विभाग ने पानी की जांच कराई। जांच में कॉलरा की पुष्टि हुई। स्वास्थ्य विभाग ने इलाके के मरीजों की इलाज की रणनीति बदली। धीरे-धीरे स्थिति काबू में आ गई। इसके बाद बुखार ने इलाके के लोगों को जकड़ लिया है।

आठ में से छह में हुई टायफाइड की पुष्टि

शुक्रवार को आठ मरीजों की जांच कराई गई। इसमें छह मरीजों में टायफाइड की पुष्टि हुई है।काफी मरीज प्राइवेट क्लीनिक में इलाज करा रहे हैं।इन मरीजों में भी डॉक्टरों ने टायफाइड की आशंका जाहिर की है।

खबरें और भी हैं...