• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lucknow
  • Kheri Violence Farmers Blocked The Highway In Pilibhit, BKU Workers Lying On The Delhi Saharanpur Highway In Shamli; Tomorrow These Leaders Will Go To Lakhimpur Kheri

लखीमपुर खीरी हिंसा... UP में सियासी जमावड़ा:शामली में दिल्ली-सहारनपुर हाईवे पर लेटे भाकियू कार्यकर्ता,सीतापुर में खैराबाद टोल प्लाजा पर रोका गया चंद्रशेखर आजाद का काफिला

लखनऊ3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चंद्रशेखर आजाद का काफिला सीतापुर में खैराबाद टोल प्लाजा पर पुलिस ने रोक लिया। - Dainik Bhaskar
चंद्रशेखर आजाद का काफिला सीतापुर में खैराबाद टोल प्लाजा पर पुलिस ने रोक लिया।

यूपी के लखीमपुर खीरी में किसान आंदोलन के दौरान हुई हिंसा में किसानों की मौत से माहौल गरमा गया है। इसी के चलते कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा देर रात ही लखनऊ पहुंचीं हैं। बताया जा रहा है कि प्रियंका गांधी लखीमपुर खीरी रवाना हो रही है।

वहीं लखीमपुर खीरी जाने के लिए रात में निकले चंद्रशेखर आजाद का काफिला सीतापुर में खैराबाद टोल प्लाजा पर पुलिस ने रोक लिया। चंद्रशेखर को पुलिस लाइन लेकर जाया जा रहा है। उधर, प्रदेश भर में विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया है। किसान सड़कों पर उतर कर प्रदर्शन कर रहे हैं। कई जगहों पर हाईवे जाम कर दिया गया है।

आरोप है कि केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा के बेटे ने किसानों के ऊपर गाड़ी चढ़ा दी, इसी के खिलाफ किसान अपना विरोध जता रहे हैं। किसानों ने सोमवार को DM दफ्तरों के बाहर धरने देना का ऐलान किया है। भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत गाजियाबाद के गाजीपुर बॉर्डर से रविवार शाम ही काफिले संग लखीमपुर के लिए रवाना हो गए हैं।

किसानों के प्रदर्शन को देखते हुए यूपी के 27 जिलों में अलर्ट जारी कर दिया गया है। लखीमपुर खीरी में इंटरनेट सेवाएं भी बंद कर दी गई हैं। बताया जा रहा है कि सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव, छत्तीसगढ़ के CM भूपेश बघेल, प्रसपा चीफ शिवपाल यादव और बसपा महासचिव सतीश चंद्र मिश्र समेत कई अन्य दलों के नेता सोमवार को लखीमपुर पहुंचेंगे।

आरोप है कि केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा के बेटे ने किसानों के ऊपर गाड़ी चढ़ा दी, इसी के खिलाफ किसान अपना विरोध जता रहे हैं।
आरोप है कि केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा के बेटे ने किसानों के ऊपर गाड़ी चढ़ा दी, इसी के खिलाफ किसान अपना विरोध जता रहे हैं।

इन जिलों में प्रदर्शन

पीलीभीत

किसान सड़कों पर उतर आए हैं। जाम लगाकर किसान विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।
किसान सड़कों पर उतर आए हैं। जाम लगाकर किसान विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।

किसान सड़कों पर उतर आए हैं। जाम लगाकर किसान विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। पूरनपुर तहसील क्षेत्र में घुघचाई चौराहे पर किसानों ने हाईवे पर जाम लगा दिया है। समाजवादी पार्टी के जिलाध्यक्ष जगदीश सिंह चक्का भी कार्यकर्ताओं के साथ हाईवे पर बैठकर प्रदर्शन कर रहे हैं।

बागपत
नेशनल हाइवे 709 बी (दिल्ली यमुनोत्री हाइवे) पर बागपत के किशनपुर बराल गांव के पास लगभग 150 किसान इस समय एकत्रित होकर बैठ गए हैं। पुलिस बल भी वहां पहुंच रहा है।

शामली
भारतीय किसान यूनियन के नेता सवित मलिक किसानों के साथ नेशनल हाईवे दिल्ली-सहारनपुर मार्ग पर लेटकर धरना प्रदर्शन कर रहे हैं। वहीं आदर्श मंडी थाना क्षेत्र के गुरुद्वारे पर ट्रैक्टर से किसानों के आने का सिलसिला शुरू हो गया है।

किसानों के प्रदर्शन को देखते हुए यूपी के 27 जिलों में अलर्ट जारी कर दिया गया है।
किसानों के प्रदर्शन को देखते हुए यूपी के 27 जिलों में अलर्ट जारी कर दिया गया है।

6 मंडलों में पूरी तरह से अलर्ट
मंडल के मेरठ, गाजियाबाद, गौतमबुद्धनगर, हापुड़, बागपत, बुलंदशहर में अलर्ट किया गया है। सहारनपुर मंडल के सहारनपुर, शामली, मुजफ्फरनगर में पुलिस प्रशासन को विशेष सावधानी के निर्देश दिए गये हैं। पीलीभीत, बरेली, बदायूं, आगरा, मथुरा, मुरादाबाद, अमरोहा, नोएडा, बुलंदशहर, मेरठ, हापुड़, अलीगढ़, हाथरस, मुजफ्फरनगर, रामपुर, शाहजहांपुर, एटा, फिरोजाबाद, मैनपुरी, बिजनौर, फर्रुखाबाद, इटावा, औरैया।

IPS अजय पाल शर्मा भेजे गए लखीमपुर खीरी
आईपीएस अजय पाल शर्मा को हालात को संभालने के लिए लखीमपुर खीरी भेजा गया है। अजयपाल शर्मा यूपी 112 मुख्यालय में एसपी हैं। पीलीभीत में किसानों के प्रदर्शन के दौरान दो महीने से ज्यादा समय तक हालात को संभाला था।

मंत्री बोले- मेरा बेटा वहां था ही नहीं
अजय मिश्रा ने कहा कि अब लोग इस पर राजनीति करने के उद्देश्य से इस तहर की बयानबाजी कर रहे हैं कि मैं और मेरा बेटा इसमें थे, लेकिन मैं उस कार्यक्रम स्थल पर पिछले 15 दिनों से नहीं गया था। जहां तक मेरे बेटे का प्रश्न है तो हम जो अपना कार्यक्रम करते हैं, उसमें हजारों लोग शामिल होते हैं। पुलिस और प्रशासन के लोग भी रहते हैं।

कार्यक्रम की फोटो और वीडियोग्राफी होती है। पूरे कार्यक्रम के दौरान शुरू होने से समाप्त होने तक मेरे बेटा बलबीर पुर गांव में उपस्थित था, क्योंकि मैं रूट डायवर्जन होकर कार्यक्रम स्थल पर गया था, तो मेरा भी उस रास्ते से पहुंचने का कोई मकसद नहीं था। जिस तहर से उपद्रवियों ने वहां घटना की, अगर मेरा बेटा भी वहां होता तो उसकी भी पीट-पीटकर हत्या कर देते।

खबरें और भी हैं...