मंत्री का बेटा थार में था, सबूत मिला:CCTV फुटेज में जीप में बैठते हुए दिखाई दिया लखीमपुर केस का आरोपी आशीष मिश्र; इसी के आधार पर SIT ने की थी गिरफ्तारी

लखनऊ2 महीने पहले

लखीमपुर हिंसा मामले में SIT के हाथ बड़ा सबूत हाथ लगा है। पुलिस ने घटनास्थल के पास से दो दुकानों के DVR जब्त किए थे। सूत्रों के मुताबिक, जिस वक्त तिकुनिया में हिंसा हुई उस वक्त केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा का आरोपी बेटा आशीष घटनास्थल पर ही था। उस वक्त उसने सफेद शर्ट पहन रखी थी। SIT को मिले CCTV में वह दिख भी रहा है। पुलिस ने इसी फुटेज के आधार पर आशीष को गिरफ्तार किया है।

जिस थार जीप से किसानों को कुचला गया था, उसमें आरोपी आशीष की तरह सफेद शर्ट पहने हुए एक व्यक्ति बैठा दिख रहा है। हालांकि, हिंसा के बाद दावा किया गया था कि जीप ड्राइवर हरिओम चला रहा था और उसने सफेद रंग की शर्ट पहन रखी थी। उसकी किसानों ने पीट-पीटकर हत्या कर दी थी, लेकिन ड्राइवर हरिओम का शव पीले रंग की धारीदार शर्ट में बरामद हुआ था।

लखीमपुर में किसानों की मौत के बाद भीड़ ने गाड़ियों को आग लगा दी थी।
लखीमपुर में किसानों की मौत के बाद भीड़ ने गाड़ियों को आग लगा दी थी।

पुलिस ने राइफल और पिस्टल जब्त की
पुलिस ने एक लाइसेंसी राइफल और पिस्टल को भी जब्त किया है, जिसे फॉरेंसिक जांच के लिए भेजा गया है। ये दोनों असलहे आशीष मिश्रा के नाम हैं। एक मोबाइल भी जब्त किया गया है। आज (सोमवार) आशीष मिश्रा के पुलिस कस्टडी पर सुनवाई शुरू हो गई है। पुलिस ने 14 दिन की रिमांड मांगी है। 9 अक्टूबर की देर रात आशीष को गिरफ्तारी के बाद 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेजा गया था।

आशीष की थार जीप का बीमा नहीं था
आशीष की थार का 13 जुलाई 2018 से बीमा भी नहीं है। जिसके चलते मोटर व्हीकल एक्ट में भी कार्रवाई होगी। इसके चलते मृतक के क्लेम करने पर उन्हें ही मुआवजे की राशि भुगतान करनी होगी, यदि कोर्ट से पीड़ित पक्ष को मुआवजा देने के लिए मांग करेगा और कोर्ट उसके पक्ष में निर्णय देगी।

लखीमपुर में किसानों के कुचले जाने के बाद हिंसा भड़की थी। इस दिन 8 मौतें हुई थीं।
लखीमपुर में किसानों के कुचले जाने के बाद हिंसा भड़की थी। इस दिन 8 मौतें हुई थीं।

लखीमपुर में रविवार को क्या हुआ था?
लखीमपुर जिला मुख्यालय से करीब 70 किलोमीटर दूर नेपाल की सीमा से सटे तिकुनिया गांव में 3 अक्टूबर को दोपहर करीब तीन बजे किसान भारी मात्रा में प्रदर्शन कर रहे थे, तभी अचानक से तीन गाड़ियां (थार जीप, फॉर्च्यूनर और स्कॉर्पियो) किसानों को रौंदते चली गईं। घटना से आक्रोशित किसानों ने जमकर हंगामा किया। इस हिंसा में कुल 8 लोगों की मौत हो गई। इसमें 4 किसान, एक स्थानीय पत्रकार, दो भाजपा कार्यकर्ता शामिल हैं।

यह घटना तिकुनिया में आयोजित दंगल कार्यक्रम में UP के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के पहुंचने से पहले हुई। घटना के बाद उप मुख्यमंत्री ने अपना दौरा रद्द कर दिया था। आरोप है कि केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा की कार ने विरोध प्रदर्शन कर रहे किसानों को कुचला। इसके बाद UP में सियासत तेज हो गई है।

खबरें और भी हैं...